What’s ROM in HIndi

0
8


ROM एक non unstable Reminiscence होती है. इसका मतलब की यह एक ऐसी reminiscence instrument या garage medium होती है जो की data को completely retailer करती है.

ROM का Complete Shape होता है “Learn Best Reminiscence“. इसके बारे मै आपको पिछले Article में बताया था ये Laptop का Number one Reminiscence का ही हिस्सा है. तो थोडा और याद दिलादेता हु Laptop में दो तरह की Reminiscence होते है Number one और Secondary, Number one Reminiscence दो प्रकार के होते है एक RAM और दूसरा ROM.

rom kya hai hindi

इसका पूरा नाम है Learn Best Reminiscence इसके नाम से ही आपको पता चल रहा होगा की इस Reminiscence को हम बस Learn कर सकते है. इसमें fastened Program रहता है (या फिर Everlasting Reminiscence बोल सकता है) ,इस Program को हम आसानी से बदल नहीं सकते, जैसे इसका सही जवाब है जब आप Laptop को खरीद ते हो  उसमे में BIOS program पहले से ही रहता है.

ये Gadget को on करने में मदद करता है और इसके साथ ये BOIS Laptop और Working Gadget को Hyperlink करता है.

तो ये BIOS नए Laptop में पहले से ही रहता है और ये जिस Reminiscence में रहता है उसी का नाम है ROM और एक उदाहरण है FIRMWARE Tool program है जो की {Hardware} के साथ Connect रहता है. और Firmware में जो program है वो भी एक Rom Chip में रहता है.

इस Reminiscence को Non-Unstable Reminiscence भी बोला ज्याता है. इस Reminiscence को तभी बनाया ज्याता जब Laptop बनते है. ROM को बस Laptop या फिर Cell में इस्तेमाल नहीं होते इसे हम कुछ और Digital Tool में भी इस्तेमाल कर सकते हैं.

जैसे WASHING Device, Microwave Oven, TV, AC, Carry वगेरा में. तो बदलते Era की वजह से ROM के भी अलग अलग Kind होते हैं. इसके बारे में हम आगे बात करेंगे Sorts Of ROM in Hindi.

ROM की विशेषताएँ

चलिए अब ROM की विसेश्ताओं के ऊपर गौर करते हैं.
•  ROM एक स्थायी मेमोरी या everlasting reminiscence होती हैं.
•  इसमें Laptop की सभी Elementary Capability के निर्देश को स्टोर किया जाता है.
•  ROM केवल Readable होती हैं. मतलब की इसमें स्तिथ data को केवल learn किया जा सकता है.
•  कीमत की बात करें तब ROM, RAM की तुलना में सस्ती होती हैं.
•  ROM बहुत ही कम उर्जा का इस्तमाल करते हैं वहीँ वो बहुत ही ज्यादा dependable होते हैं.

ROM कितने प्रकार के हैं (Sorts Of ROM in Hindi)

इस लेख में कुछ सब्द हैं जैसे Information, Instruction, Program सबका मतलब एक ही है Confuse मत होना और एक Time period “Programmed” है इसका मतलब यह है की ये बोहत सारे Command होते हैं जो की एक Job करते है, जैसे एक Tool करता है.

वैसे ही यहाँ पे Laptop On करने का काम एक Tool program करता है, जिसका नाम है Firmware जो की ROM में रहता है. वैसे तो ROM Four Sorts के हैं जो की निचे दिए गए हैं और उनकी जानकारी भी है.

  1. MROM (Masked Learn Best Reminiscence)
  2. PROM (Programmable Learn-Best Reminiscence)
  3. EPROM (Erasable and Programmable Learn-Best Reminiscence)
  4. EEPROM (Electrically Erasable and Programmable Learn-Best Reminiscence)

1.Masked Learn Best Reminiscence

ये सबसे पहला वाला ROM है, ये आज कल की दुनिया में इसका इस्तेमाल बिलकुल ही नहीं होता. ये Learn Best Reminiscence Laborious Stressed out Gadgets है. जिसमे पहले से Pre-Programmed Information और Instruction Retailer किया ज्याता था. इस तरह के Reminiscence काफी महंगे हुआ करते थे. उस ज़माने में, अभी MROM कंही भी नहीं मिलेगा.

2.Programmable Learn Best Reminiscence

ये एक ऐसा Learn Best Reminiscence है जिसको हम बस एक बार ही बदल सकते हैं. यहाँ पे बदलना मतलब PROM में कुछ नया Program डालना और  एक इसको replace भी बोला ज्याता है. एक बार Replace करने के बाद कोई भी इसको दोबारा Replace नहीं कर सकता.

Person Clean PROM खरीद ता है और उसके बाद उसमे जो Instruction डालना चाहता है वो दाल सकता है (Instruction मतलब कुछ command होते है जो कुछ काम करते हैं).

इस Reminiscence में छोटे छोटे fuse होते हैं, जिनके अंदर programming के जरिये Instruction डाला ज्याता है. इसको एक बार programmed करने के बाद दोबारा Erase नहीं कर सकते.

3.Erasable and Programmable Learn Best Reminiscence

इस ROM का और एक Kind है, इसकी खासियत यह है की इसको हम Erase भी कर सकते हैं और फिर से programmed भी कर सकते हैं. इस reminiscence को erase करने का तरीका काफी अलग है जिसमे आपको इस Reminiscence को 40 Minute तक Extremely Violet Mild से cross किया जाता  है तब जाके ये Reminiscence खाली होती है.

थोडा और विस्तार में जानते हैं इस काम को हासिल करने के लिए “EPROM Eraser” का भी इस्तेमाल होता है. Programming करते वक्त, (Programming करने का मतलब वही है Replace करना या फिर कुछ नया Program डालना) इसके अंदर Rate को डाला ज्याता है, जो की करीबन 10 सालो से भी जादा तक रखा जाता है क्यूंकि Rate को बहार निकलने के लिए कोई रास्ता नहीं होता इसलिए वो उस Reminiscence के अंदर रह जाता  है.

तो इसी Rate (instruction) को Erase करने के लिए Extremely Violet Mild को Quartz Crystal Window (lid) के जरिये Go किया ज्याता है. इस Mild के प्रभाव से ही सब Rate Erase हो ज्याता है. ये थी कुछ जानकारी Erasable and Programmable ROM के बारे में.

4.Electrically Erasable and Programmable Learn Best Reminiscence

Era के बदलाव से Learn Best Reminiscence को भी बार बार बदलने की जरुरत पड़ी, इसी वजह से इस Reminiscence का इस्तेमाल हुआ. इसकी खासियत यह है की इसको हम 10 हजार बार Erase कर सकते हैं और Programmed कर सकते हो और बस Four से 10 Millisecond के अंदर हम इसको Erase और Programmed भी कर सकते हैं.

हम इसमें Reminiscence के कोई भी Location को Make a selection कर सकते हैं और उसी को हम Erase और Programmed कर सकते हैं. हम को पुरे Chip को खाली करने की कोई जरुरत ही नहीं पड़ती. इस Benefit की वजह से ये EEPROM आसन है पर धीरे है.

तो अबतक आप जान ही गए ROM क्या है (What’s ROM in Hindi) और Kinds of ROM in Hindi अब उसके लाभ के बारे में जानते हैं.

ROM कैसे काम करता है ?

जब भी हम Laptop को Transfer On करते हैं, तब आपके Laptop और एक चट्टान में ज्यादा अंतर नहीं होता है. मतलब की दोनों की computing energy एक समान ही होती है.

इसलिए कुछ तो चाहिए जो की आपके laptop के भीतर होना चाहिए जो की उसे ये बताए की उसमें दुसरे hardwares जैसे की keyboard, mouse, disk force सभी hooked up हैं.

इसी को generically कहा जाता है “BIOS” (Elementary Enter Output Gadget). भले ही शुरुवात में आपका laptop इतना ज्यादा sensible न हो लेकिन ये BIOS chip जो की laptop में होते हैं वो laptop को मदद करते हैं वो सभी startup routines को get admission to करने में जो की saved होते हैं एक disk force, और इसमें वो RAM का भी इस्तमाल करते हैं सभी प्रकार के computations के लिए.

ये BIOS saved होते हैं एक ROM chip, अन्यथा laptop को पता कैसे चले की उसके साथ दुसरे क्या hardwares assoicited हैं.

RAM के तरह ही ROM chips में भी columns और rows के grid होते हैं. लेकिन जहाँ पर ये columns और rows intersect करते हैं, वो इन ROM chips में essentially अलग होते हैं RAM chips की तुलना में.

जहाँ RAM transistors का इस्तमाल करते हैं एक capacitor को activate या off करने के लिए, उसे intersection में get admission to करने के लिए, वहीँ ROM diode का इस्तमाल करते हैं इन traces को attach करने के लिए अगर उनकी price हो 1. वहीँ अगर उनकी price zero हो तब traces बिलकुल ही attached नहीं होते हैं.

ROM chip को सही ढंग से कार्य करने के लिए उसकी programming पूरी तरह से highest होना बहुत ही आवश्यक होता है और उसके साथ whole knowledge का होना भी महत्वपूर्ण है जब chip को create किया जा रहा हो. ऐसा इसलिए क्यूंकि आप एक usual ROM chip को दुबारा reprogram या rewrite नहीं कर सकते हैं.

यदि कुछ गलत हो जाता है या कोई knowledge आपको replace करना होता है तब ऐसे में आपको वो ROM बदलना होता है या नया बनाना होता है. इसलिए ROM Chip के unique template को create करना बहुत ही कठिन कार्य होता है वहीँ इसमें बहुत से trial और error किया जाता है.

Benefits Of ROM in Hindi

तो अब जानते हैं, ROM के क्या क्या फायदे हैं तो उमीद करता उपर की सारी जानकारी समझ आगई होगी.

  • इसकी प्रकृति Non-Unstable है, जो की program स्थाई रूप से रखता है.
  • इसके knowledge अपने आप नहीं बदलते है, बदलने से ही knowledge बदलता है.
  • ये RAM से सस्ता होता है.
  • RAM से ज्यादा भरोसेमंद हैं. क्यूंकि RAM में Information तब तक रहता है जब तक Energy Provide रहता है.
  • ये स्थिर है  और जिसको बार बार Refresh करने की कोई जरुरत नहीं.
  • इसमें knowledge को बोहत सोच समझ के डाला ज्याता है जिसको हम बार बार बदल नहीं सकते.

ये तो कुछ जानकारी थी Benefits Of ROM in Hindi

मेरी अंतिम निर्णय

तो दोस्तों आज की जानकारी थी ROM क्या है (What’s ROM in Hindi) आपको काफी अछि लगी होगी, उमीद करता हूँ आपको ये जानकारी आपके काम आये. वैसे अगर आप Pupil हैं तो ये जानकारी आपके ज्यादा  काम अये गी. अगर आपको RAM के बारे में जानना है तो आप मेरा दूसरा Article भी पढ़ा सकते हो.

इसमें कुछ Time period ऐसे हैं, जिनको समझना मुस्किल हुआ होगा अगर आप Non Technical हैं तो, लेकिन फिर भी कोई सवाल आप पूछना चाहते हो तो निचे Remark Field में जरुर लिखे और हमारे Weblog को जरुर Subscribe करें क्यूंकि हम सरल भाषा Hindi में ज्ञान देते हैं, India को Virtual बनाना है, जय हिंद, धन्यबाद.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here