VPN क्या है और यूज़ कैसे करे

[ad_1]

आज के इस लेख में हम जानेंगे के VPN क्या है और कैसे काम करता है. Android smartphone के customers पूरी दुनिया में हर दिन बढ़ते जा रहे हैं. Web पर हम हर दिन बहुत सी चीजे ढूँढते हैं और उस पर बहुत सारा काम भी करते हैं जैसे on-line transactions, downloading motion pictures and musics, दुसरे-दुसरे internet sites पर check in करने के लिए अपने non-public main points देते हैं, YouTube पर बहुत सारे movies देखते हैं इत्यादि जैसी और भी काम करते हैं. लेकिन web पर अपने non-public main points percentage करना बहुत ही खतरनाक होता है क्यूंकि on-line की दुनिया पूरी तरह से बुरे लोगों से भरी हुयी है जो आपके non-public main points को चुरा कर blackmail भी कर सकते हैं.

Hackers और snoopers हर वक़्त बस इसी ताक में रहते हैं की कब वो किसी व्यक्ति का जरुरी information चोरी कर सकें और उसके बदले में ज्यादा धन की मांग कर पाएंगे. लेकिन धीरे धीरे बदलते वक़्त के साथ web की safety का ध्यान रखा जा रहा है और उसमे कुछ बदलाओ भी हो रहे हैं.

हम सब खुशकिस्मत हैं की आज के वक़्त में on-line काम करते वक़्त जिस डर का हम हर वक़्त सामना करते हैं उस डर से निकलने का एक आसान राश्ता हमारे पास मौजूद है और उसका नाम है VPN. VPN के बारे में आप सब ने कभी ना कभी सुना होगा,ये VPN क्या  होता है और कैसे काम करता है? इसके बारे में आज मै आपको बताने वाली हूँ.

वीपीएन क्या है (What’s VPN in Hindi)

VPN kya hai VPN का पूरा नाम है Digital Personal Community, ये एक community की तकनीक है जो public community में जैसे की Web और personal community जैसे की Wi-Fi में सुरक्षित connection बनाता है. VPN एक बहुत ही बढ़िया तरीका है अपने community को सुरक्षित रखने के लिए और अपने non-public information को hackers से बचाने के लिए.

VPN carrier का इस्तेमाल जयादातर on-line काम करने वाले व्यापारी, Organisations, सरकारी companies, tutorial establishments और Company जैसे लोग करते हैं ताकि वो अपने महत्वपूर्ण information को unauthorized customers से बचाकर रख सकें. VPN सभी तरह के information को यानि जो जरुरी है और जो जरुरी नहीं भी है सभी को सुरक्षित रखता है. जो आम व्यक्ति हैं और वो web का इस्तेमाल surfing करने के लिए करते हैं वो भी VPN carrier का इस्तेमाल अपने telephone या Pc पर VPN utility की जरिये कर सकते हैं.

जब बात Web की freedom की आती है भारत में, तब यहाँ पर unfastened web को लेकर बड़ी मारा मारी होती है. ऐसा इसलिय क्यूंकि कई बार native govt common blocking off और get admission to restriction करती है देश के विभिन्न हिस्सों में, ऐसा होने से कई बार downloading और Importing करना बड़ा कठिन हो जाता है, कई बार तो आपको regulations न मानने के कारण Prison भी हो सकता है.

ऐसे में हमें कुछ ऐसी era की जरुरत होती है जिससे की हम खुद के id को protected रख सकें. खुदको secure रखने के मतलब है की VPN के इस्तमाल से ये हमारे id को personal और safe रखता है, वहीँ बहुत से restriction को bypass करने में मदद भी करता है.

VPN कैसे काम करता है – How VPN Works in Hindi

VPN का सबसे अहम् काम होता है आपके connection को या फिर आप web पर जो भी काम कर रहे हैं उन सभी को सुरक्षित रखना. उसके साथ साथ VPN का इस्तेमाल करने का सबसे बड़ा फायेदा ये है की web पर जो भी restrictions होते हैं जैसे कुछ कुछ ऐसे web page हैं जिसको हम अपने देश में get admission to नहीं कर सकते हैं तो वो web page हम VPN की मदद से आसानी से get admission to कर पाएंगे मतलब जो web page आपको पहले देखने की इजाजत नहीं मिलती थी अब वो web page आप VPN के जरिये से देख सकते हैं.

जब हम अपने tool को VPN के साथ attach करते हैं तब वो tool एक native community की तरह काम करता है और हम जब भी उस web page को अपने telephone के browser में डाल कर seek करते हैं जो हमारे देश में block है तब VPN अपना काम करना शुरू करता है. Consumer के request को उस blocked web page के server पर VPN के जरिये भेजता है और फिर वहां से web page का सारा content material और knowledge consumer के tool में दिखा देता है.

आप एक देश में रहकर दुसरे देश के VPN से जब attach करते हैं तो वो काम होता है tunneling के जरिये और वो काम बड़े ही असानी से हो जाता है क्यूंकि वो web page उस देश में block नहीं है जो हमारे देश में है तो आप वहां के VPN से attach हो जाते हैं उसके बाद उस VPN और आपके VPN के बिच एक community connection बन जाता है जो encrypted होकर रहता है जिसका मतलब है कोई भी उस community से non-public element चोरी नहीं कर सकता और फिर आप उस VPN के जरिये web page को get admission to कर सकते हैं.

उदहारण के तौर पर आपको बताती हूँ की India में Netflix जो है वो अभी आया है लेकिन इससे पहले जब Netflix India में नहीं था और अगर हमे Netflix देखना होता तो हम क्या करते की India में रेह्कर उस VPN से attach कर लेते जिसका server मान लीजिये US में है या UK में है, तो attach होने के बाद हम उस server के जरिये Netflix को बड़े अराम से देख सकते हैं.

ऐसे में ना ही Netflix को ये पता चल पाता है की वो consumer India में है क्यूंकि उसको लगता है की consumer native community यानि की US में ही है और ना ही India में जो restrictions किये हैं उन्हें ये पता लग पायेगा क्यूंकि उनको लगेगा की आपने वो hyperlink जो है वो standard किसी server से बनाया है जो India में ही मौजूद है.

VPN का इस्तेमाल करने के लिए web पर बहुत सारे device मौजूद हैं कुछ unfastened model के हैं और कुछ paid model के हैं जिनका इस्तेमाल आप अपने smartphone और Pc दोनों में set up करके कर सकते हैं.

VPN का यूज़ कैसे करे

अब तब तो हमने VPN क्या है के विषय में थोड़ी बहुत जानकारी प्राप्त कर ली है. तब ऐसे में हमें ये जानना होगा की आखिर इन VPN को कैसे इस्तमाल करें अपने Desktop Pc या SmartPhone में.

अपने Pc में VPN को कैसे Set करे?

यदि आप अपने Pc में VPN को इस्तमाल करना चाहते हैं तब इसके लिए आपको Opera Developer Instrument का इस्तमाल करना होगा. बस आपको उस device को obtain कर set up करना होगा.

1.  पहले Set up करने के बाद आपको App को Open करना होगा, अब इसमें आपको उपर की Aspect में, Menu का एक Choice दिखेगा उस पर आपको Click on करना होगा फिर Atmosphere पर Click on करना होगा.

2.  Atmosphere पर click on करने से आपके सामने Privateness And Safety का possibility होगा, फिर उसे Click on करने पर आपको VPN का Choice नज़र आएगा, वहां पर आपको Allow VPN पर Tick करना होगा.

3.  ऐसे करने से आपके Opera Browser में VPN Turn on हो जाएगा, अब इसमें आप सभी blocked Web page को Get entry to कर सकते है.

4.  अब Browser के URL के पास आपको VPN लिखा हुआ दिखाई पड़ सकता है, इसपर आप click on कर जब चाहें VPN को On/ Off कर सकते है, साथ में Location भी जहाँ चाहें बदल सकते हैं.

Pc के लिए Best possible Home windows VPN Instrument

वैसे तो Web में बहुत से VPN device उपलब्ध हैं, लेकिन उनमें से अपने लिए सही VPN का चुनाव करना बहुत ही कठिन बात है. इसलिए मैंने Best possible Home windows VPN Softwares की एक लिस्ट तैयार की है जिन्हें आप अपने Home windows 10 कंप्यूटर में set up कर सकते हैं और अपने id को बचा सकते हैं. वैसे ध्यान दें की इनमें से प्राय VPN Provider दोनों Unfastened और Paid हैं, इसलिए अगर आप एक standard consumer हैं तब आप Unfastened VPN Provider का इस्तमाल कर सकते हैं.

  • CyberGhost
  • Hotspot Protect
  • Finch VPN
  • ZPN attach
  • Windsribe
  • Overall VPN
  • OpenVPN
  • Tunnel Undergo
  • Zenmate
  • Surf Simple

SmartPhone या Cellular में VPN कैसे Set करे

यदि आप अपने SmartPhone में VPN Set करना चाहते है तब आप इसे बड़ी ही आसानी से कर सकते हैं, इसके लिए बस आपको अपने Cellular से Playstore (Android) या AppStore (iOS) से उस VPN App को पहले obtain करना होगा और फिर उसे set up कर आप उसका इस्तमाल कर सकते हैं. तो चलिए जानते हैं की कैसे किसी App का इस्तमाल करें सही ढंग से.

1.  अपने Smartphone में एक VPN App obtain करें, जैसे की Windscribe, उसे अपने Cellular में Set up कर लें, जैसे आप एक App को set up करते हैं.

2.  ऐसा करने के बाद आपको उस App को Open करना होगा, फिर उसमें अपने मनचाहे Location को Set करना होगा, ऐसा करने के बाद आपको सामने दिख रहे Attach पर Click on करना होगा.

3.  Attach पर Click on करते ही आपका SmartPhone में VPN community turn on हो जायेगा.

SmartPhone के लिए Best possible Android VPN Apps क्या हैं?

यहाँ पर मैंने Best possible Android VNP Apps की एक Record बनायी हुई है, जिसे आप खुद देख सकते हैं और अपने जरुरत के हिसाब से आप किसी भी एक Android App को set up कर सकते हैं.

  • ExpressVPN
  • Windscribe
  • NordVPN
  • Tiger VPN
  • SaferVPN
  • Buffered VPN

VPN के benefits क्या हैं?

चलिए VPN के Benefits के विषय में पूरी जानकारी प्राप्त करते हैं.

1. ये एक public connection को safely get admission to करने में मदद करता है – बहुत बार हमें एक Wi-Fi connection का इस्तमाल करने की जरुरत पड़ सकती है लेकिन ये ज्यादा protected नहीं होते हैं, तब ऐसे में एक VPN Provider के मदद से हम खुद की id को छुपा सकते हैं और safely browse कर सकते हैं.

2. ये on-line safety को बढ़ा देती है – जब बात on-line protection की होती हैं तब Web को VPN के माध्यम से browse करना सच में बहुत ही secured होता है, ये आपके internet information को बहुत ही अच्छे से offer protection to करता है. दूसरी भाषा में कहें तब एक robust antivirus और एक same old firewall, के साथ साथ एक VPN के होने से ये हमारी safety में एक further layer upload कर देता है.

3. ये आपको कोई भी Presentations को देखने में मदद करता है कहीं से भी – Geo-restriction बहुत ही ज्यादा hectic होता है, लेकिन ये होता जरुर है. ऐसे में एक VPN आपकी काफी मदद कर सकता है geo-blocked internet sites को get admission to करने के लिए, इसमें कोई border restriction नहीं होता है जो की आपको रोक सके कोई भी presentations को देखने के लिए.

4. कुछ भी चीज़ anonymously obtain कर सकते हैं – यदि आपका Web Provider Supplier आपको कोई Web sites का इस्तमाल करने से रोकता है तब आप VPN products and services के मदद से उन Recordsdata को anonymously obtain कर सकते हैं.

VPN के Disadvantages क्या हैं?

चलिए VPN के disadvantages के विषय में कुछ जानकारी प्राप्त करते हैं.

1.  ज्यादातर dependable VPNs unfastened नहीं होते हैं – वैसे तो आपको बहुत से unfastened VPN carrier मिल जायेंगे इस्तमाल के लिए लेकिन उनकी एक prohibit होती है जैसे की Day-to-day 2 GB या five GB, उसके बाद आपको वो Unfastened नहीं होता है. ऐसे में आपको एक paid per thirty days subscription का इस्तमाल करना होगा.

2. आपको अच्छे से analysis करना होगा just right connection pace के लिए – एक VPN में अक्सर सभी community visitors को encrypt किया जाता है, क्यूंकि इसमें काफी sources का इस्तमाल होता है जो की web pace को कम कर देते हैं. इसलिए आप एक Paid VPN का इस्तमाल कर सकते हैं नेह्तर pace हासिल करने के लिए.

3. सभी to be had VPNs को agree with नहीं किया जा सकता है – ये बात तो शायद आप जानते ही होंगे की VPN IPs अक्सर distinctive नहीं होते हैं, इसे बहुत से लोगों के साथ percentage किया गया होता है. ऐसे होने के कारण बहुत से safety problems जैसे की IP cope with blacklisting और IP spoofing होने के संभावनाएं होती हैं. इसलिए ये बेहतर होगा की आप respected, faithful VPNs का ही इस्तमाल करें और इसके सन्धर्व में काफी analysis करें पहले ही.

4. कभी कभी VPNs ज्यादा complicated भी हो सकते हैं – वैसे कुछ VPN जहाँ easy होते हैं वहीँ बहुत से complicated भी होते हैं. इसका मतलब की बहुत ही VPN को setup करने का process ही complicated होता है जिससे कई customers इसे इस्तमाल करने से परहेज करते हैं.

Conclusion

मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख वीपीएन क्या है (What’s VPN in Hindi) जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को VPN कैसे काम करता है के विषय में पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे websites या web में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है.

इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी knowledge भी मिल जायेंगे. यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए तब इसके लिए आप नीच feedback लिख सकते हैं. यदि आपको यह publish VPN क्या होता है हिंदी में पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Fb, Google+ और Twitter इत्यादि पर percentage कीजिये.

Leave a Comment