Trade Plan (Hindi Information) – बिजनेस प्लान क्या है और बिजनेस प्लान कैसे बनाएं

[ad_1]

किसी भी Trade को शुरू करने से पहले Making plans एक महत्वपूर्ण प्रक्रिया हैं और लिखित Trade Plan बनाना इस प्रक्रिया का महत्वपूर्ण हिस्सा हैं| Trade Plan एक तरह से आपके बिज़नेस का नक्शा (Map) या Blueprint होता हैं जिसमें आपके बिज़नेस की सामान्य जानकारी, व्यवसाय के लक्ष्य और उन लक्ष्यों को प्राप्त करने का तरीका आदि  बातें लिखी होती हैं| बिज़नेस प्लान न केवल आपके Information के रूप में काम करता हैं बल्कि Financial institution Mortgage, Startup Investment or Trade Partneship आदि कई महत्वपूर्ण कार्यों  के लिए जरूरी होता हैं|

लगभग सभी तरह के Trade Loans के लिए बिज़नेस प्लान बनाना बहुत जरूरी हैं नहीं तो Banks, Mortgage देने से मना कर सकते हैं|

Trade Plan क्या है

कोई भी काम करने से पहले उसकी योजना बनाई जाती है। यही बात Trade के ऊपर भी लागू होती है जहां इस योजना का लिखित रूप Trade Plan कहलाता है। दरअसल Trade Plan एक ऐसा Record है जो किसी नए Trade के ‘क्या’, ‘क्यों’ और ‘कैसे’ जैसे सभी प्रश्नों का उत्तर देता है । जैसे :

  • हमारा Trade क्या है ?
  • हम ये Trade क्यों करना चाहते हैं
  • हम इस Trade को कैसे करेंगे ?

इन सभी प्रश्नों के उत्तर हमे बिज़नेस प्लान के द्वारा मिलता हैं । प्रमुख रूप से Trade Plan नये व्यवसाय के लिए होता है लेकिन कोई वर्तमान Trade कुछ नया कर रहा है तो भी Trade Plan बनाकर Trade को आगे बढ़ा जा सकता है। Trade Plan से सिर्फ Get started-up नहीं बनती है बल्कि Trade को Established भी करती है । समय-समय पर परिस्थितियों के अनुसार Trade Plan में बदलाव भी किए जा सकते है।

Trade Plan क्यों बनाया जाता है:

आप यह सोच सकते हैं कि Trade Plan को बनाने की जरूरत क्या है। अपने Trade Plan के माध्यम से व्यवसायी अपने निर्धारित लक्ष्यों का लिखित रूप और उन लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए वह क्या रणनीति बना रहा है, स्पष्ट रूप से बताता है। व्यावसायिक योजना या बिज़नेस प्लान निम्न उद्देश्यों के लिए बहुत जरूरी होता हैं:-

  • Financial institution में Trade Mortgage के लिए Practice करना
  • अपने Small Trade या Startup के लिए Undertaking Capital Company या Crowdfunding जैसे अन्य तरीकों से Fund जुटाना
  • Trade से सम्बंधित किसी भी प्रकार की Subsidy या कोई Scheme के लिए Practice करना
  • Trade Partnership और फ्रेंचाइजी आदि के लिए

एक अच्छी तरह से बनाए गए Trade Plan से न केवल Financial institution और अन्य बाहरी स्त्रोतों से वित्त (Investment or Finance) प्राप्त करना सरल होता है बल्कि Interior Operations में भी यह सहायक होता है।

 

How one can Write a Excellent Trade Plan – अच्छा बिजनेस प्लान कैसे बनाए

किसी भी योजना का निर्माण बहुत सोच समझ कर किया जाता है। यही बात Trade Plan बनाते समय भी लागू होती है। कोई भी व्यवसाय शुरू करने से पहले उसकी योजना Trade Plan के रूप में तैयार की जाती है। इसलिए एक अच्छे Trade Plan को बनाने से पहले कुछ बातों का ध्यान रखा जाता है। इनमें प्रमुख हैं :

  • इस Trade Plan को बनाने का Core Function क्या है ?
  • Trade Plan को किन लोगों के लिए बनाया जा रहा है । अथार्थ इसे पढ़ने वाले लोगों में Buyers या Bankers हैं जिनका धन व्यवसाय में Make investments हुआ है ?
  • आपके Trade Plan में क्या-क्या शामिल है?
  • आपको एक संक्षिप्त या विस्तृत Trade Plan चाहिए ?

जब इन प्रश्नों का उत्तर मिल जाता है तो एक व्यवसायी अपना Trade Plan बनाना शुरू करता है। किसी भी एक सफल और स्पष्ट Trade Plan में निम्न विषयों पर Center of attention किया जाता हैं:-

1. बिजनेस का उदेश्य क्या है – अच्छी तरह से डिजाइन किया हुआ Trade Plan किसी भी व्यवसाय के उद्देश्यों को बता सकता है। इस Trade Plan के माध्यम से व्यवसायी ने अपने भविष्य के लिए क्या योजना बनाई है, इसका पता चलता है । इन उद्देश्यों से व्यवसाय से जुड़े लोगों को क्या लाभ होगा, इसका ब्यौरा भी Trade Plan से ही चलता है।

2. Trade के स्पष्ट विवरण का वर्णन – Trade Plan के माध्यम से किसी भी व्यावसायिक इकाई के बारे में Entire Description का पता लगता है। इस Trade Plan के द्वारा ही किसी अन्य व्यक्ति को यह पता चलता है की आपने अपना व्यवसाय कैसे शुरू किया था और आपका क्या उद्देशय है ।

3. व्यवसाय के उत्पाद और सेवाएँ क्या हैं – Trade Plan को डिजाइन करते समय व्यवसायी यह निश्चित कर सकता है की उसे किस प्रकार के Merchandise का उत्पादन करना है और क्या Services and products देनी है।

4. मार्केट विश्लेषण में सहायक – व्यवसायी जब Trade Plan को बनाता है तो उससे पहले वह अपने संबन्धित बाजार का विश्लेषण (Marketplace Research) भी कर लेता है। इस विश्लेषण के माध्यम से ही भविष्य में होने वाले फायदे और नुकसान के बारे में पता लग सकता है।

5. व्यावसायिक ढांचे का विवरण – किसी भी व्यावसायिक ढांचे में उसके कर्मचारी और प्रबंधकीय क्षमता का पता लगता है। Trade Plan को बनाने से Trade Construction के बारे में भी पता लग जाता है।

6. संसाधनों का उपयोग – किसी भी व्यावसायिक इकाई का सबसे अच्छा साधन उसमें लगाया गया धन और व्यवसायी का समय होता है। Trade Plan को बनाते समय आपको यह निश्चय करना होगा की इन दोनों ही महत्वपूर्ण संसाधनों का उपयोग कैसे करना है।

7. लक्ष्य निर्धारण  – किसी भी काम को सफलतापूर्वक करने के लिए उसका लक्ष्य का निर्धारण करना जरूरी है। Trade Plan को बनाते समय व्यवसाय के लक्ष्यों का निर्धारण सरल हो जाता है ।

 

Trade Plan Template in Hindi – बिज़नेस प्लान टेम्पलेट

हालाँकि किसी भी Trade Plan का कोई फिक्स फॉर्मेट नहीं हैं और इसे आवश्यकता के अनुसार अलग अलग तरीके से बनाया जाता हैं| सामान्यत: एक Trade Plan के निम्न भाग होते हैं:-

Govt Abstract – एग्ज़ीक्यूटिव संक्षेप

Govt Abstract किसी भी Trade Plan का पहला भाग होता हैं और इसके अंतर्गत Trade Plan से सम्बंधित सभी महत्वपूर्ण बातों को सारांश के रूप में लिखा जाता हैं|  Trade Naure, Criminal Construction, Product or Services and products, Goal Marketplace, Trade Type, Control Staff,  Advertising and marketing Plan, Objectives, Monetary Projection, Fund or Mortgage Required आदि को संक्षेप में बताया जाता हैं|

बाकि के Trade Plan का पूरा सार इस भाग में लिखा होता हैं, इसलिए भाग को सबसे अंत में बनाना बेहतर होता हैं|

Corporate or Trade Review – व्यावसायिक पृष्ठभूमि:

Trade Plan के इस भाग में आपके व्यवसाय से सम्बंधित पूरी जानकारी को विस्तृत में लिखा जाता जैसे

  • व्यवसाय की प्रकृति
  • आप क्या बेचेंगे – Product or Provider Description
  • आपका Goal Marketplace क्या हैं
  • व्यवसाय का Criminal Construction यानि कि व्यवसाय एकल, साझेदारी या कंपनी हैं,
  • कर्मचारी और मैनेजमेंट टीम,
  • व्यावसायिक स्थल

इसके आलावा इस भाग में व्यवसाय के Product या Services and products से सम्बंधित सभी बातों को विस्तृत में लिखा जाता हैं जैसे:-

  • आपका प्रोडक्ट या सर्विसेज से कौनसी समस्या सुलझ रही हैं या यह लोगों के क्या काम आ रही हैं?
  • आपका product या products and services दूसरों से कितना अलग हैं?
  • लोग आपके Product को क्यों खरीदेंगे
  • आप अपने product को कैसे बनायेंगे और क्या वह तरीका सबसे बेहतर हैं?
  • क्या आपने प्रोडक्ट और सर्विसेज का Trademark, Patent आदि का रजिस्ट्रेशन करवा दिया हैं

Product/Provider Description को अलग भाग में भी दिखाया जा सकता हैं|

 Marketplace Research – बाजार विश्लेषण

इस भाग में आपके Product या Provider के Goal Marketplace से सम्बंधित सभी महत्वपूर्ण बातों का एनालिसिस किया जाता हैं जैसे:-

  • टारगेट मार्केट, मार्केट साइज़ और Deemand
  • आप किसे बेचेंगे – Goal Buyer, उनका व्यवहार, वर्ग और खरीद शक्ति (Buying Energy)
  • आपके competition कौन हैं और उनके पास कितना Marketplace Percentage हैं, उनकी शक्तियां और कमजोरियां
  • भविष्य में Call for और Marketplace में होने वाले महत्वपूर्ण परिवर्तन

Advertising and marketing Technique – बाजार रणनीति 

Trade Plan का यह भाग बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। इस भाग में उन सभी नीतियों वर्णन होता है जो आप अपने Product and Services and products को कस्टमर तक पहुँचाने और Marketplace Promotion के लिए प्रयोग में लाना चाहते हैं। इस भाग के अंतर्गत आपको निम्न बातों को निर्धारित करना होता हैं:-

  • आपके Product या Provider मार्केट में अपनी जगह कैसे बनायेंगे
  • आपके Goal Buyer कौन हैं जो सबसे पहले आपके Product या Services and products में रुचि दिखायेंगे और आप उन तक कैसे पहुंचेंगे
  • आपकी Pricing Coverage क्या होगी
  • आप अपने Product या Provider को किस तरह से Advertise करेंगे जैसे Direct Advertising and marketing, Commercial Social Media and so on.
  • आप किस तरह से अपने product या products and services को कस्टमर तक पहुंचाएंगे – डिस्ट्रीब्यूशन चेनल
  • आपकी Promoting Technique क्या होगी?

Operations – कार्यप्रणाली 

यह एक महत्वपूर्ण भाग हैं जिसमें Trade Operations यानि कि “व्यवसाय कैसे चलेगा” इससे सम्बंधित सभी बातों की विस्तृत जानकारी होती हैं जैसे:

  • Trade Position – आप किस जगह पर अपना व्यवसाय करेंगे| क्या आप जगह खरीदेंगे या किराये पर लेंगे|
  • Manufacturing Facility and Gadget – आपके पास प्रोडक्शन फैसिलिटी किस प्रकार की हैं और क्या यह जरूरत के मुताबिक हैं|
  • Acquire Plan – आप अपने Inputs को किस तरह से खरीदेंगे और क्या यह सबसे बेहतर तरीका हैं
  • Manufacturing Plan – आप किस प्रकार अपने Product का उत्पादन करेंगे| Deemand के आधार पर या Estimates के आधार पर|
  • Personnel Construction and their roles – आपके कर्मचारियों के पद, कार्यक्षेत्र और उनकी जिम्मेदारियां
  • Programs and Knowledge Era – आपके व्यवसाय का मुख्य IT सिस्टम किस तरह का होगा
  • Retailer Facility – आप कितना Inventory रखेंग और कहाँ पर रखेंगे|

Monetary Research – वित्तीय योजना:

Monetary Research किसी भी Trade Plan का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा होता हैं क्योंकि यह भाग आपके व्यवसाय की सारी महत्वपूर्ण बातों और Projection को फिगर्स या नंबर्स में प्रस्तुत करता हैं| इसी भाग से बैंक या वेंचर फर्म को आपके व्यवसाय की वित्तीय स्थिति और पूँजी की आवश्यकता का पता चलता हैं जिसके आधार पर Banks, लोन देती हैं और Undertaking Capital Corporations, निवेश करते हैं| यह हिस्सा मुख्य रूप निम्न बातों पर केन्द्रित होता हैं:

  1. आपको Trade के लिए कितनी पूँजी या Fund की जरूरत हैं और इसका उपयोग कहाँ कहाँ पर करेंगे – Capital/Fund Requirement
  2. आप इस पूँजी को कैसे जुटाएंगे – Mortgage, Undertaking Investment, Crowd Investment, Personal Capital and so on.
  3. आप कितने वर्ष के लिए Mortgage लेंगे, इसकी Safety क्या होगी और इसका पुनर्भुगतान कैसे करेंगे
  4. आपके Trade के Income/Source of revenue Resources क्या होंगे – Gross sales, Different Earning
  5. आपके Trade के Exepnditure क्या होंगे – Purchases, Hobby Cost, Hire and so on.
  6. Gross sales, Income और Bills के आधार पर आपके Trade के अगले 3-Five वर्षों Benefit & Loss Forcast
  7. आपके Trade का Enlargement Forcast
  8. Trade Chance और उसके संभावित परिणाम

Monetary Research के महत्वपूर्ण Statements/Forcast

  • Capital Requirement and Resources of Capital
  • Gross sales Forcast of 3-Five Years
  • Benefit and Loss Forcast of 3-Five Years
  • Cashflow Remark 
  • Steadiness Sheet

Trade Plan आपके व्यवसाय का सबसे महत्वपूर्ण दस्तावेज हैं जो आपके Trade को आगे बढ़ाने में निरंतर रूप से आपको गाइड करता है। इसलिए इसके निर्माण में बहुत सावधानी का प्रयोग करना चाहिए।

 

Leave a Comment