पर्यावरण संरक्षण एवं प्रदूषण नियन्त्रण के लिए प्रस्तावित विभिन्न अधिनियमों (विशेषताओं) का वर्णन कीजिए।

विगत वर्षों में हुए औद्योगिक विकास तथा नगरीकरण एवं जनसंख्या में हुई असीमित वृद्धि ने पर्यावरण के विभिन्न घटकों को कई प्रकार से प्रदूषित कर दिया है, जिसके कारण हमारे लिए उपयोगी प्रमुख पदार्थ एवं गैसें; जैसे-जल, वायु, मृदा...

परती या बंजर भूमि किसे कहते हैं ? परती भूमि विकास की विभिन्न विधियों...

वर्तमान समय में इसकी उत्पादकता बनाये रखना चुनौतीपूर्ण कार्य हो गया है। भारत के कुल भौगोलिक क्षेत्र का लगभग 50% भाग या अधिक मात्रा में अधोगति को प्राप्त हो चुका है तथा वहाँ की भूमि बंजर एवं अनुपयोगी होती...

ओजोन परत अपक्षय पर संक्षिप्त टिप्पणी लिखिए।

हमारा वायुमण्डल ऊँचाई के अनुसार अनेक मण्डलों यथा—अधोमण्डल (Troposphere), समतापमण्डल (Stratosphere), ओजोनमण्डल (Ozonosphere) तथा आयनमण्डल (Inosphere) में विभक्त है। धरातल से 15 से 40 किलोमीटर की ऊँचाई पर समताप मण्डल के ऊपर ओजोन गैस पायी जाती है। ओजोन का...

अम्ल वर्षा के कारण, प्रभाव एवं नियंत्रण के उपाय बताइए।

शहरीकरण, औद्योगीकरण एवं अतिशय जनसंख्या वृद्धि ने पर्यावरण को अत्यधिक प्रदूषित कर दिया है। इनके कारण आज भी वायु भी प्रदूषित हो चुकी है, औद्योगिक इकाइयों की चिमनियों एवं वाहनों से विभिन्न प्रकार की गैसें वायुमण्डल में विसर्जित होती...

जलवायु परिवर्तन के कारणों एवं प्रभावों की विवेचना कीजिए।

वैज्ञानिकों के अनुसार पृथ्वी का तापमान बढ़ने से विश्वभर में जलवायु का मिजाज बदल रहा है। 'ऑर्गनाइजेशन ऑफ इकोनॉमिक कोऑपरेशन एण्ड डेवलपमेण्ट' नामक एजेन्सी के अनुसार जलवायु की बदलती प्रकृति से विश्वभर में प्रतिवर्ष 970 अरब रुपये की हानि...

ग्रीन हाउस प्रभाव किसे कहते हैं ? इसके कारण तथा दुष्परिणामों पर प्रकाश डालिए।

विगत कुछ वर्षों से पृथ्वी के तापक्रम में निरन्तर वृद्धि होती जा रही है। पृथ्वी के तापक्रम की वृद्धि का प्रमुख कारण हरित पौधघर प्रभाव देखा गया है। • हरितगृह (Greenhouse) का प्रयोग उन देशों में किया जाता है जहाँ...

“मानव का पुनर्स्थापन एवं पुनर्सावास एक समस्या है।” का वर्णन कीजिए।

यह शाश्वत सत्य है कि हमें विकास का मूल्य किसी न किसी रूप में चुकाना है यह मूल्य हम प्रकृति को क्षति पहुँचाकर चुका रहे हैं। यानि हर प्रकार के विकास की गतिविधि से किसी न किसी रूप में...

भारत में वर्षा जल संग्रहण तथा जल विभाजक प्रबन्धन पर संक्षिप्त टिप्पणी लिखिए।

वर्षा जल संग्रहण से आशय वर्षा जल के अधिकांश भाग को जमीन के अन्दर भूमिगत जल के रूप में भण्डारण करने से है। वस्तुतः धरातल पर प्राप्त होने वाले वर्षा जल मानव-उपयोग की दृष्टि से संरक्षित करने सम्बन्धी समस्त...

जल संरक्षण को संक्षेप में समझाइए।

जल एक नवीनीकरण योग्य प्राकृतिक संसाधन है, जिसकी उपलब्धता प्रयोग के साथ समाप्त नहीं होती, वरन् जलीय चक्र के माध्यम से पृथ्वी पर जल की उपलब्धता सतत् रूप से कायम रहती है। वर्तमान में मानव-उपयोग से स्वच्छ जल के...

बढ़ती हुई शहरी आबादी की ऊर्जा सम्बन्धी समस्याओं को किस प्रकार हल किया जा...

बढ़ती हुई मानव जनसंख्या एवं औद्योगिकीकरण के कारण आज बेरोजगारी अपनी चरम सीमा पर है, जिसके कारण लोग शहरों की ओर भागने लगे हैं। इन्हीं कारणों से आज ग्रामीण आबादी शहरों की ओर आकर्षित हो रही है। शहरीकरण की...