NSE और BSE क्या है?

[ad_1]

NSE (एनएसई) क्या है?

NSE Complete-Shape Nationwide Inventory Change
Based & Location 1992 (Mumbai)
Chairman Girish Chandra Chaturvedi
CEO Chitra Ramkrishna
Marketplace Capitalization $2.1 Trillion+
Index Nifty 50

NSE का पूरा नाम है “Nationwide Inventory Change” – यह भारत का पहला और वर्ल्ड कैश मार्केट में दूसरा सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज है, जिसे भारत सरकार और SEBI के सहयोग से 1992 (मुंबई) में स्थापित किया गया था|

स्टॉक मार्केट में भरोसेमंद स्टॉक एक्सचेंज होने के कारण आज की तारीख में NSE पर 1900+ कम्पनियां लिस्टेड है और सबसे ज्यादा ट्रेड वॉल्यूम रहता है|

आप यहाँ कई तरह की सिक्योरिटीज में ट्रेड कर सकते है, जैसे –

  • Fairness Stocks
  • Change Industry Fund
  • Company Bonds
  • Derivatives
  • Commodities and
  • Currencies and so on.

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज को लाने का सबसे बड़ा कारण था स्टॉक मार्केट को हर किसी के लिए सुरक्षित बनाना, जिससे हर एक निवेशक को बाजार से जुड़ने और इन्वेस्ट करने का एक समान अवसर प्राप्त हो सके|

NSE अपने इस उद्देश्य में सफल हुआ| जिसके बाद सिक्योरिटीज खरीदने, होल्ड करने और बेचने जैसे मुश्किल कामों को भी ऑनलाइन कर दिया गया| आज आप एक Demat Account खोलकर, कल से ही बाजार में डे-ट्रेडिंग या इन्वेस्टिंग शुरू कर सकते है और यह सब NSE के आने के बाद ही संभव हो पाया है|

BSE (बीएसई) क्या है?

BSE Complete-Shape Bombay Inventory Change
Based & Location 1875 (Mumbai)
Chairman T.C. Suseel Kumar
CEO Shri Ashishkumar Chauhan
Marketplace Capitalization $2.19 Trillion+
Index Sensex

BSE का फुल फॉर्म है “Bombay Inventory Change” – यह भारत और एशिया का सबसे पहला स्टॉक एक्सचेंज है जिसे 1875 में Premchand Roychand द्वारा स्थापित किया गया था और 1957 में इसे सिक्योरिटीज कॉन्ट्रैक्ट्स रेगुलेशन एक्ट के तहत मान्यता प्राप्त हुई थी|

1986 में BSE ने अपना इंडेक्स निकाला, जिसे Sensex नाम दिया गया| यह एक बेंचमार्क है जिसमे बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज पर लिस्टेड टॉप 30 कम्पनियां शामिल है|

145 साल पुराना होने और ऑनलाइन ट्रेडिंग सिस्टम को देरी से अपनाने के कारण BSE में ट्रेड वॉल्यूम NSE के मुकाबले कम रहता है| इसके बावजूद आज BSE पर 5000 से ज्यादा कम्पनियाँ लिस्टेड है और यह सेबी के Rule & Legislation के तहत काम करती है|

NSE और BSE में क्या अंतर है?

(NSE and BSE Distinction In Hindi)

BSE और NSE दोनों ही भारत के सबसे पॉपुलर Inventory Change है| जिसके कारण इनके बीच में तुलना चलती रहती है और लोग यह जानना चाहते है की इन दोनों में से कौनसा एक्सचेंज बेहतर है|

नीचे इससे जुड़े कुछ फैक्ट्स दिए गये है जो एनएसई और बीएसई को Evaluate करते है –

1. BSE की स्थापना 1875 हुई थी, जबकि NSE की स्थापित 1992 में हुई|

2. बीएसई को सन 1957 और एनएसई को 1993 में स्टॉक एक्सचेंज की मान्यता प्राप्त हुई|

3. NSE का मार्केट कैप $2.1 ट्रिलियन डॉलर है, जबकि BSE का $2.19 ट्रिलियन डॉलर|

4. एनएसई दुनिया का 11वां और बीएसई 10वां सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज है|

5. BSE पर Five हजार से ज्यादा कम्पनीयां लिस्टेड है, जबकि NSE पर यह नंबर 1900 के करीब है|

6. एनएसई ट्रेड वॉल्यूम के आधार पर बीएसई से आगे है|

7. NSE अपने इंडेक्स Nifty 50 Corporations से और BSE अपने बेंचमार्क Sensex 30 Corporations से जाना जाता है|

8. NSE में Digital Change Gadget की शुरुवात 1992 में जबकि BSE पर 1995 में आया था|

9. बेहतर सुविधाओं के कारण नये निवेशक BSE की तुलना में NSE को ज्यादा तवज्जु देते है|

पूछे जाने वाले सवाल (FAQ’s)

नीचे सामान्यतः पूछे जाने वाले सवालों के जवाब दिये जा रहे है अगर आपका भी कोई सवाल है तो आप Remark Field में लिख सकते है –

Q.1 भारत में टोटल कितने स्टॉक एक्सचेंज है?

Ans: इंडिया में मान्यता प्राप्त 23 स्टॉक एक्सचेंज है, जिनमे से Eight मोस्ट एक्टिव है|

Q.2 नये निवेशकों के लिए कौनसा स्टॉक एक्सचेंज बेहतर है?

Ans: एनएसई और बीएसई दोनों ही सुरक्षित स्टॉक एक्सचेंज है| लेकिन अगर आप स्टॉक मार्केट में नये है तो आप Simple, Rapid & Protected ट्रेडिंग सिस्टम के तौर पर NSE पर ट्रेडिंग या इन्वेस्टमेंट शुरू कर सकते है|

Q.Three क्या NSE पर डायरेक्ट ट्रेड किया जा सकता है?

Ans: नहीं| अभी के लिए डायरेक्ट स्टॉक एक्सचेंज पर ट्रेड करने की सुविधा उपलब्ध नहीं है| इसके लिए आपको Easiest Inventory Dealer के साथ एक अकाउंट ओपन करना होगा, जिसके बाद आप ट्रेड शुरू कर सकते है|

Q.Four क्या Nifty और Sensex में इन्वेस्ट किया जा सकता है?

Ans: हाँ बिलकुल| आप ETF और Mutual Price range की सहायता से डायरेक्ट इंडेक्स यानी सेंसेक्स और निफ्टी में निवेश कर सकते है|

Q.Five NSE के आने के बाद स्टॉक मार्केट में क्या बदलाव हुआ है?

Ans: मुख्यतौर पर NSE के आने के बाद ट्रेडिंग सिस्टम को इलेक्ट्रॉनिक कर दिया गया| जिससे पेपर लेस काम होने लगे और छोटे से छोटे निवेशक की मार्केट तक पहुँच बनने लगी|

Q.6 क्या स्टॉक मार्केट में निवेश करना सुरक्षित है?

Ans: बिलकुल| सभी तरह के स्टॉक एक्सचेंज SEBI के रेगुलेशन के अतर्गत आते है और इन्हें सेबी द्वारा बनायें सभी नियमों का पालन करना पड़ता है| क्योकि सेबी सरकार द्वारा गठित संस्था है जो निवेशकों के हित और सुरक्षा के लिए कई तरह के बदलाव करती रहती है|

Q.7 ऑनलाइन शेयर खरीदने के लिए बेस्ट ट्रेडिंग प्लेटफार्म कौनसा है?

Ans: किसी भी तरह के ट्रेड या इन्वेस्टमेंट के लिए Zerodha बेस्ट ट्रेडिंग प्लेटफार्म प्रदान करता है, जिससे आप बड़ी ही आसानी से शेयर ख़रीद और बेच सकते है|

Q.Eight क्या स्टॉक एक्सचेंज (NSE & BSE) के बिना शेयर नहीं खरीदें जा सकते?

Ans: यह सच नहीं है| आप Direct Inventory Buying Program (DSPP) और Dividend Reinvestment Plan (DRIP) के तहत किसी भी कम्पनी के शेयर को बिना स्टॉक एक्सचेंज की सयाहता से ख़रीद सकते है|

निष्कर्ष (In Conclusion)

इस पोस्ट में एनएसई (NSE) और बीएसई (BSE) के बारे में जानकारी दी गई है| BSE काफी पुरानी है और इसमें Five हजार से ज्यादा कपनियाँ लिस्टेड है जबकि NSE नई तकनीकी के साथ मार्केट में काफी बड़ा बदलाव लाई है|

मुझे उम्मीद है की NSE और BSE से जुड़ी इस पोस्ट से आपको काफी सीखने को मिला होगा और आपके कई डाउट भी क्लियर हुवे होंगे|

नीचे Remark करके जरुर बतायेंगा की आप कौनसे स्टॉक एक्सचेंज के साथ अपने इन्वेस्टमेंट की शुरुवात करने वाले है और क्यों|

Leave a Comment