HDD VS SSD in Hindi

[ad_1]

क्या आपको पता है की ये HDD vs SSD में क्या अंतर है? इन दोनों में से कोन ज्यादा बेहतर है? यदि आपको इन सभी सवालों का जवाब नहीं पता तब चिंता की कोई बात नहीं क्यूंकि आज में आप लोगों को SSD vs HDD के बारे में detailed में समझाने वाला हूँ ताकि आपके मन में कोई शंका न रह जाये.

जब भी कोई नया laptop machine लेने की सोचता है तब, बहुतों के मन में ये चिंता हमेशा रहती है की उन्हें अपने कंप्यूटर की garage के लिए कोन सी garage power लेना उचित रहेगा. और उनके पास चुनने के लिए केवल दो ही विकल्प होते हैं एक है Forged State Power (SSD) और दूसरा है Exhausting Disk Power (HDD). लेकिन सही जानकारी न होने के कारण वो ये फैसला नहीं पाते और यदि कोई लेता भी है तो जानकारी न होने के कारण नुकशान में पड़ता है.

यहाँ कोई आसान या सीधा सा जवाब नहीं है की इन दोनों में कोन बेहतर है और कोन सा आपके लिए सही रहेगा. क्यूंकि सभी लोगों की जरुरत अलग अलग होती है, इसलिए उन्हें ही ये फैसला लेना होगा की आखिर उनके लिए कोनसा सही होगा.

जरुरत के साथ साथ आपको अपनी desire पर भी नज़र डालनी होगी, और इसके साथ आपकी Funds पर भी. इन सभी चीज़ों को ध्यान में रखते हुए ही आप एक सही Exhausting Power अपने Laptop के लिए खरीद सकते हैं.

इसलिए आज मैंने सोचा की क्यूँ न आप लोगों को इन Exhausting Drives के बारे में पूरी जानकरी दे दूँ ताकि आप खुद ही ये फैसला ले सके की आपके जरूरत के अनुसार आपके लिए कोन सही रहेगा. तो फिर बिना देरी किये चलिए जानते हैं की HDD vs SSD in Hindi में कोन बेहतर है, इन सबकी पूरी जानकरी आज में जानेंगे इस article में.

HDD क्या है (Exhausting Disk Power in Hindi)

HDD in Hindi

HDD का complete shape होता है Exhausting Disk Power. HDDs को सबसे पहले सन 1956 में IBM के द्वारा introduce किया गया था. आप शायद ये जन के हैरान होंगे लेकिन ये सच है की ये generation 60 साल पुरानी है. एक HDD में magnetism का इस्तमाल होता है information को retailer करने के लिए.

एक learn/write head spinning platter के ऊपर waft करता है information को write करने के लिए और information को learn करने के लिए. जितनी जल्दी ये rotating platter घुमेगी उतनी जल्दी ही HDD carry out कर सकता है. आज के दोर में एक conventional pc power 5400 RPM(Revolutions in line with minute) या 7200 RPM के हिसाब से घूमता है वहीँ कुछ कुछ तो 15,000 RPM तक spin कर लेते हैं.

HDD को इस्तमाल करने का एक सबसे बड़ा फायदा ये है की इसमें आप बहुत ही कम कीमत में बहुत सारा information रख सकते हैं. आज कल तो 1 TB garage बहुत ही आम बात है, और धीरे धीरे इसकी संख्या दिनबदिन बढती ही जा रही है. HDD SSD के तुलना में सस्ता होने के कारण ही लोगों की आज पहली पसंद बन गयी हैं. क्यूंकि अगर तुलना की जाये तो SSD HDD के मुकाबले Three से four गुना ज्यादा expensive होता है.

अगर बात करें HDD की look की तब बहार से ये हुबहू SSD के तरह ही दिखता है. HDD में SATA का इस्तमाल होता है. Computer laborious drives की not unusual dimension होती है 2.5” shape issue वहीँ Desktop की laborious power का आकार थोडा बड़ा होता है लगभग 3.5” shape issue.

जितनी ज्यादा platter की dimension होगी उतनी ही ज्यादा garage capability होगी. कुछ desktop laborious drives तो 6TB क का information retailer कर सकते हैं.

Absolute best exterior laborious drives underneath Rs 5000

यहाँ पर हम कुछ सबसे बेहतरीन exterior laborious drives के बारे में जानेंगे जिन्हें कि आप अभी ख़रीद सकते हैं।

Western Virtual Parts 1.Five TB Moveable Exterior Exhausting Power  Purchase Now
Go beyond TS1TSJ25M3S StoreJet 1TB Moveable Exterior Exhausting Power Purchase Now
ADATA HV620S Exterior Exhausting Power Narrow and Gentle with USB 3.1 (1TB, Black) Purchase Now
Seagate Backup Plus Narrow 1 TB Exterior HDD Purchase Now
Absolute best exterior laborious drives underneath Rs 5000

SSD क्या है (Forged State Power in Hindi)

SSD in Hindi

यदि आप SSD के बारे में नहीं जानते तो में आपको बता दूँ की SSD का complete shape है Forged State Power. ये भी एक Reminiscence instrument है Pen power के तरह ही केवल इसमें थोडा ज्यादा area होता है और ये थोडा ज्यादा refined instrument है.

Reminiscence Stick के जैसे ही इसमें कोई shifting portions नहीं होती है. यहाँ information को micro chip में retailer करके रखा जाता है. जहाँ की एक Exhausting Disk में एक mechanical arm जिसमें learn/write head होता है की मदद से knowledge को learn किया जाता है सही location से garage platter में.

यही अंतर SSD को ज्यादा quicker बना देती है. उदहारण के तोर पे अगर में कहूँ की अगर आपको एक ebook लानी है एक room से तो इसके लिए आपको room में चारों तरफ पहले खोजना होगा फिर उसे मिलने पर उसे लाना होगा. वहीँ यदि ebook पहले से ही आपके सामने हो और कहे जाने पर आप जल्दी से उसे ला लें तो आपको कैसे लगेगा. बस ऐसे ही SSD काम करता है जिसके लिए ये HDD से काफी गुना quicker है.

SSD में NAND-based Flash reminiscence का इस्तमाल होता है. ये एक non-volatile reminiscence होती है. अब non-volatile का ये मतलब है की जब भी आप disk को बंद कर देते हैं तब ये इसमें जो चीज़ retailer होती हैं उसे ये नहीं भूलेगी. मतलब इसमें reminiscence loss नहीं होता. हाँ ये जरुर किसी everlasting reminiscence का बहुत ही बड़ा और very important characteristic है.

जब पहले SSD पहली बार marketplace में पहली बार आया था तब लोगों का इसके ऊपर इतना विश्वास नहीं था. लेकिन अब इस generation को बहुत ही जोरों सोरों से लोगों द्वारा इस्तमाल में लाया जा रहा है. और इसमें HDD के तुलना SSD का longivity ज्यादा है.

एक SSD का mechanical arm नहीं होता है इसलिए information को Learn and Write करने के लिए एक embedded processor (या Mind) जिसे के Controller भी कहा जाता है का इस्तमाल होता है जिसकी मदद से बहुत सारे काम जैसे की studying और writing of information किया जाता है.

SSD की velocity को पता करने के लिए controller का इस्तमाल होता है. ये जो भी determination लेता है information को retailer, retrive, cache और blank up करने के लिए ये सभी चीज़ ही power के general velocity को resolve करते हैं.

यहाँ में एक चीज़ कहना चाहूँगा की एक अच्छा controller ही के अच्छे SSD की असली पहचान है. आप अभी सोच रहे होंगे की आखिर ये SSD कैसे दिखता होगा. तो में आपको बता दूँ की इसमें इसकी generation को plastic या फिर steel case में encased कर के रखा जाता है. ये दिखने में एक battery के तरह ही होता है.

SSD का shape facrtor एक common laborious power के सामान ही होता है. इसके same old dimension कुछ इस प्रकार है 1.8”,2.5”, और 3.5” dimension जो की बड़ी आसानी से housing और connectors में have compatibility हो जाता है इसके सामान sized laborious power के तरह.

इनके same old dimension के लिए SATA को connector के हिसाब से इस्तमाल किया जाता है. इसके अलावा दुसरे SATA भी हैं जैसे की mini-SATA जो की आकार में छोटे होते हैं इसीलिए इन्हें mini-SATA (mSATA) भी कहा जाता है और ये बड़ी आसानी से mini-PCI Specific slot में लग सकता है जिसे की Computer में इस्तमाल किया जाता है.

Absolute best SSDs in India

यहाँ पर हम कुछ सबसे बेहतरीन exterior laborious drives के बारे में जानेंगे जिन्हें कि आप अभी ख़रीद सकते हैं।

Samsung 870 QVO 1TB SATA 2.5″ Inside Forged State Power (SSD) (MZ-77Q1T0BW) Purchase Now
Samsung 860 PRO 256GB SATA 2.5″ Inside Forged State Power (SSD) (MZ-76P256) Purchase Now
A-DATA Final SU650 three-D NAND 120GB Forged State Power – Black – ASU650SS-120GT-R Purchase Now
Western Virtual WD Inexperienced 120 GB 2.Five inch SATA III Inside Forged State Power (WDS120G2G0A) Purchase Now
Absolute best SSDs in India

HDD Vs SSD में क्या अंतर है (HDD vs SSD which is Higher)

HDD Vs SSD in Hindi

अब में आपको SSD और HDD के भीतर क्या अंतर है इसी विषय में पूरी जानकरी देने जा रहा हूँ जिससे आपको बहतु ही आसानी होगी चुनने में की आपको आखिर क्या लेना चाहिए अपने नए laptop के लिये.

Characteristic SSD (Forged State Power) HDD (Exhausting Disk Power)
Energy Draw / Battery Existence ये कम energy का इस्तमाल करती है अगर averages की बात करें तो लगभग 2 से Three watts जिसके चलते 30+ minute की battery spice up मिलती हैं ये SSD की तुलना में बहुत ही ज्यादा energy का इस्तमाल करता है. अगर averages की बात करें तो लगभग 6 से 7 watts इसलिए ये ज्यादा battery का इस्तमाल करता है
Price ये बहुत ही ज्यादा Dear होता है ये SSD की तुलना में काफी सस्ता होता है.
Capability ये ज्यादातर इसके कीमत के वजह से ज्यादा capability वाली garage नहीं बनायीं जाती ये बहुत ही ज्यादा capability वाली बनायीं जाती हैं और इस्तमाल में भी आता है.
Running Device Boot Time इसकी reasonable bootup time 10-13 seconds की होती है इसकी reasonable bootup time 30-40 seconds की होती है
Noise इसमें को shifting phase न होने के कारण इसमें sound ज्यादा पैदा नहीं होती इसमें shifting portions होती है और इसके साथ इसमें clicks और spinning की भी sounds आती रहती हैं.
Vibration इसमें को shifting phase न होने के कारण इसमें vibration ज्यादा पैदा नहीं होती इसमें platters की spinning होती है जिसके चलते इसमें vibration पैदा होना आम सी बात है
Warmth Produced ये ज्यादा energy की call for नहीं करती इसमें कोई shifting portions भी नहीं है इसके चलते ये बहुत ही कम warmth पैदा करती है ये SSD की तुलना में ज्यादा warmth पैदा करती है क्यूंकि इसमें shifting portions होती है जो की लगातार घूम रही होती हैं.
Failure Fee इसमें Imply time between failure fee of two.zero million hours इसमें Imply time between failure fee of one.Five million hours
Document Replica / Write Pace इसमें Replica करने की velocity Usually 200 MB/s से 550 MB/s तक की होती है इसमें Replica करने की velocity Usually 50 MB/s से 120 MB/s तक की होती है
Encryption इसमें power में Complete Disk Encryption (FDE) होती हैं इसमें power में Complete Disk Encryption (FDE) होती हैं
Document Opening Pace ये HDD की तुलना में 30% quicker खुलता है ये SSD की तुलना में काफी sluggish होता है
Magnetism Affected SSD किसी भी प्रकार की magnetism impact से protected होता है वहीँ HDD पर Magnets का काफी असर पड़ता है इससे information पूरी तरह से erase भी हो सकती है
HDD Vs SSD in hindi

यहाँ आप लोगों के देखा की कैसे HDD और SSD कैसे एक दुसरे से कितने अलग हैं. लेकिन यहाँ ये मान लेना की SSD HDD की तुलना में बेहतर है ये बात बिलकुल भी ठीक नहीं है. क्यूंकि जैसे मैंने पहले भी कहा था की ये केवल आप ही बता सकते हो की कोन सी garage instrument आपके लिए सही है.

क्यूंकि ये आपके जरुरत के हिसाब से पता चलता है. यहाँ आपके सुविधा के लिए मैंने कुछ ऐसे issues लिख दिए हैं जिसे की देखकर आप ये अंदाजा लगा सकते हैं की आपके लिए कोन सी garage instrument ठीक रहेगी. अधिक जानकारी के लिए आप ये ब्लॉग को पढ़ सकते हैं.

आपके लिए HDD ठीक रहेगा अगर :

• आपको बहुत सारा Garage capability चाहिए लगभग 10TB या उससे भी ज्यादा
• आप ज्यादा पैसे खर्च नहीं करना चाहते
• अगर आपको Laptop की boot up velocity और reproduction करने की क्ष्य्मता को लेकर ज्यादा चिंता नहीं है तब आपके लिए सबसे अच्छा possibility हैं HDD.

आपके लिए SSD ठीक रहेगा अगर :

• अगर आप laptop की quicker efficiency के लिए ज्यादा खर्च करना चाहते है
• आपको Garage Capability को लेकर ज्यादा चिंता नही है और आप कम में भी काम चला सकते हैं. तो यहाँ आपके लिए SSD ही सबसे अच्छा possibility है.

अगर हम भारत की बात करें तो यहाँ आज भी HDD ही सबसे ज्यादा पसंद लोगों की है क्यूंकि यहाँ Pace को कम कराकर भी ज्यादा area की चाहत सबको है. उन्हें अपने finances में सारी सुविधाएँ चाहिए जिसके चलते उन्हें SSD की तुलना में HDD को अपनाने में कोई तकलीफ नहीं है.

आज कल लोगों में SSHD (Forged State Exhausting Power) जिसके अंतर्गत आप दोनों की चीज़ों का फ़ायदा उठा सकते हैं. या यूँ कहे तो ये दोनों ही generation का मिश्रण है. जिसमें की Running Device के लिए कुछ area allocate कर दी जाती हैं और बाकि आपके private garage के लिए.

इसमें एक फ़ायदा ये भी है की इसमें आपकी बहुत ही अच्छी running velocity मिलती है जिससे आप बड़ी आसानी से आपके सारे काम कर सकते हो.

SSD के अलग अलग प्रकार क्या क्या हैं?

SSD में एक प्रकार है SATA और दूसरा है NVMe।

क्या SSD में पावर intake कम होती है?

जी हाँ SSD में पावर intake काफ़ी कम होती है HDD की तुलना में।

आज आपने क्या सीखा

मुझे पूर्ण आशा है की मैंने आप लोगों को HDD vs SSD in Hindi के बारे में पूरी जानकारी दी और में आशा करता हूँ आप लोगों को SSD vs HDD के बारे में समझ आ गया होगा.

मेरा आप सभी पाठकों से गुजारिस है की आप लोग भी इस जानकारी को अपने आस-पड़ोस, रिश्तेदारों, अपने मित्रों में Percentage करें, जिससे की हमारे बिच जागरूकता होगी और इससे सबको बहुत लाभ होगा. मुझे आप लोगों की सहयोग की आवश्यकता है जिससे मैं और भी नयी जानकारी आप लोगों तक पहुंचा सकूँ.

मेरा हमेशा से यही कोशिश रहा है की मैं हमेशा अपने readers या पाठकों का हर तरफ से हेल्प करूँ, यदि आप लोगों को किसी भी तरह की कोई भी doubt है तो आप मुझे बेझिजक पूछ सकते हैं. मैं जरुर उन Doubts का हल निकलने की कोशिश करूँगा. आपको यह लेख SSD vs HDD in Hindi कैसा लगा हमें remark लिखकर जरूर बताएं ताकि हमें भी आपके विचारों से कुछ सीखने और कुछ सुधारने का मोका मिले.

“ मेरा देश बदल रहा है आगे बढ़ रहा है ”

आइये आप भी इस मुहीम में हमारा साथ दें और देश को बदलने में अपना योगदान दें.

Leave a Comment