Google Set of rules Updates 2018 in Hindi

[ad_1]

Bloggers लोगों के लिए ये Google Algorithms replace क्या है और इसके search engine optimization Updates कोई नयी बात नहीं है. क्यूंकि उन लोगों ने अपने Running a blog Profession में इन search engine optimization updates के विषय में जरुर सुना ही होगा और बहुतों को तो इनके प्रकोप का शिकार भी होना पड़ा होगा.

ऐसा इसलिए क्यूंकि इन Google Algorithms का निर्माण ही अच्छे search engine optimization practices के लिए किया गया है. सही search engine optimization practices का तात्पर्य यह है की आप कोई भी illigal तरीकों का इस्तमाल न करें या फिर आप इन्हें blackhat search engine marketing भी कह सकते हैं.

ये Blackhat search engine optimization आपको तुरतं परिणाम तो दे सकते हैं लेकिन ये लम्बे समय के लिए नहीं होगा. अर्थात आप अपने contents या posts को तुरंत Google में rank करा सकते हैं और इससे आप अच्छा पैसा भी कमा सकते हैं लेकिन ये सब transient होगा.

बस इन्ही illigal actions को रोकने के लिए Google ने इन नए search engine optimization updates से अपने Set of rules को और भी बेहतर बनाया है जिससे की ये bloggers, web entrepreneurs और दुसरे bots के illigal तरीकों पर रोक लगा सके. यदि आप भी इन तरीकों का इस्तमाल कर रहे होंगे तब आप भी इन नए search engine optimization updates का जरुर शिकार होंगे.

इसलिए इन नए search engine optimization updates के विषय में थोडा बहुत जानकारी रखना सभी web customers के लिए बहुत लाभदायी है. ख़ास इसीलिए आज मैंने सोचा की क्यूँ न आप लोगों को Google Algorithms क्या है और इसके search engine optimization Updates कैसे काम करते हैं के विषय में पूरी जानकारी प्रदान करूँ जिससे की आपको कहीं दुसरे जगह से इसके विषय में और पढने को नहीं पड़ेगा और इसे आप अपने नए और पुराने blogs या websites में जरुर इस्तमाल कर सकते हैं.

तो फिर बिना देरी किया चलिए शुरू करते हैं और जानते हैं की आखिर ये Google Set of rules क्या है हिंदी में पूरी जानकारी.

Google Algorithms क्या है

Google Algorithm Updates in Hindi

Google Algorithms बहुत ही advanced machine हैं जिन्हें की इस्तमाल किया जाता है information retrieve करने के लिए seek index से और straight away ship करना होता है person को और वो भी किसी भी question का perfect conceivable effects होना चाहिए.

ये seek engine बहुत से algorithms और raking indicators के aggregate का इस्तमाल करते हैं सही और related webpages को उनके rank के उनुसार SERP (Seek Engine Effects Pages) में display करने के लिए. इससे Customers को उनके खोजे गए सवाल का सही उत्तर उन्ही effects pages में ही मिल जाये और उनका seek revel in बहुत ही अच्छा हो.

शुरुवाती वर्षों में Google ने अपने Algorithms में बहुत ही कम updates किये थे, लेकिन अब तो प्रति वर्ष ही हजारों नए updates उनके algorithms में किये जा रहे हैं. लेकिन ये updates इतने छोटे हैं की ये किसी के दृष्टी में नज़र नहीं आ रहे हैं.

लेकिन कुछ instance में, ये seek engine ऐसे ऐसे primary algorithmic updates लाते हैं जिससे की SERPs में बहुत बड़ा असर होता हुआ दिखाई पड़ता है.

ऐसे में इन primary new search engine optimization Updates के विषय में जानकारी रखना बहुत ही आवश्यक है. तो फिर चलिए जानते हैं ऐसे ही कुछ primary updates के विषय में :

  • Fred
  • Intrusive Interstitials Replace
  • Mobilegeddon
  • RankBrain
  • Panda
  • Penguin
  • Hummingbird
  • Pigeon
  • Payday
  • EMD (Actual Fit Area)
  • Web page Structure Set of rules

यहाँ पर हमने ऊपर नए search engine optimization updates के विषय में देखा लेकिन चलिए अब इन्ही में से कुछ बहुत ही महत्वपूर्ण Updates के विषय में जानकारी प्राप्त करते हैं.

Necessary Google Updates in Hindi

जैसे की मैंने पहले भी कहा है की Google के तो बहुत से नए और पुराने updates हैं लेकिन उनमें से कुछ बहुत ही महत्वपूर्ण हैं तो आज हम उन्ही के विषय में जानकारी प्राप्त करते हैं.

1. Google Panda

2. Google Penguin

3. Google Buzzing Chook

उनके मुख्य काम क्या हैं

Google Panda replace set of rules का एक ख़ास हिस्सा है जो की मुख्य रूप से Content material की High quality पर ज्यादा ध्यान देता है.

Google Penguin replace मुख्य रूप से Hyperlinks की high quality पर ज्यादा ध्यान देता है.

Google Hummingbird replace मुख्य रूप से conversational seek queries को सही तरीके से correctly care for करने में ज्यादा ध्यान देता है.

Google Panda Replace क्या है

Google Panda in Hindi आपके web page के content material पर ज्यादा ध्यान देता है जब वो websites को Google के seek effects पर rank करता है. इसलिए जिन blogs या websites में decrease high quality content material ज्यादा हैं, उनके लिए Google Panda Replace बहुत ख़राब have an effect on डाली होगी.

इस Panda replace को सबसे पहली बार February 23, 2011 में introduce किया गया.

इसके चलते upper high quality content material को ज्यादा अहेमियत दी गयी और उन्हें Seek Effects में पूरा ऊपर स्थान दिया गया वहीँ low high quality content material को पीछे ढकेल दिया गया.

जब Panda at first release किया गया तब ये देखने को मिला की इस बार ये content material farms को particularly goal कर रहा था, जो की seek outcome में एक बहुत बड़ा downside बन चूका था, क्यूंकि इनकी low high quality content material होने की वाबजूद ये केवल ज्यादा quantity होने के कारण seek outcome में ऊपर दिखाई पड़ते थे.

ये websites कोई भी article submit करने के पहले कोई भी analysis नहीं करते थे और बहुत ही कम समय में बहुत सारे low-quality को submit करते थे. इसलिए कोई भी person कुछ भी seek करे तब वो इन्ही के pages में ही आता था और उसे कोई भी knowledge नहीं मिल पाती थी.

ख़ास इसी कारण ही Google ने इस Panda replace को अपने core set of rules का हिस्सा बना डाला है. अभी जो भी नयी replace आती है उसे इस core set of rules में replace कर दिया जाता है.

Google Panda से कोन ज्यादा प्रभावित हुए

Skinny Content material:  इस replace से जो सबसे ज्यादा प्रभावित हुए वो जिनकी content material में ज्यादा worth ही नहीं थी. ऐसे में इन्हें अच्छे content material के मुकाबले निचे कर दिया गया. ऐसे content material को ज्यादा अहमियत दी गयी जो की customers को ज्यादा worth प्रदान करते हैं.

Low High quality Content material:  जो Websites में अच्छी high quality नहीं होती है जैसे की content material का अच्छा न होना, gramatical और spelling errors होना, सही structure न होना, web page navigation ठीक न होना, symbol की relevancy न होना इत्यादि. ऐसे में customers को बहुत परेसान होना होता है.

Unhelpful content material का होना :  ऐसे contents जो की readers के लिए कोई भी काम के नहीं है उन्हें google महत्व नहीं देता है.

Reproduction Textual content:  बहुत बार होता है की कई bloggers दूसरों के content material को reproduction कर लेते हैं उन्हें credit score भी नहीं देते हैं, ऐसे में उन्हें reproduction textual content का करार दिया जाता है. ये भी Panda replace का शिकार होते हैं.

Article Spinning:  कई बार bloggers Reproduction content material से बचने के चक्कर में Content material में थोड़ी बहुत हेर फेर करते हैं उसे अपने weblog publish में submit करने की कोशिश भी. ये भी Panda replace के अनुसार सही नहीं है.

Google Panda replace से अपने web page को Get well कैसे करें

अगर आप भी google के panda replace का शिकार हैं तब आपको ऊपर बताए गए issues का ख़ास ख्याल रखना पड़ेगा. इसके साथ अगर आपके ऐसे कोई contents हैं तब उन्हें delete करना पड़ेगा, या फिर अगर low high quality content material हैं तब उन्हें edit करके सही करना पड़ेगा.

Google Penguin Replace क्या है

दूसरा सबसे बड़ा जो Google set of rules में आया था वो है Google Penguin Replace in Hindi. इस replace का मुख्य उद्देश्य hyperlink high quality और amount को test करना है.

इस Penguin replace को सबसे पहली बार April 24, 2012 में introduce किया गया.

Websites जिन्होंने की hyperlinks की खरीदारी करी है या उनके weblog में low-quality hyperlinks मेह्जुद हैं जो की low-quality directories, weblog unsolicited mail, या hyperlink badges से आये हैं तब उन्हें Penguin replace का सामना करना पड़ा होगा, जिसके चलते उनके websites और google में rank नहीं हुए होंगे.

ज्यादातर websites को इस replace को लेकर चिंता नहीं होगी, अगर उन्होंने ऐसे कोई तरीके का इस्तमाल अपने Web site में inbound links के लिए अगर नहीं किया होगा. या फिर कोई ऐसे search engine optimization knowledgeable को नहीं rent किया होगा जो की ऐसे techniques को apply करता हो.

इसलिए आपके न चाहते हुए भी आपको इन सब से परेशानी हुई होगी, इसलिए कोई भी search engine optimization advisor और search engine optimization company को hiring करने से पहले उनके विषय में जरुर analysis करें. अगर आपने previous में ऐसे hyperlink development techniques का इस्तमाल किया हुआ होगा जो की उस समय appropriate थे पर अब नहीं तब आपको Penguin replace से जरुर नुकशान हुआ होगा.

एक उदहारण के लिए, visitor running a blog कुछ वर्षो पहले ठीक था, लेकिन अब उसमें भी कुछ बदलाव आये हैं जैसे आपको hyperlink construct करने के लिए सही Websites का चुनाव करना चाहिए जो की आपसे identical हो.

Google Penguin से कोन ज्यादा प्रभावित हुए

Purchasing Hyperlinks:  अगर आप अपने web page के rating के चक्कर में hyperlinks बहार से खरीदते हैं तो ये Google webmaster tips का सरासर उलंगन है क्यूंकि आप कभी भी किसी को पैसे देकर hyperlink नहीं ले सकते हैं.

Other Anchor Textual content का न होना :  जो hyperlink हम textual content me upload करते हैं उन्हें anchor textual content कहा जाता है, ऐसे में अगर आपके weblog पर जितनी भी textual content hyperlink refer हो रही है और वो सारे अगर समान anchor textual content से ही आ रही है तब इससे rating पर जरुर असर पड़ेगा, और ऐसा करना बिलकुल भी ठीक नहीं है.

Low High quality hyperlinks:  अगर आपको कही से hyperlink आ रहा है और उसका content material high quality बहुत ही low है तब ऐसे में आपके weblog के ऊपर इसका unfavourable असर पड़ सकता है.

Key phrase Stuffing:  ये बहुत ही आसान तरीका है key phrase rank करने का जिसमें आपको अपने Article में centered Key phrase का बार बार इस्तमाल करना होता है. इसी procedure को Key phrase Stuffing कहते हैं.

करना Penguin replace के पूरा खिलाप है और ऐसा करना आपके लिए बाद में भारी पड़ सकता है. इसलिए आपको key phrase density के विषय में जानकारी होना बहुत जरुरी है.

Google Penguin Replace से अपने web page को Get well कैसे करें

इस Replace से अगर आपके Weblog को बचाना तब आपको अपने weblog से ऐसे low high quality hyperlinks को पूरी तरह से take away करना होगा. ऐसा करने के लिए आपको Google Seek Console में ऐसे hyperlinks को Disavow करना होगा.

Google Hummingbird Replace क्या है

तीसरा जो सबसे vital replace है वो है Google Hummingbird Replace in Hindi. ये भी primary Google seek set of rules का एक बहुत ही महत्वपूर्ण हिस्सा है और एक बहुत बड़ा बदलाव रहा है set of rules का सन 2001 से.

Hummingbird Replace in Hindi को जो सबसे अलग करता है वो ये नहीं की ये केवल particularly एक unsolicited mail focused on set of rules ही है, बल्कि ये एक ऐसा set of rules जो की ये ensure that करता है की explicit queries का हमेशा perfect effects ही display करे.

Hummingbird का मुख्य उद्देश्य ही है की वो customers के seek queries को बेहतर समझे, इसके साथ ये conversational seek पर ज्यादा ध्यान देता है.

Word :- Conversational Seek उस seek को कहा जाता है जहाँ आपका Seek engine आपके द्वारा लिखी गयी queries को खुद ही पूर्ण कर देता है. यानि की आपको उस queries से सम्बंधित recommendation प्रदान करता है जिन्हें की लोग अक्सर seek करते हैं.

इसके निर्माताओं का ये मानना है की Hummingbird का उन प्रकार के websites पर ज्यादा अच्छा have an effect on है जो की fine quality content material प्रदान करते हैं और searcher को उनके सवालों का सही जवाब या effects प्रदान करते हैं. इससे person revel in भी काफी अच्छा होता है.

इसके साथ Hummingbird long-tailed seek queries पर भी अच्छा have an effect on डालता है और उन्हें seek outcome में upper rank करता है. ऐसा इसलिए क्यूंकि Google ये चाहता है की वो हमेशा lengthy queries के लिए fine quality effects प्रदान करे.

उदहारण के तोर पर अगर आप किसी चीज़ के विषय में जानना चाहें तब वो corporate के homepage को display नहीं करता बल्कि उस चीज़ से सम्बंधित अगर कोई inside web page है जहाँ की उसके विषय में ज्यादा जानकारी है तब वो seek outcome में उसे display करेगा.

Hummingbird Replace ये ख़ास ध्यान रखता है की Longer seek queries, जैसे की हम voice seek में देखते हैं, और उसी प्रकार के queries जिन्हें की searchers अपने cell में करना पसंद करते हैं, इन्हें वो conversational seek में ज्यादातर spotlight करते हैं.

Researchers का कहना है की conversational seek को optimize करना बहुत ही आसान है, ऐसे में अगर आपका content material बहुत ही ज्यादा readable है और वो सारे lengthy tail queries या brief tail queries का सही तरीके से solution प्रदान करता है तब आपके content material के लिए तो hummingbird replace एक वरदान साबित होगा.

ये बात किसी को भी नहीं पता है की Hummingbird Replace को Google कब trade करता है और कब replace करता है.

इसलिए अगर आप चाहते हैं की आपके Contents पर Hummingbird Upadate का sure असर पड़े तब आपको अपने content material को Conversational seek के अनुसार optimize करना होगा जिससे की ये Seek Effects में ऊपर में display करेंगे. इसके लिए आप Google के auto recommendation function का assist ले सकते हैं.

आज आपने क्या सीखा

मुझे पूर्ण आशा है की मैंने आप लोगों को Google Set of rules क्या है? नए Google Updates क्या है और ये कैसे काम करता है? के बारे में पूरी जानकारी दी और में आशा करता हूँ आप लोगों को Google Updates क्या है के बारे में समझ आ गया होगा.

मेरा आप सभी पाठकों से गुजारिस है की आप लोग भी इस जानकारी को अपने आस-पड़ोस, रिश्तेदारों, अपने मित्रों में Percentage करें, जिससे की हमारे बिच जागरूकता होगी और इससे सबको बहुत लाभ होगा. मुझे आप लोगों की सहयोग की आवश्यकता है जिससे मैं और भी नयी जानकारी आप लोगों तक पहुंचा सकूँ.

मेरा हमेशा से यही कोशिश रहा है की मैं हमेशा अपने readers या पाठकों का हर तरफ से हेल्प करूँ, यदि आप लोगों को किसी भी तरह की कोई भी doubt है तो आप मुझे बेझिजक पूछ सकते हैं. मैं जरुर उन Doubts का हल निकलने की कोशिश करूँगा.

आपको यह लेख Google Set of rules Updates क्या है और ये कैसे काम करता है? कैसा लगा हमें remark लिखकर जरूर बताएं ताकि हमें भी आपके विचारों से कुछ सीखने और कुछ सुधारने का मोका मिले. मेरे पोस्ट के प्रति अपनी प्रसन्नता और उत्त्सुकता को दर्शाने के लिए कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Fb, Twitter इत्यादि पर percentage कीजिये.

“ मेरा देश बदल रहा है आगे बढ़ रहा है ”

आइये आप भी इस मुहीम में हमारा साथ दें और देश को बदलने में अपना योगदान दें.

Leave a Comment