CPU क्या है और इसका फुल फॉर्म

[ad_1]

क्या आपको पता है की ये CPU क्या है? क्यूँ इसे pc का mind (मस्तिष्क) भी कहा जाता है? ऐसे बहुत से सवाल हैं जो अक्सर कई लोगों को परेशान करते हैं. जैसे हमारे शरीर में हमारा मस्तिष्क हमारे सारे प्रक्रियाओं को keep watch over करता है ठीक वैसे ही एक pc में भी CPU उसके भीतर और बहार हो रहे सभी प्रक्रियाओं को नियंत्रण करता है ख़ास इसीलिए ही CPU को mind of the pc भी कहा जाता है.

यह person के द्वारा दिए गए सभी directions को maintain करता है, और यह CPU के capability के ऊपर है की वो कितनी जल्दी और किस हिसाब से उन directions को procedure करता है. जितनी जल्दी वो कर सके उसे उतना ही बेहतर या environment friendly CPU कहा जाता है. चलिए सीपीयू के बारे में कुछ जानकारी लेते है.

जैसे जैसे Generation में development हो रही है, वैसे वैसे हमें ज्यादा से ज्यादा complicated processes को procedure करने के लिए Rapid CPU की जरुरत हो रही है जो की इन Complicated calculation को सहजता से कर सकते और एक साथ बहुत से processes को maintain कर सके, इस चीज़ को Multitasking भी कहा जाता है. ख़ास इसीलिए Tool और {Hardware} Builders हमेशा बेहतर CPU को बनाने में लगे हुए होते हैं क्यूंकि उनकी call for भी बढती ही जाती है. एक उदहारण लेते हैं समझने के लिए.

जब आप कोई pc या कोई desktop खरीदने के लिए जाते हैं दुकान में तब वो आपको कुछ technical specs के विषय में बताते है जैसे की 64 bit quad core Intel i7, या i5 इत्यादि. यदि आप pc के box से नहीं है तब आपको इससे कुछ भी समझ में नहीं आएगा. लेकिन आखिर में वो क्या कह रहा है आपके पल्ले कुछ भी नहीं पड़ेगा. घबराये नहीं क्यूंकि आज हम इन्ही Technical specification, Cores, CPU के विषय में ही जानकारी प्रदान करने वाले हैं.

हर 6 महीने में बाज़ार में आपको नए processor वाले CPU नज़र में आयेंगे. ऐसे भी नए customers के लिए कठिन होता है उन्हें कोन से processor का चुनाव करना चाहिए अगर वो कोई नया device खरीद रहे हैं तब. क्यूंकि आपके काम के हिसाब से आपकी requirement होती है.

ऐसे में अगर आपको fundamental काम ही करना है तब आपको ज्यादा complicated CPU लेने की कोई भी जरुरत नहीं है. क्यूंकि ऐसे कार्यों के लिए आपका standard CPU भी वो काम आराम से कर सकता है और आपको ज्यादा पैसों को खर्च नहीं करना पड़ेगा. लेकिन सही जानकारी न होने के कारण ही लोग हमेशा दुकानदारों के बहकावे में आ जाते हैं और ज्यादा कीमती CPU खरीद लेते हैं जो की उन्हें कभी भी जरुरत नहीं होती.

इसलिए आज मैंने सोचा की क्यूँ न आप लोगों को सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट क्या है और कैसे काम करता है उसके विषय में सही जानकारी प्रदान करूँ जिससे आपको सही CPU का चुनाव करने में आसानी हो. तो फिर बिना देरी किये चलिए शुरू करते हैं और CPU क्या होता है हिंदी में के बारे में जानते हैं.

Table of Contents

सीपीयू क्या है (What’s CPU in Hindi)

CPU Kya Hai Hindi Me

क्या आपको पता है CPU का पूरा नाम क्या है? CPU का Complete Shape होता हिया Central processing unit. यह एक छोटा सा piece का {hardware} होता है जो की pc program के सभी directions को procedure करता है. यह Pc device के सभी vital duties जैसे की arithmetical, logical, और enter/output operations को maintain करता है.

CPUs को कुछ इसप्रकार से बनाया जाता है की जहाँ billions की मात्रा में microscopic transistors को एक unmarried pc chip में रखा जा सके. यही transistors की मदद से ही सभी calculations को किया जाता है जिनकी जरुरत systems को run करने के लिए किया जाता है जो की device के reminiscence में retailer होते हैं.

CPU को इसीलिए pc का mind भी कहा जाता है क्यूंकि – सभी instruction, चाहे वो कितना भी easy क्यूँ न हो, सभी को CPU के माध्यम से ही जाना होता है. उदहारण के लिए आपको कोई alphabet kind करते हैं जैसे की L तब ये Display में seem होता है. इसे display screen में seem होने में CPU का हाथ होता है.

इसीकारण CPU को central processor unit के नाम से भी refer किया जाता है, और quick में इसे processor कहा जाता है. इसलिए जब आप कोई digital retailer में कोई instrument का technical specification देख रहे होते हैं तब वहां पर जो processor specification होता है वो ही CPU है.

जब हम CPU के अलग अलग प्रकार के बारे में discus करते हैं तब इससे हमारा तात्पर्य उसके velocity से रहता है. जैसे की वो कितनी जल्दी सभी serve as को पूर्ण करता है. हमें अपने काम करने में velocity की ही जरुरत होती है, जितनी जल्दी हमारे काम की processing होगी उतनी ही जल्दी हम कोई नया काम को आसानी से कर सकते हैं.

जैसे जैसे हमारे instruction complicated बनते हैं जैसे की 3-D animation, video recordsdata की modifying इत्यादि ऐसे में हमें ज्यादा बेहतर CPU की जरुरत होती है. इसलिए processor generation में जो भी technological advances हुए है वो सभी के पीछे velocity ही सबसे महत्वपूर्ण कारण रहा है.

CPU को हम बहुत से नाम से जानते हैं जैसे की processor, central processor, या microprocessor इत्यादि. यह अपने Tool और {Hardware} से जो भी directions obtain करता है चाहे वो जितना भी छोटा क्यूँ न हो उसे ये procedure करता है. इसलिए Pc का यह एक बहुत ही main हिस्सा है.

CPU generation में जो भी developments होते हैं उसमें एक चीज़ को ज्यादा अहमियत दी जाती है वो ये की कैसे transistors को छोटे से और छोटा किया जा सके. ऐसा इसलिए क्यूंकि इससे उन CPU को ज्यादा environment friendly बनाया जा सके और उनकी velocity को कई गुना तक बढाया जा सके.

इस चीज़ के बारे में सबसे पहली बार एक वैज्ञानिक जिनका नाम Moore है उन्होंने कहा था. इसलिए इस चीज़ Moore’s Regulation भी कहा जाता है.

सीपीयू का फुल फॉर्म क्या है?

CPU का फुल फॉर्म है Central Processing Unit. अगर आप इसे हिंदी में ट्रांसलेट करेंगे तो यह होता है “केंद्रीय प्रक्रमन एकक“.

CPU को हिंदी में क्या कहा जाता है ?

CPU को हिंदी में केंद्रीय प्रचालन तंत्र या केंद्रीय प्रसंस्करण इकाई कहा जाता है.

सीपीयू के कार्य

तो चलिए जानते हैं Central Processing Unit (CPU) के कुछ महत्वपूर्ण options के विषय में

  • CPU को pc का mind माना जाता है.
  • CPU सभी प्रकार के information processing operations करता है.
  • ये information, intermediate effects, और directions (program) को retailer करता है.
  • इसके साथ ये pc के सभी portions के प्राय सभी operations को keep watch over करता है.

CPU कैसे काम करता है

आपको ये जानना जरुरी है के CPU क्या काम करता है. वैसे तो हम ये जानते ही हैं की CPU जो कार्य करता है वो बहुत ही vital होते हैं लेकिन अब हम जानेंगे की कैसे ये CPU काम करता है. CPU के उत्पत्ति से अभी तक इसमें ऐसे बहुत सारे enhancements किये गए है पिछले कई बर्षों में.

इतने सारे enhancements के वाबजूद भी CPU के जो fundamental serve as हैं वो अभी तक भी similar है. इसके जो fundamental serve as हैं वो हैं fetch, decode, और execute. चलिए इनके विषय में विस्तर में जानते हैं.

Fetch

जैसे की शब्द से मालूम पड़ता है इसमें instruction को obtain किया जाता है. इसमें instruction का मतलब है की collection of numbers जिसे की RAM से CPU तक cross किया जाता है. प्रत्येक instruction एक छोटा सा ही section होता है किसी operation का, इसलिए CPU को ये पता होना चाहिए की कोन सा instruction subsequent आ रहा है. Present instruction cope with को program counter (PC) के द्वारा रखा जाता है.

फिर PC और directions को Instruction Check in (IR) में position किया जाता है. उसके पश्चात PC period को बढाया जाता है जिससे उसे reference किया जा सके subsequent instruction’s cope with पर.

Decode

एक बार instruction को fetch और retailer कर लिया गया IR में, फिर CPU उस instruction को cross कर देती है एक ऐसी circuit में जिसे की instruction decoder कहते हैं. ये फिर उस instruction को convert करती है indicators में जो की बाद में cross किया जाता है दुसरे CPU के portions के द्वारा आगे के motion के लिए.

Execute

ये आखिर का step होता है, जिसमें decoded directions को CPU के related portions पर भेजा जाता है whole होने के लिए. फिर effects को अक्सर write किया जाता है CPU check in में, जहाँ पर उन्हें reference किया जा सकता है later directions के द्वारा. यहाँ आप इन्हें अपने calculator के reminiscence serve as के तरह समझ सकते हैं.

CPU के हिस्सों के बारे में जानकारी

CPU Parts in Hindi
सीपीयू का चित्र

यहाँ पर जानेंगे की CPU के elements क्या है और वो क्या काम करते हैं. वैसे तो CPU के मुख्य तीन elements होते हैं.

  • Reminiscence या Garage Unit
  • Regulate Unit
  • ALU (Mathematics Good judgment Unit)

Reminiscence या Garage Unit

ये unit device के directions, information, और intermediate effects को retailer करते हैं. ये unit दुसरे सभी devices को data भी प्रदान करते हैं जरुरत पड़ने पर. इसे inside garage unit या major reminiscence या number one garage या Random Get right of entry to Reminiscence (RAM) भी कहा जाता है.

इसकी measurement have an effect on करती है इसके velocity, energy, और capacity पर. Number one reminiscence और secondary reminiscence दो ऐसे recollections होते हैं जो की pc में मेह्जुद होते हैं.

Reminiscence Unit के Purposes क्या हैं

  • यह processing के जरुरत हुए सभी information और directions retailer करती हैं.
  • यह सभी intermediate result of processing को retailer करते हैं.
  • यह ultimate result of processing को retailer करी हुई होती है जब उन्हें output instrument में unencumber तब किया भी नहीं हुआ होता है output instrument में.
  • सभी inputs और outputs को major reminiscence के द्वारा transmit किया जाता है.

Regulate Unit

ये unit pc के सभी portions के operations को keep watch over करती हैं लेकिन ये कोई precise information processing operations नहीं करती हैं.

Regulate Unit के Purposes क्या हैं

  • ये information और directions के transfers को keep watch over करने के लिए काम में आता है जिन्हें की pc के दुसरे devices को switch करने के लिए किया जाता है.
  • ये pc की सभी devices को set up और coordinate करने के लिए किया जाता है.
  • ये reminiscence से directions को प्राप्त करता है, उन्हें interpret करता है, और उन operation को pc तक direct करने के लिए इस्तमाल किया जाता है.
  • यह Enter/Output units के साथ keep in touch करता है information switch के लिए और garage से effects के लिए.
  • ये कोई भी चीज़ procedure नहीं करता और न ही कोई information retailer करता है.

ALU (Mathematics Good judgment Unit)

इस unit में दो subsections होते हैं जिन्हें की कहते हैं,

  • Mathematics Phase
  • Good judgment Phase

Mathematics Phase
इस mathematics segment का serve as है की ये सभी mathematics operations जैसे की addition, subtraction, multiplication, और department को carry out करती हैं. सभी complicated operations को ऊपर बताए गए operations को repetitive use कर ही किया जाता है.

Good judgment Phase
इस common sense segment का जो मुख्य serve as है वो ये की ये सभी common sense operation जैसे की evaluating, settling on, matching, और merging of information को carry out करती हैं.

सीपीयू के प्रकार (Sorts of CPU in Hindi)

जैसे की हम जानते हैं की pc CPU (जिसे quick में Central Processing Unit) कहते हैं एक बहुत ही important element है जो की सभी directions और calculations को maintain करती हैं जिन्हें उसे ship किये जाता है दुसरे pc’s elements और peripherals से. Tool Systems किस velocity से काम करती है ये भी CPU के ऊपर निर्भर करता है की वो कितने tough हैं.

इसलिए ये महत्वपूर्ण है की आप सही CPU का चुनाव करें जिससे वो सभी कार्यों को जरूरत अनुसार maintain कर सकें. अभी पूरी दुनिया में दो सबसे बड़े main CPU producers है Intel और AMD, जिनके पास अपने ही प्रकार के CPUs मेह्जुद हैं.

Unmarried Core CPUs

Unmarried core CPUs सबसे पुराने kind के pc CPU में to be had होते हैं और सबसे पहले इन्ही प्रकार के CPU का इस्तमाल में लाया गया.

Unmarried core CPUs में केवल एक समय में एक ही operation किया जा सकता है, इसलिए ये multi-tasking के लिए सही possibility नहीं हैं. जब भी person एक से ज्यादा software run करने को चाहे तब इनका efficiency बड़ी जल्दी ही कम हो जाता है.

यदि आप कोई दूसरा software run करने को चाहें तब आपको पहला ख़त्म होने तक का इंतजार होना पड़ेगा. नहीं तो पहला operation बहुत ही gradual हो जायेगा. इस प्रकार के CPUs में pc का efficiency ज्यादातर clock speeds के ऊपर निर्भर करता है और जो की energy का भी size है.

Twin Core CPUs

एक twin core CPU unmarried CPU ही होता है लेकिन इसमें दो cores होते हैं और इसलिए ये दो CPUs के तरह ही serve as करता है.

जहाँ unmarried core CPU में processor को other units of information streams में transfer again और forth करना होता है अगर ज्यादा operation करना हो वहीँ twin core CPUs बड़े ही आराम से multitasking को maintain कर सकता है वो भी successfully.

Twin Core का ज्यादा benefit लेने के लिए दोनों working device और जो systems उसमें run कर रही है, दोनों में एक particular code का लिखा होना बहुत ही आवश्यक है जिसे की SMT (simultaneous multi-threading generation) कहा जाता है. Twin core CPUs Rapid होते हैं unmarried core के तुलना में लेकिन quad core CPUs के तरह नहीं होते हैं.

Quad Core CPUs

Quad Core CPUs additional refinement होते हैं multi-core CPU design का और इसमें 4 cores को एक unmarried CPU में function किया जाता है. जैसे की एक twin core CPUs में workload को break up किया जाता है two cores के भीतर, ठीक वैसे ही quad cores में और भी ज्यादा मात्रा में बड़े multitasking कार्य किया सकता है. इसका ये मतलब नहीं है की एक unmarried operation चार गुना तक quicker हो जायेंगे.

ये केवल SMT Code के होने से ही conceivable है. इन CPUs में velocity ज्यादा noticeable नहीं होते हैं. लेकिन हाँ जिन customers को बहुत सारे heavy duties जैसे की Video modifying, Video games, animations जैसे duties अगर एक साथ करना है तब ये CPUs उनके जरुर काम में आने वाले हैं.

CPU कितना महत्वपूर्ण हैं?

जैसे की मैंने पहले ही कहा है की CPU एक pc के लिए कितना महत्वपूर्ण है. चूँकि इसे mind of pc भी कहा जाता है इसलिए आप समझ ही गए होंगे की ये कितना महत्वपूर्ण है.

चूँकि ये only accountable है program के भीतर instructions को execute करने के लिए, जितनी ज्यादा CPU की capability होगी उतनी ही ज्यादा जल्दी से ये अपने packages को run कर सकते हैं.

CPU Cores क्या है और CPU में कितने Cores होते हैं?

पहले के समय की computing की बात करें तब पहले CPU में unmarried core हुआ करते थे. इसका मतलब है की CPU केवल एक unmarried set of duties तक ही restricted होते थे.

ख़ास इसी कारण के वजह से ही पहले के computer systems में computing की velocity बहुत कम होती थी और वो कार्य करने के लिए ज्यादा समय लगाते थे.

लेकिन समय के साथ और ज्यादा computing energy के requirement के कारण ही producers को efficiency बढ़ाने के लिए नए तरीकों का अवलंबन करना पड़ा. और इसी efficiency को fortify करते वक़्त multi-core processors का जन्म हुआ. जो की आजकल हम twin, quad, और octo-core CPU के विषय में सुन रहे हैं.

Twin Core Processor : एक dual-core processor में दो separate CPUs एक unmarried chip में मेह्जुद होते हैं. Cores की संख्या को बढ़ा देने से, CPUs a couple of processes को concurrently maintain करने में सक्षम हो जाते हैं.

इससे producers को उनके necessities के अनुसार ज्यादा efficiency वाला और processing time कम लेने वाला CPU मिल जाता है.

Twin-core के आने से ये आगे quad-core processors जिसमें 4 CPUs होते हैं, उसे ये increase करने में सहायक होते हैं. वैसे ही octo-core processors भी.

Hyper Threading क्या है?

कुछ CPUs अपने मेह्जुदा physial core को virtualize कर ज्यादा cores की क्ष्य्मता उत्पन्न कर देते हैं. इस प्रक्रिया को Hyper Threading कहा जाता है. उदहारण के लिए Unmarried core को इस्तमाल कर उसे twin cores के तरह virtualize कर देना. इससे unmarried core के होते हुए भी twin cores का काम करवाया जा सकता है.

Virtualizing का अर्थ है की एक CPU जिसमें एक core मेह्जुद हो लेकिन वो twin core के तरह serve as करने लगे. यहाँ पर further cores का मतलब है की separate threads का होना. लेकिन यहाँ पर ये जानना चाहिए की physcial core ज्यादा बेहतर carry out करते हैं digital cores के तुलना में.

Multithreading क्या है?

यहाँ पर thread को cores माना गया है. माने की एक unmarried thread को आप एक unmarried piece of pc procedure मान सकते हैं. वहीँ Multithreading का मतलब है की ज्यादा threads को एक साथ procedure करना.

मतलब की एक unmarried CPU में ज्यादा quantity के directions को समझा और procedure किया जाता हो एक ही समय में. इससे CPU core एक ही समय में ज्यादा काम एक साथ procedure कर सकती है. जिससे computing velocity बहुत ही बढ़ जाती है.

Intel Core i3 vs. i5 vs. i7

चलिए Intel के अलग अलग CPU के विषय में जानते हैं. कैसे ये processor काम करते हैं. आप जरुर सोच रहे होंगे की Intel के i7 processor बेहतर प्रदर्शन करता है i5 और i3 के मुकाबले. और ये सच भी है. क्यूंकि i7 ज्यादा बेहतर होता है i5 से और i5 बेहतर होता है i3 से.

लेकिन क्या आप जानते हैं की ये processor क्यूँ एक दुसरे से भिन्न है और एक दुसरे से efficiency के मामले में अलग हैं. लेकिन इसे समझना आसान है, चलिए इसके बारे में जानते हैं.

Intel Core i3 processors dual-core processors होते हैं, वहीँ i5 और i7 processors quad-core होते हैं.

Turbo Spice up जैसे function के होने से i5 और i7 chips ज्यादा बेहतर काम करते हैं. इस turbo spice up से ये processor को allow करता है अपने clock velocity को base velocity से ज्यादा करने में मदद करता है, जैसे की 3.zero GHz से 3.Five GHz तक, जब भी उन्हें इसकी जरुरत पड़े तब. लेकिन Intel Core i3 chips में ये function नहीं होते हैं.

वो Processor fashions जिनके finishing में “Okay” लिखा हुआ होता है वो आसानी से overclocked किया जा सकता है, इसका अर्थ है की further clock velocity को drive किया जा सकता है और जरुरत के समय पर उसे make the most of किया जा सकता है.

Hyper-Threading, जैसे की मैंने पहले ही इसके विषय में बता चूका हूँ, ये allow करता है दो threads को एक साथ procedure करने के लिए every CPU core में. इसका मतलब है की i3 processors जिसमें Hyper-Threading toughen करता है उसमें चार simultaneous threads को (क्यूंकि वो dual-core processors होते हैं) एक साथ procedure किया जा सकता है.

वहीँ Intel Core i5 processors Hyper-Threading को toughen नहीं करता है, इसका मतलब है की वो भी 4 threads के साथ एक ही समय में कार्य कर सकते हैं. वहीँ i7 processors लेकिन इस generation को toughen करते हैं (क्यूंकि ये quad-core है) इसलिए ये एक समय में Eight threads को procedure कर सकते हैं.

क्यूंकि बहुत से instrument में energy constraints के होने से जिसमें steady provide of energy नहीं होता है वहां पर सभी processors चाहे वो i3, i5, या i7 हो उन्हें अपने efficiency और energy intake को steadiness करना होता है.

CPU कैसे दिखाई पड़ता है और ये कहाँ पर स्तिथ होता है?

एक trendy CPU typically छोटा और sq. form का होता है, जिसमें की बहुत से quick, rounded, steel connectors निचे के तरफ लगे होते हैं. लेकिन कुछ पुराने CPUs में pins होते हैं steel connectors के जगह में.

CPU at once connect होते हैं CPU “socket” के साथ (या infrequently a “slot”) जो की motherboard में स्तिथ होता है. CPU को inserted किया जाता है socket pin-side-down में, और एक छोटा lever उस processor को safe करने में मदद करता है.

चूँकि CPU को बहुत से processes को एक साथ करना होता है इसलिए कुछ समय run होने के कारण ये trendy CPUs ज्यादातर समय sizzling (गरम) हो जाते हैं. इसलिए इस warmth को दूर करने के लिए ये जरुरी है की उसके साथ एक warmth sink और एक fan को at once CPU के most sensible में connect करें. Most often, ये CPU के साथ bundled होकर आता है जिसे आपको जरुर खरीदना चाहिए.

दुसरे complicated cooling choices की बात करें आप water cooling kits का इस्तमाल कर सकते हैं. इन CPU को set up करते वक़्त उनका ख़ास ख्याल रखें क्यूंकि इसके pins बहुत ही subtle होते हैं.

CPU Clock Velocity क्या है?

किसी भी processor का Clock velocity उसे कहते हैं जहाँ की एक processor एक 2d में कितने choice of directions को procedure कर सके. इसे gigahertz (GHz) में measure किया जाता है.

उदहारण के तोर पर अगर एक CPU का clock velocity है 1 Hz तब इसका मतलब है की ये एक 2d में एक ही instruction को procedure करता है. वहीँ अगर एक CPU की clock velocity 3.zero GHz तब ये एक 2d में Three billion directions को procedure कर सकती हैं.

CPU के Benefits क्या है

वैसे तो CPU के बहुत सारे benefits हैं एक Pc में. लेकिन यहाँ पर हम केवल कुछ ही benefits के विषय में बात करेंगे.

Mathematical Information का Rapid Calculation करना

Pc Processor या CPU का जो number one benefit वो ये की इससे आप rapid calculation कर सकते हैं mathematical information का. यह एक बहुत ही vital explanation why है क्यूँ computer systems कुछ duties में इंसानों से भी आगे होते हैं उदहारण के लिए Mathematical modeling.

इसी rapid calculation of mathematical information के आधार पर ही pc में बहुत से duties किया जा सकता है जैसे की online game, picture modifying इत्यदि.

A Dynamic Circuit

एक trendy pc processor principally एक dynamic circuit होता है. इसमें करोड़ों के मात्रा में tiny switches होते हैं जिन्हें की transistors कहा जाता है. Processor के दुसरे elements इन tiny switches के configuration को keep watch over करते हैं उनके enter information के हिसाब से या energetic software से.

यही tiny switches बड़े और complicated dynamic circuits तैयार करती है, जैसे की revealed circuit board (PCB) में होता है electronics में. इसी तरह से एक pc दुसरे electronics के serve as को emulate कर सकती हैं.

Fundamental Pc Capability

किसी भी pc का एक number one foundation होता है एक processor. बाकि सभी {hardware} elements को processor के हिसाब से ही बनाया गया होता है. इसके बिना pc के बाकि {hardware} और device बिलकुल ही useless है.

सभी enter और output peripherals पूरी तरह से processor पर ही rely करते हैं information के enter और output के लिए. क्यूंकि इसी processor के माध्यम से ही enter information processed होकर output तक पहुँचती है. ये processor ही है जहाँ पर pc कोई भी चीज़ compute करता है.

सीपीयू की परिभाषा

सभी pc में जो की आपके place of work में आप देख सकते हैं उसमें आपको एक बहुत ही महत्वपूर्ण चीज़ होती है जिसे की Central Processing Unit, या CPU कहते हैं. ये CPU सभी प्रकार की mathematics और logical selections procedure करती है वो भी billions of operations in keeping with 2d के velocity में.

Pc के प्राय सभी elements CPU को serve करते हैं और information को fetch कर, retailer कर और in the end display screen में effects को show करने में. तो चलिए इसके कुछ कार्यों के ऊपर नज़र डालते हैं.

Calculations

एक CPU सभी fundamental mathematics जैसे की addition, subtraction, multiplication और department बहुत ही prime speeds में करती हैं. चूँकि complicated math purposes में lengthy chains के simple math होते हैं, इसलिए आपका pc भी इन trigonometry, logarithms और दुसरे difficult math issues को rapid कर सकता है.

उदहारण के लिए आपके pc का CPU masses of spreadsheet cells को calculate कुछ ही fraction of a 2d में कर सकता है.

Good judgment

CPU बहुत से common sense selections को easy comparisons के आधार पर करता है, जैसे की greater-than situation, less-than situation और equal-to situation. फिर CPU comparability के consequence के हिसाब से अपने motion लेता हैं.

Shifting Information

CPU अपना बहुत सा समय information को एक जगह से दूसरी जगह तक transfer करने में लगा देता है. उदहारण के लिए किसी record को onerous power से learn (पढना) करना, information में कुछ calculation करना और बाद में उसे किसी दुसरे record में write करना.

Multitasking

CPU बड़ी आसानी से “multitasks,” कर सकता है, इसके लिए इसे अलग अलग प्रकार के systems में transfer करना होता है. और priroty के हिसाब से काम करना होता है. इससे CPU reminiscence का complete use करता है. Multitasking के होने से एक साथ बहुत से काम parallelly चल सकते हैं बिना किसी job को बंद किये.

CPU का भविस्य

जैसे जैसे generation में development हो रही है. वैसे ही CPU में भी कई ऐसे development होने लगेंगे जैसे की superconductor graphene का इस्तमाल Silicon के स्थान पर या उसके साथ मिलकर.

प्रत्येक वर्ष CPU की measurement धीरे धीरे कम हो रही है. जैसे की newest era की Intel structure को manufactured किया गया है 22 nanometers में (nm = 1 billionth of a meter). सुना जा रहा है की next-generation की CPU इससे भी कम केवल 14nm में होने वाला है.

इसके छोटे हो जाने से energy intake को भी decrease किया जा सकता है और additional cores को भी upload किया जा सकता है CPU में, इससे Moore’s regulation को भी intact रखा जा सकता है.

धीरे धीरे ये measurement निरंतर कम होने में लग रहा है. लेकिन ये जितना भी छोटा हो जाये लेकिन Silicon के atom के measurement से तो बड़ा ही होगा क्यूंकि उससे ये छोटा हो ही नहीं सकता. तब ये इस बात की और इशारा कर रहा है की जल्द ही Silicon के स्थान पर कोई नयी चीज़ का इस्तमाल किया जा सकता है.

शायद वो चीज़ graphene हो? क्यूंकि ये बहुत ही smaller measurement की होती है. Extraordinarily skinny होती है, एक तरह की thinnest recognized fabrics है. इससे ये scientists को जरुर मदद करेंगी CPU के measurement को कम करने में. IBM ने document किया है की उन्होंने एक graphene “transistor” को increase किया है जो की 300GHz में भी काम कर सकती है.

जिस तरह से generation का इस्तमाल हो रहा है उससे ये बात तो साफ़ है की CPU Trade में बहुत ही जल्द Graphene CPU का इस्तमाल देखने को मिल सकता है. ये तो समय ही बताएगा की आगे CPU में क्या adjustments आने वाले हैं.

Continuously Requested Questions (अक्सर पूछे जाने वाले सवाल)

1Led से CPU कैसे attach करे?

A – Led Television को CPU के साथ attach करने के लिए आप male-to-male HDMI cable का इस्तमाल कर सकते हैं. इसके लिए आपको Television का enter बदलना होगा far flung से. फिर आपको pc के show settings में कुछ बदलाव लाना होगा. ऐसा करने से आप CPU से आसानी से LED Television को attach कर सकते हैं.

2सबसे अच्छा CPU कौन सा है?

A – वैसे Marketplace में बहुत से CPU होते हैं. यहाँ मैंने कुछ CPU के नाम बताये हैं जो की highest हैं.

1 – Intel® Core™ i5-8600

2 – AMD Ryzen 5 1600

3 – AMD Ryzen 5 2600X

4 – Intel® Core™ i5-8600Okay Desktop Processor

5 – Intel® Core™ i7-8700Okay Desktop Processor

3CPU AC पे चलता है या DC पर?

A – CPU को चलाने के लिए DC present का इस्तमाल किया जाता है.

4Cpu का अविष्कार किसने किया और कब किया?

A – CPU की fundamental structure की design Marcian Edward “Ted” Hoff ने की थी. और इसी structure को इस्तमाल कर Federico Faggin ने सबसे पहले CPU (Microprocessor) बनया था. इसे Intel 4004 का नाम दिया गया था. इसे सन 1971 में बनाया गया था.

इस CPU में Four bit structure का इस्तमाल किया गया था, मतलब की ये ऐसे information को procedure किया जाता है जो की Four bit period की होती है, और इसमें 256 bytes of Learn Most effective Reminiscence (ROM) होती थी, 32 bit RAM और एक 10 bit shift check in.

इस CPU में 2,300 transistors का इस्तमाल होता हिया जो की करीब 60,000 operations in keeping with 2d कर सकता था. इसकी most working frequency होती थी 740 KHz.

5सबसे पहला processor कोनसा आया था?

A – सबसे पहला processor Intel 4004 का आया था सन 1971 में.

61 CPU से अनेक Pc attach करना की प्रक्रिया की क्या कहते है?

A – 1 CPU को बहुत से pc को attach करने के लिए आप ASTER multi observe device का इस्तमाल कर सकते हैं. ये एक 3rd birthday celebration device होता है.

7CPU और Working Device में अंतर क्या है?

A – इन दोनों में जो मुख्य अंतर वो ये की CPU एक {Hardware} होता है और वहीँ Working Device एक Tool होती है. मतलब की CPU को function करने के लिए Working device का इस्तमाल होता है. उदहारण के लिए Home windows XP, Home windows 10.

832 bit और 64 bit processor कैसे पहचाने?

A – अपने Pc की processor की पहचान करने के लिए आपको Pc के ऊपर proper click on करना होगा. फिर houses को make a choice करना होगा. इसमें आपको processor के बारे में पता चल जायेगा की वो 32 bit है या 64 bit का है.

आज आपने क्या सिखा?

आपको मेरा यह लेख सीपीयू क्या है (What’s CPU in Hindi) और ये कैसे काम करता है? कैसा लगा हमें remark लिखकर जरूर बताएं ताकि हमें भी आपके विचारों से कुछ सीखने और कुछ सुधारने का मोका मिले.

हमारी हमेशा से यही कोशिश रहती है की कैसे हम अच्छे अच्छे articles लिखें जो की हमारे readers को जरुर पसंद आये और उन्हें कहीं और जाने की जरुरत ही न पड़े.

मेरे पोस्ट CPU क्या होता है in hindi के प्रति अपनी प्रसन्नता और उत्त्सुकता को दर्शाने के लिए कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Fb, Twitter और दुसरे Social Media Websites इत्यादि पर percentage कीजिये.

Leave a Comment