Home Environment Study

Environment Study

जलक्रांति (जल भराव) समस्या पर संक्षिप्त टिप्पणी लिखिए।

कृषि भूमि पर अत्यधिक सिंचाई करने से खेत की मिट्टी, जल उपलब्धता की दृष्टि से जब पूर्ण संतृप्त हो जाती है तो उस क्षेत्र के भूगर्भिक जल की सतह धरातल के समीप आ जाती है। ऐसी स्थिति को जलाक्रांति...

प्राकृतिक गैस ईंधन का प्रमुख स्रोत

प्राकृतिक गैस ईथेन (Ethane) और मीथेन (Methane) हाइड्रोकार्बन गैसीय तत्वों के रूप में पृथ्वी के पटल (earth's crust) में अधिकांशतः पेट्रोलियम के साथ पायी जाती हैं। पेट्रोलियम प्राप्ति के कूपों के ऊपरी भाग से गैस की प्राप्ति होती है,...

परमाणु ऊर्जा

संसार में कुछ ऐसी धातुएँ (यूरेनियम, थोरियम) हैं, जिनके परमाणु के केन्द्र (नाभिक) में महान शक्ति छिपी हुई होती है, जिसे परमाणु ऊर्जा कहते हैं। इस ऊर्जा को विद्युत की तरह प्रयोग किया जा सकता है। परमाणु ऊर्जा का उत्पादन...

प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण में व्यक्ति की भूमिका का वर्णन कीजिए।

प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण में व्यक्ति विशेष अपनी भूमिका निम्नानुसार हो सकती है (1) पर्यावरण शिक्षा-जन-साधारण को सबसे पहले स्वयं पर्यावरण शिक्षा प्राप्त करने की कोशिश करनी चाहिए जिससे वह स्वयं तो पर्यावरण के प्रति जागरूक होगा और अपने आस-पास...

पर्यावरण विज्ञान की प्रकृति एवं विषय क्षेत्र की व्याख्या कीजिए।

प्रकृति में उपस्थित जीवधारियों की उत्तर जीविता के लिए ऊर्जा एवं पदार्थों की आवश्यकता होती है जिसे वह अपने चारों ओर उपस्थिति पर्यावरण से प्राप्त करता है। पर्यावरण दो शब्दों 'परि' एवं 'आवरण' से मिलकर बना होता है। इस...

ऊर्जा संसाधन और उसके विभिन्न प्रकारों का वर्णन करते हुए ऊर्जा के वैकल्पिक स्रोतों...

पारिस्थितिकी तन्त्र (ecosystem) में ऊर्जा का अत्यन्त महत्व है। जीवन के संचार के लिए ऊर्जा की आवश्यकता होती है। ऊर्जा प्राप्ति के अनेक स्रोत हैं; जैसे—कोयला (coal), पेट्रोलियम (petroleum), सौर ऊर्जा (solar energy), आण्विक ऊर्जा (atomic energy), तथा प्राकृतिक...

मृदा अपरदन से आप क्या समझते हैं? इसके कारण एवं प्रबन्धन की विधियों को...

पृथ्वी के धरातल के ऊपरी परत जिस पर पेड़-पौधे उगते हैं उसे मृदा (Soil) कहते हैं। मृदा मानव का मूलभूत संसाधन है, क्योंकि पृथ्वी की सतह पर पाया जाने वाला समस्त जीवन मृदा पर ही निर्भर होता है। मानव...

सूखा-कारण एवं बचाव के उपाय

देश के किसी-न-किसी भाग में अकाल अथवा सूखा पड़ना एक सामान्य सी बात है। सिंचाई आयोग ने उन क्षेत्रों को शुष्क माना है जहाँ वर्षा 10 सेमी से कम होती है और इसमें भी 75% वर्षा अनेक वर्षों तक...

बाढ़-कारण उत्पन्न समस्याएँ एवं नियन्त्रण के उपाय।

बाढ़-कारण, उत्पन्न समस्याएँ एवं नियन्त्रण के उपाय (Flood: Causes, Related Problems and Control Measures) बाढ़ प्राकृतिक प्रकोपों में सबसे अधिक विश्वव्यापी है। यदि जल प्लावन ऐसे क्षेत्र में होता है जहाँ सामान्यतया पानी नहीं रहता है तो उसे बाढ़ कहते...

मरुस्थलीकरण पर संक्षिप्त टिप्पणी लिखिए।

मरुस्थलीकरण (Desertification) मरुस्थलीकरण में मरुस्थल का निर्माण होता है। यह या तो जलवायु परिवर्तन से जुड़े प्राकृतिक परिघटना के कारण होता है या गलत भूमि उपयोग के कारण। वास्तव में जलवायु परिवर्तन के लिए भी ये अनुचित भूमि उपयोग पद्धति...

Popular Posts

Latest Posts