हॉटस्पॉट क्या है और कैसे कनेक्ट किया जाता है?

[ad_1]

शायद आप जानते होंगे की हॉटस्पॉट किसे कहते हैं? क्यूंकि ये function अभी प्राय सभी smartphones में उपलब्ध होते हैं. अगर कभी आपको किसी जरुरी e mail का answer देना होता है या कभी web को surf करना होता है public puts में तब हमें एक web connection की बहुत जरुरत होती है.

चूँकि web को ऐसे सभी जगहों में पहुँचाना संभव नहीं होता है. ऐसे में Wi-Fi hotspot की बहुत जरुरत होती है. ये web connection न केवल extremely handy होती है, बल्कि इसके साथ इससे आपको smartphone के knowledge का भी इस्तमाल नहीं करना पड़ता है. इसलिए ये hotspots सभी public infrastructure का एक मुख्य हिस्सा बन चूका है और साथ में web connection का एक नया revel in.

आज करोड़ों लोग हरदिन public hotspots का इस्तमाल करते हैं अपने web की जरुरत को पूर्ण करने के लिए. एक survey के अनुसार, पुरे दुनिया भर में करीब 2 lakhs से भी ज्यादा hotspots मेह्जुद हैं, इसका मतलब है की प्रत्येक 20 लोगों में एक hotspot मेह्जुद है.

ऐसा इसलिए शायद क्यूंकि हमारे fashionable virtual way of life के वजह से. हमें हमेशा web के साथ जुदा हुआ होना पड़ता है जिसके चलते हमें web की काफी जरुरत पड़ जाती है. ऐसे में public Wi-Fi get right of entry to issues इस hotspot के international community को काफी बढ़ाने लगी है जिससे लोगों के सभी जरुरत को पूर्ण किया जा सके. इसलिए आज मैंने सोचा की क्यूँ न आप लोगों को हॉटस्पॉट क्या है इन हिंदी और कैसे काम करता है के विषय में जानकारी दे दी जाये जिससे आपको इस विषय में और कहीं पढने की जरुरत ही नहीं. तो बिना देरी किये चलिए शुरू करते हैं और जानते हैं की हॉटस्पॉट क्या होता है हिंदी में.

हॉटस्पॉट किसे कहते हैं – What’s Hotspot in Hindi

Hotspot Kya Hai Hindi

एक Hotspot एक ऐसा explicit location होता है जो की Web get right of entry to प्रदान करता है wi-fi native house community (WLAN) के माध्यम से. ये time period in most cases synonymous (समानार्थक) होता है एक Wi-Fi connection के साथ. एक community जो की hotspot करता है उसमें essentially दो चीज़ रहते हैं जो की हैं modem और wi-fi router.

Radio frequency (RF) waves जिसे की wi-fi community के माध्यम से ship किया जाता है वो सभी अलग अलग instructions में prolong होता है उसके centralized location से. ये alerts जैसे जैसे आगे trip करती है वो vulnerable बनते जाते है, ये central location से दुरता होने के कारण हो सकता है या कोई interference के होने से भी हो सकता है.

हॉटस्पॉट कैसे काम करता है

ये Wi-Fi hotspot भी ठीक Wi-Fi के जैसे ही काम करता है, जिसे की आप घर में इस्तमाल करते हैं. एक wi-fi get right of entry to level दुसरे computer systems और Wi-Fi gadgets के साथ keep up a correspondence करने के लिए radio alerts का इस्तमाल करते हैं. ये Wi-Fi get right of entry to level web के साथ attached होते हैं जो की अक्सर router के साथ जुड़ा हुआ होता है या एक server जो की keep watch over करता है की कोन Wi-Fi को get right of entry to कर सकता है. कैसे alerts को ship और obtain किया जाता है, इसे standardized करने के लिए 80211 requirements का इस्तमाल किया जाता है, जिसे की Institute of Electric and Electronics Engineers (IEEE) के द्वारा increase किया जाता है.

हॉटस्पॉट के प्रकार

Hotspot के मुख्य रूप से दो प्रकार होते हैं : –

1.  Unfastened Wi-Fi Hotspots

इस प्रकार के Wi-Fi router में password requirement को हटा दिया जाता है, इससे ये सभी customers को समान community से attach होने में मदद करता है जिससे वो web को आसानी से get right of entry to कर सके.

2.  Business Hotspots

इस प्रकार के get right of entry to issues wi-fi protection तो प्रदान करते ही है लेकिन एक price के साथ. जब एक consumer किसी एक industrial hotspot से attach होता है Web के लिए, तब consumer को in most cases redirect किया जाता है एक display पर जिसमें login data या fee main points माँगा जाता है इस carrier को इस्तमाल करने के लिए.

Hotspots करोड़ों Web customers को सहज web प्रदान करती है, लेकिन उसमें कुछ safety problems भी होते हैं. उदाहरण के लिए, unfastened public hotspots अक्सर goal होते है hackers और id thieves के. ये attackers rogue या faux hotspots बनाते हैं को की एक reliable hotspot के तरह ही दिखता है. अगर customers अनजाने में ऐसे Get right of entry to issues के साथ attach हो जाते हैं तब वो आपके सभी delicate knowledge को चुरा सकते हैं.

हॉटस्पॉट और मोबाइल हॉटस्पॉट क्या है

Hotspot से कैसे attach करें या उसके safety problems को जानने से पहले चलिए उनके विषय में कुछ जानते हैं. जहाँ कुछ लोग ये phrases “hotspot” और “cellular hotspot” को interchangeably इस्तमाल करते हैं, लेकिन असल में उनकी distinct meanings होती हैं.

हॉटस्पॉट

यह एक hotspot ऐसा bodily location होता है जहाँ की लोग बड़े ही आसानी से web को get right of entry to कर सकते हैं, इसके लिए वो Wi-Fi, by way of एक wi-fi native house community (WLAN) जो की एक router से attached होता है किसी Web carrier supplier के साथ. ज्यादातर लोग ऐसे places को “Wi-Fi hotspots” या “Wi-Fi connections.” कहते हैं. आसान भाषा में कहूँ तो hotspots ऐसे bodily puts होते हैं जहाँ की customers wirelessly अपने cellular gadgets जैसे की smartphones, pills को Web के साथ attach कर सकते हैं और उसका इस्तमाल कर सकते हैं.

एक hotspot कहीं भी स्तिथ हो सकता है चाहे वो कोई non-public location या एक public location पर भी हो सकता है. जहाँ public hotspot unfastened होते हैं वहीँ non-public hotspot में पैसों का भुक्तान करना होता है.

मोबाइल हॉटस्पॉट

वहीँ एक cellular hotspot (जिसे की एक moveable hotspot भी कहा जाता है) एक ऐसा hotspot होता है जो की केवल cellular explicit ही होता है. जहाँ एक “common” Wi-Fi hotspot किसी एक bodily location पर ही उपलब्ध होता है, वहीँ आप एक cellular hotspot को कहीं पर भी create कर सकते हैं अपने smartphone के knowledge connection को इस्तमाल कर आप अपने computer को Web के साथ attach कर सकते हैं. इस procedure को “tethering” कहा जाता है.

Hotspot में इस्तमाल होने वाले Phrases

अगर आपको Wi-Fi hotspots के technicality को ठीक से समझना है तब आपको इसमें इस्तमाल होने वाले सभी phrases को ठीक से समझना होगा. चलिए ऐसे ही कुछ phrases को समझते हैं.

Get right of entry to Level (wi-fi get right of entry to level)

एक wi-fi get right of entry to level (WAP) एक प्रकार का networking instrument होता है जो की एक Wi-Fi compliant instrument को permit करता है attach करने के लिए एक stressed community के साथ. ये WAP को हम bodily attach कर सकते हैं एक router के साथ या इसे router के साथ combine भी किया जा सकता है. एक WAP, hotspot नहीं होता है, बल्कि एक bodily location होता है जहाँ की Wi-Fi get right of entry to to a WLAN to be had होता है.

Wi-Fi

Wi-Fi एक ऐसी era होती है जो की आपके smartphone या pc को permit करती है Web को get right of entry to करने के लिए एक wi-fi connection के माध्यम से. ये radio alerts का इस्तमाल करती है knowledge को ship और obtain करने के लिए enabled instrument और WAP के बिच.

SSID

SSID का Complete Shape होता है Provider set identifier (और इसे repeatedly SSID भी कहा जाता है), यह एक distinctive title होता है एक wi-fi community का. लेकिन इसके लिए आपको उस wi-fi community का नाम पता होना चाहिए जिसके साथ आप attach करना चाहते हो. आप अपने pc या smartphone के मदद से to be had wi-fi networks को seek कर सकते हैं. अक्सर लोग अपने wi-fi community का नाम रखते हैं जैसे की Ram Community, Shakti Investors इत्यादि. इससे आसनी से अलग अलग community को पहचाना जा सकता है.

Wi-Fi Hotspot कैसे Attach करे

आप तो जान ही गए होंगे के WIFi हॉटस्पॉट क्या होता है. और शायद आप में से ऐसे बहुत सारे लोग होंगे जो की अपने smartphone या computer को web के साथ attach करने के लिए Wi-Fi hotspots का इस्तमाल करते हैं. चाहे आप अपने place of job में हों, घर में हो या किसी public places में हों आप इन hotspot का इस्तमाल जरुर करते हैं.

Wi-fi hotspot के साथ attach होना एक बहुत ही easy procedure होता है. चलिए इस procedure को समझते हैं. यदि आपको आपके cellular में web connection चाहिए और आपके पास डाटा नहीं है तब आप hotspot का इस्तमाल कर सकते हैं. इसके लिए बस आपको अपने smartphone में wifi choice को click on करना होगा. इससे आपको सभी नजदीकी hotspot आपके display में दिखाई पड़ जायेंगे, इससे आप उन्हें आसानीसे make a selection कर सकते हैं. अगर वो non-public hotspot होगा तब आपको कोई password input करने के लिए पूछेगा. Input करते ही वो hotspot energetic हो जायेगा और आप उसका इस्तमाल कर सकते हैं.

अपने Smartphone को एक Cell Hotspot के तरह कैसे इस्तमाल करे?

अगर आप किसी ऐसे location पर हैं जहाँ की कोई wifi hotspot मेह्जुद नहीं है और आपको web की बहुत ज्यादा जरुरत है तब आप ओने cellular को भी hotspot के तरह इस्तमाल कर सकते हैं. इस procedure को tethering कहा जाता है. इसके माध्यम से आप अपने telephone के डाटा को proportion कर अपने computer या pc में web का इस्तमाल कर सकते हैं.

वहीँ इसके steps smartphones और working device के ऊपर निर्भर करता है. लेकिन आप चाहें तो इसके विषय में instrument के consumer handbook से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं. Safety के नज़रिए से आप Wi-Fi password का इस्तमाल कर सकते हैं जिससे की कोई भी दूसरा व्यक्ति आपके hotspot का इस्तमाल आपके बिना इजाजत के नहीं कर सकता. आगे हम जानेंगे की कैसे हम अपने mobiles का इस्तमाल hotspot के हिसाब से कर सकते हैं अलग अलग Os में.

Android Telephone में Wi-Fi Hotspot Function को Activate कैसे करे?

Smartphones और pills में जिसमें Android 2.2 या कोई upgraded android model का इस्तमाल होता है, उसमें integrated Wi-Fi knowledge sharing function का इस्तमाल होता है. साथ में आप telephone के knowledge connection को करीब five different gadgets के साथ एक साथ wirelessly proportion कर सकते हैं. Wi-Fi hotspot की exact location atmosphere थोड़ी बहुत range करती है किसी explicit telephone और OS model के हिसाब से. लेकिन in most cases, अगर आपको Wi-Fi hotspot function को allow करना है, तब आपको Settings > Wi-fi & Networks > Moveable Wi-Fi Hotspot ( इसे कहीं कहीं “Tethering और Cell HotSpot” भी कहा जाता है). उसके ऊपर Faucet करना होता है, फिर test या slide करना होता है cellular hotspot function को on करने के लिए.

ऐसा करने के बाद आप hotspot का default community title दिखाई पड़ेगा और आपको एक password भी set करना होगा community के लिए. इसके बाद कोई दुसरे instrument को attach करने के लिए आपको उस नए बनाये गए wi-fi community के साथ उन्हें attach करना होगा.

iPhone में Private Hotspot Function को activate कैसे करें?

iPhone में, cellular hotspot function को “private hotspot” कहा जाता है. आपके wi-fi provider के हिसाब से आप इसमें करीब five gadgets तक attach कर सकते हैं और अपने iPhone के knowledge को proportion कर सकते हैं.

इसे activate करने के लिए,

आपको पहले Settings > Normal > Community > Private Hotspot > Wireless Hotspot और फिर आप अपना password भी set कर सकते हैं जो की a minimum of 8 characters का होना चाहिए. इसके बाद आपको बस अपना Private hotspot की transfer को on करना होता है.

Home windows Telephone में Web Sharing को चालू (Flip On) कैसे करे?

Home windows Telephone में, cellular hotspot function को merely, “Web Sharing” कहा जाता है.
यदि आप Home windows Telephone में अपने cell knowledge को sharing करना चाहते हैं Wi-Fi के माध्यम से, तब इसके लिए आपको, Get started Display से flick left कर App listing में जाना होगा , उसके बाद आपको Settings > Web Sharing में जाना होगा और फिर उसे transfer on करना होगा.

Web sharing display में, आप चाहें तो community title बदल सकते हैं, उसकी safety को set कर सकते हैं WPA2 में, और अपने password को भी set कर सकते हैं.

Cell Hotspots के Advantages क्या हैं ?

Cell hotspots उन सभी के लिए बहुत जरुरी होता है जो की अक्सर travelling करते हैं और जिन्हें अपने gadgets के लिए हमेशा web connection चाहिए. इसके साथ cellular hotspots के माध्यम से Internet surfers अपने काम sooner pace में कर सकते हैं उनके common connection की तुलना में.

अगर आप कहीं और कभी भी web connection प्राप्त कर सकते हैं अपने gadgets के लिए तब इससे बड़ी merit और क्या हो सकती है. आप cellular hotspot के माध्यम से बहुत से gadgets को एक साथ attach कर सकते वो भी बड़ी सहजता से. इससे customers को अपने gadgets के लिए एक devoted connection प्राप्त होता है जो की उनके लिए एक बड़ी merit है. इसके अलावा आपको safety की भी rigidity नहीं होती है जिससे हम secure होकर web का इस्तमाल कर सकते हैं.

तो चलिए hotspot के कुछ advantages के बारे में जानते हैं.

  • इसके इस्तमाल से हम अपने telephone के सभी telephone knowledge plan का ख़त्म होने से बच सकते हैं.
  • ये हमारे telephone के battery lifestyles के लिए भी सही है.
  • इससे हम Reliably tethering कर सकते हैं more than one gadgets के साथ.
  • हम longer sessions of time के लिए काम कर सकते हैं बिना connection को drop किये.
  • Hotspot का इस्तमाल हम फ़ोन में बात करते वक़्त भी कर सकते हैं, जिससे web में कोई obstruction नहीं होती है.

सही cellular hotspot के चुनाव के लिए आपको थोडा बहुत analysis तो करना ही होगा लेकिन इससे आपको सबसे बेहतर hostspot community प्राप्त हो सकता है.

FAQ (अक्सर पूछे जाने वाले सवाल)

1Password लगा हो तो web और hotspot free up कैसे करे?

आप यह password को bypass कर सकते हैं. वैसे यह करना सही नहीं है. लेकिन केवल tutorial objective के लिए में निचे कुछ guidelines देने वाला हूँ.
इसके लिए आपको अपने android telephone का root get right of entry to होना जरुरी है. अगर नहीं हो तब आप इसे root भी करवा सकते हैं. एक बार आपने root कर लिए फिर आप एक software WPA WPS Tester को set up करना होगा और to be had wifi को scan करना होगा. लेकिन unfastened model में आप केवल वही wifi को get right of entry to कर सकते हैं जो की inexperienced display करेगा.

2क्या hisab 4g hotspot Indian sim को beef up करता है?

अधिकतर telephones को indian SIM beef up करते हैं. इसके लिए आपको फ़ोन के field में ये देखना होगा की क्या वो indian sim को beef up करता है या नहीं भी.

3Hotspot error को कैसे दूर करें?

इसके लिए आप device को wipe कर सकते हैं और ROM को reflash कर सकते हैं. इसके लिए आप कुछ समय ले सकते हैं जो की कम ही समय लगेगा वो भी कुछ mins.
एक दूसरा तरीका भी है की आप अपने cellular knowledge को activate करना होगा, Hotspot को get started करने से पहले.

Conclusion

मुझे आशा है की मैंने आप लोगों को हॉटस्पॉट क्या है (What’s Hotspot in Hindi) के बारे में पूरी जानकारी दी और में आशा करता हूँ आप लोगों को हॉटस्पॉट कैसे कनेक्ट करे के बारे में समझ आ गया होगा. यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए तब इसके लिए आप नीच feedback लिख सकते हैं. आपके इन्ही विचारों से हमें कुछ सीखने और कुछ सुधारने का मोका मिलेगा. यदि आपको मेरी यह put up हॉटस्पॉट क्या होता है इन हिंदी अच्छा लगा हो या इससे आपको कुछ सिखने को मिला हो तब अपनी प्रसन्नता और उत्त्सुकता को दर्शाने के लिए कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Fb, Google+ और Twitter इत्यादि पर proportion कीजिये.

Leave a Comment