सॉफ्टवेयर कितने प्रकार के होते हैं

0
29


सॉफ्टवेयर के कितने प्रकार होते हैं? हर दिन हम बहुत से अलग अलग प्रकार के सॉफ्टवेयर इस्तिमाल करते है. ये सभी device हमें हमारे कार्यों को सठिक रूप से करने में और साथ ही हमारी potency बढ़ाने के लिए काम आती हैं. जब हम अपना कम्प्यूटर शुरू करते हैं तब MS Home windows हमारे सामने होता है, वहीं मोबाइल के खोलते ही Android OS सामने दिखायी पड़ता है. ऐसे ही बहुत से अलग अलग सॉफ़्ट्वेर का दैनिक हम उपयोग करते हैं. 

किसी के लिए भी इतने अलग अलग प्रकार के सॉफ्टवेयर के बारे में समझना थोड़ा मुश्किल हो सकता है, ख़ासकर उन लोगों के लिए जिन्हें की टेक्नॉलजी के बारे में उतनी जानकारी नहीं होती. इसलिए आज के इस आर्टिकल में हम सॉफ्टवेयर के प्रकार को जानेंगे. इससे आपको इन्हें बेहतर रूप से समझने में सुविधा होगी. तो फिर चलिए शुरू करते हैं. 

सॉफ्टवेयर के प्रकार – Forms of Tool in Hindi

software ke prakar hindi

हमारे कार्य सैली को आसान करने के लिए और कम समय में करने के लिए इनको बनाया गया है. हर रोज उठते ही हम जरुर एक सॉफ्टवेयर का इस्तमाल करते हैं चाहे वो Whatsapp क्यों ना हो. अब ये मेरा लेख भी एक Browser device के माध्यम से ही पढ़ रहे हैं. चलिए अब सॉफ्टवेयर के तीन प्रकार के बारे में जानते हैं.

  • Machine Tool
  • Software Tool
  • Software Tool

1. सिस्टम सॉफ्टवेयर

Machine Tool वो Tool होते हैं जो Pc के Background Procedure को सँभालता हैं. इसको device device इसलिए कहते हैं क्यूंकि ये Machine मतलब Pc को चलाने में मदद करत हैं. इनकी मदद से Pc दुसरे Parts जैसे {Hardware} को Function करने में सख्यम होता जाता है.

आप अपने Pc में जितने भी device set up करते हैं वो सभी को यही Program चलाता है. ओर एक बात अगर laptop में ये सिस्टम device नहीं होता तो आप कोई भी Software Tool को चला नहीं सकते हैं.

जब कोई भी नया Pc ख़रीदा जाता है उसमे पहले Machine Tool को set up किया जाता है. जैसे Working Machine (Home windows 7, Home windows 8, MAC, Unix, Android), Language Translator. यह {Hardware} और Person software के बिच में Layer जैसे काम करता है. चलिए जानते हैं.

i. Working Machine

OS यह एक Machine Tool है, जो की consumer मतलब आप के और Pc {Hardware} के बिच में Interface जैसे काम करता है. इसको Pc का दिल भी कहते हैं. यह एक बहुत ही बड़ा प्रोग्राम है. जिसके कुछ उदाहरण है Home windows, Linux and MacOS. Android Cell Working Machine है.

Marketplace में कुछ गिने चुने IT Firms हैं जो इस प्रकार के SW Expand करती हैं. जैसे Microsoft, Apple और Google. अलग अलग प्रकार के OS हैं actual time, distribute, embedded.

ii. Language Translators

assemblers, compilers और interpreters Language translators के Instance हैं. इन Techniques को Programming Languages के लिए बनाया गया है. EX- C, c++, java, cobol. Compiler को Top Degree Programming को Execute करने के लिए बनाया गया है.

यह पुरे Program को एक बार में Translate करता है. लेकिन Interpreter Direct translate करता है. Line through Line Code को Execute करता है.

iii. Not unusual Software Techniques

इन Techniques को खास तोर पे Pc Gadgets और Sources लिए बनाए गए हैं. इस Class में जो Techniques होते हैं उनके नाम हैं Communique Gear और Disk Formatter.

ये Techniques का जादा इस्तमाल Pc Infrastructure के Operations पे होता है. Virus Scanner Program भी एक Software device का Instance है. Trojan और दुसरे Virus से Coverage देता है पुरे Machine

2. एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर

Software device एक time period होता है जिसका इस्तमाल उन softwares के लिए होता है जो की कोई particular काम करने के लिए बने होते हैं.

जैसे की आपको पता है Machine Tool Background Procedure के उपर ज्यादा ध्यान देते है. किंतु वहीँ  Software device particular Activity को Carry out करते हैं. इनको Drawback Fixing Tool भी कहते हैं. हमारे रोज मर्रा जिंदगी में होने वाले Issues के Answer Software sw द्वारा मिलते हैं.

ये हमारे Wishes को पुरे करते हैं. ये सारे Tool Working Machine द्वारा चलते हैं. आपके laptop के desktop पे जितने भी Tool दिख रहे हैं वो सभी इस Class में आते हैं. इनको Apps भी बोला जाता है. इनको बस Person अपने काम काज के लिए इस्तमाल करता है. इन सॉफ्टवेर को आपको set up करने की आवश्यकता है. चलिए इनके बारे में विस्तार से जानते हैं.

i. Phrase Processors

Paperwork Introduction के लिए इनका इस्तमाल किया जाता है. इस class में आने वाले sw का इस्तमाल ज्यादातर Place of business के काम काज के लिए किया जाते है. MS WORD इस Class का बहतरीन उदहारण है. जिसके जरिये हम record को Edit, Structure, Print जैसे job आसानी से कर सकते हैं.

Phrase Processor Program, Place of business के काम काज को आसान से आसान और सरल बना दिए है. Paperwork को Virtual Structure में Retailer करने के साथ साथ किसीको भी भेजा भी जा सकते हैं.

ii. Database Tool

इस Class के Tool से Database को Create करने के लिए और Organize करने के लिए इस्तमाल किया जाता हैं. इनके जरिये Information और Data को हम आसानी से Organize कर सकते हैं. कभी ये device DBMS नाम से भी जाने जाते हैं. इनके कुछ Instance हैं -MS Get entry to, Foxpro, Qbase, Oracle and Sysbase.

iii. Multimedia device

इस Class के Tool को अलग अलग Media के लिए इस्तमाल किया जाता है. Multimedia मतलब Audio, Video को play करने के लिए जो device होते हैं उन्हें Multimedia Tool कहते हैं. Instance- VLC, KM Participant, Home windows Participant. Presentation के लिए MS-PowerPoint.

iv. Schooling and Reference Tool

इस class में आने वाले Tool को कुछ चीजों को efficient तरीके से सिखाने के लिए scholars के लिए बनाए गए हैं. इनमे कुछ Tutorials Tool भी हैं. इनको Educational Tool भी कहते हैं. इनके कुछ Instance हैं- Without end Rising Lawn, ClueFinders titles, Delta Drawing,A laugh College.Final Math’s Invaders, My Superb, 3-D Indiana, Bodywork Voyager – Challenge in Anatomy, Primal Photos

v. Graphic device

इनको Graphics के लिए इस्तमाल किया जाता है. इसीलिए इनका नाम Graphics SW है. इन SW का इस्तमाल Visible Photographs को Edit करने के लिए किया जाता है. ख़ास कर Picture Enhancing में.

सबसे अच्छा Instance है Adobe Photoshop, camtasia, ms paint, Corel. Computer systems में इनके लिए अलग से Graphics कार्ड की आवश्यकता होती है. इस sw की dimension भी ज्यादा होती है.

vi. Internet Browser

Web get admission to करने के लिए जिन device’s का इस्तमाल होता है उन्हें Internet Browser कहते हैं. WORLD WIDE WEB से recordsdata और Sources को get admission to करने के लिए इस्तमाल होते हैं. अलग site से Internet Pages को खोलने के लिए इनका इस्तमाल होता है.

यह एक लोक प्रिय Software Tool है. Google CHROME, Web explorer, Mozilla Firefox ये सभी सॉफ्टवेर इस class के sw में आते हैं.

कुछ ओर software SW के Instance हैं Undertaking device, spreadsheet device, Data employee device, Simulation device, video games.

3. यूटिलिटी सॉफ्टवेयर

Software device ऐसे softwares को कहा जाता है जो की आपको मदद करें आपके laptop को organize, take care of और keep watch over करने में. वैसे Working techniques usually ऐसे बहुत से vital equipment पहले से ही pre-installed रखती है, लेकिन separate application methods के मदद से ये आपको progressed capability प्रदान करती है.

Software device अक्सर थोड़े technical होते हैं इसलिए इनका इस्तमाल केवल वही ठीक ढंग से कर सकते हैं जिन्हें की सही technical wisdom हो.

अगर आप अपने laptop का इस्तमाल केवल e mail करने के लिए, कुछ Web surfing या कोई document sort करने के लिए करते हैं तब शायद आपको इन utilities की ज्यादा जरुरत न पड़े.

वहीँ अगर आप एक avid laptop consumer हो, तब इन utilities के इस्तमाल से आप अपने device को हमेशा most sensible form में रख सकते हैं. इसके अलावा ये आपकी समय और house दोनों की बचत कर सकता है.

सॉफ्टवेयर कैसे बनाएं

एक Pc Programmer या बहुत सारे कंप्यूटर Programmer मिलके Programming Language से Program लिख के device बनांते हैं. इन Tool को बनाने के लिए आपको Programming Language के साथ साथ Algorithms, Tool Enginnering का ख़ास ज्ञान होना चाहिए.

सॉफ्टवेयर के कितने भाग होते हैं?

कंप्यूटर सॉफ्टवेयर के तीन भाग होते हैं.
1) सिस्टम सॉफ्टवेयर (Machine Tool)
2) अनुप्रयोग सॉफ्टवेयर (Software Tool)
3) प्रोग्रामिंग सॉफ्टवेयर (Software Tool)

सिस्टम सॉफ्टवेयर बनाने के लिए प्रोग्राम को क्या जानना जरूरी होता है?

सिस्टम सॉफ्टवेयर बनाने के लिए programming का ज्ञान होना जरूरी होता है. ऐसा इसलिए क्यूँकि सिस्टम सॉफ़्ट्वेर हो या दूसरा कोई सॉफ़्ट्वेर सभी का base प्रोग्रैमिंग ही होता है. ऐसे में यदि आपको थोड़ा बहुत प्रोग्रैमिंग मालूम है या आप इसे समझते हैं तब इससे आपको कोडिंग लिखने में आसानी होती है. 

फ्री कंप्यूटर सॉफ्टवेयर का दूसरा नाम क्या है?

फ्री कंप्यूटर सॉफ्टवेयर का दूसरा नाम Freeware होता है. इन फ्री कंप्यूटर सॉफ्टवेयर का इस्तमाल आप बिलकुल ही मुफ़्त में कर सकते हैं.

आज आपने क्या सीखा?

मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख सॉफ्टवेयर के प्रकार जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को सॉफ्टवेयर कैसे बनाते है के विषय में पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे websites या web में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है.

इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी knowledge भी मिल जायेंगे. यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए तब इसके लिए आप नीच feedback लिख सकते हैं.

यदि आपको यह लेख सॉफ्टवेयर के मुख्य प्रकार में से सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Fb, Twitter इत्यादि पर proportion कीजिये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here