लोड बैलेंसिंग क्या है – What’s Load Balancing in Hindi

[ad_1]

Laptop networks असल में कफी advanced programs होते हैं, जो की अक्सर routing करते हैं loads, 1000’s, या यहाँ तक की करोड़ों information packets को प्रत्येक 2nd में. ऐसे में अगर networks को बहुत ही बड़ी मात्रा की information को successfully direction करना है, तब ये बहुत ही जरूरी होता है की information को successfully direction किया जाये.

उदाहरण के लिए, अगर दस routers हो एक community के भीतर और उनमें से दो 95% से ज्यादा काम करते हैं, तब ऐसे में वो community successfully काम नहीं कर रहा है. वो community और भी तेज काम करता अगर प्रत्येक router take care of करता 10% की visitors तब. ऐसे ही, अगर एक web page पाते हैं हजारों की hits प्रत्येक 2nd, तब ऐसे में ये ज्यादा environment friendly होगा अगर उस visitors को break up क्र दिया जाये a couple of Internet servers के बीच में, न की एक ही unmarried server में सभी visitors लाया जाये, इससे हो सकता है की वो complete load को सही ढंग से take care of न कर पाए.

Load balancing असल में networks की मदद करता है उन्हें ज्यादा environment friendly बनने में. ये processing और visitors को distribute करता है समान ढंग से पुरे community में, इस बात का ख़ास ख्याल रख कर की कोई भी unmarried tool अकेला छुट न जाये. Internet servers, जैसे की ऊपर के उदाहरण में बताया गया है, वो अक्सर load balancing का इस्तमाल करता है जिससे की वो visitors load को अलग अलग servers में सही ढंग से break up कर सके. इससे वो इन्हें permit करता है मेह्जुदा bandwidth का ज्यादा successfully इस्तमाल करने में, और इससे ये प्रदान करता है quicker get entry to web pages को जिन्हें वो host किये हुए होते हैं.

चाहे load balancing किया जा रहा हो एक native community में या फिर एक huge Internet server में, ऐसे में इसे जरुरत होती है {hardware} या tool जो की divide करती है incoming visitors को to be had servers में. Networks जो की सबसे ज्यादा मात्रा की visitors obtain करती है, उनमें एक या उससे ज्यादा servers devoted होते हैं load को stability करने में दुसरे servers और gadgets के बीच में community में. इन servers को ही load balancers कहा जाता है.

Clusters, या mulitple computer systems जो की एक साथ काम करते हैं, इनमें भी load balancing का इस्तमाल होता है जो की processing jobs को to be had programs में बाँट देते हैं, ताकि ज्यादा environment friendly तरीके से काम हो पाए.

« Again to Wiki Index

Leave a Comment