ब्लैक लाइव्स मैटर क्या है | Black Lives Topic motion in hindi

[ad_1]

ब्लैक लाइव्स मैटर क्या है आंदोलन 2020 ( Black Lives Topic motion in hindi) (Protest, brand, information, marketing campaign, essay, significance)

कोरोना के साथ-साथ ब्लैक लाइव्स मैटर आंदोलन ने भी खबरों की सुर्खियों में और लोगों के सोशल मीडिया अकाउंट में जगह बना ली है। यह आंदोलन 25 मई 2020 की एक घटना की वजह से लोगों के बीच मशहूर हो गया है। बहुत से लोग अब तक इस आंदोलन में शामिल हो चुके हैं परंतु काफी ज्यादा लोगों को इस आंदोलन के बारे में जानकारी ही नहीं है। 25 मई 2020 को हुई एक निर्मम हत्या जो अमेरिकन पुलिस अधिकारियों ने की, उसकी वजह से अमेरिका में नस्ल वाद संस्थागत और परंपरागत संस्थान ने आवाज उठाई जो पहली बार नहीं हुआ है। चलिए आपको बता देते हैं ब्लैक लाइव मैटर आंदोलन क्या है और इसका लक्ष्य क्या है?

Black Lives Matter movement

अमेरिका और उत्तरी कोरिया के मध्य विवाद – जानिए क्यूँ है इन दोनों देशों के बीच विवाद का कारण

25 मई 2020 की घटना

दरअसल 25 मई 2020 को अमेरिकन पुलिस अधिकारियों ने अपने सहयोगियों के साथ मिलकर रंग से काले व्यक्ति की बेवजह ही निर्मम हत्या कर दी। यह पूरी घटना बीच रोड पर अंजाम दी गई जिसे बहुत से लोगों ने अपने कैमरे में कैद भी कर लिया। पुलिस द्वारा मारे गए उस व्यक्ति का नाम जॉर्ज फ्लाइड था। अमेरिका में यह पहली बार नहीं हुआ था क्योंकि पहले 20 साल 2014 के अगस्त में पुलिस अधिकारियों द्वारा माइकल ब्राउन नामक अफ्रीकी अमेरिकन की हत्या कर दी गई थी। इससे पहले भी गोरे और काले के रंगभेद के चलते बहुत सारी हत्याएं इस प्रकार की जा चुकी है। 25 मई को हुए इस हादसे के बाद सोशल मीडिया पर अमेरिकी लोगों ने इस कैंपेन का प्रारंभ कर दिया।

कैसे हुई ब्लैक लाइव्स मैटर आंदोलन की शुरुआत?

ब्लैक लाइव्स मैटर आंदोलन केवल अमेरिका में ही नहीं बल्कि अमेरिका के बाहर यूरोप लैटिन अमेरिका के साथ साथ ब्रिटेन में भी लगभग साल 2013 से चल रहा है। क्योंकि इन सब देशों में गोरे और काले लोगों के बीच रंगभेद चलता रहता है जिसमें गोरे लोगों को दबाया जाता है और छोटी सी गलती होने पर ही उन्हें बेवजह मार दिया जाता है। इस निर्मम अपराध को रोकने और विरोध करने के लिए ही काले लोगों द्वारा ब्लैक लाइंस मैटर आंदोलन का प्रारंभ किया गया जो अब वर्तमान में भी चल रहा है।

अमेरिका के राष्ट्रपति का चुनाव कैसे होता है : जानिए विस्तार से अमेरिका में चुनाव कैसे और कितने चरणों में होता है.

जॉर्ज फ्लाइड के साथ क्या हुआ?

जानकारी के अनुसार यह बताया जा रहा है कि जॉर्ज फ्लाइड रंग से काला जरूर था परंतु उसने कोई भी अपराध नहीं किया था फिर भी अमेरिकन पुलिस अधिकारियों ने उसकी निर्मम हत्या कर दी। दरअसल यह दुर्घटना 25 मई के दिन हुई जब जॉर्ज फ्लाइट एक पास की ही दुकान पर बिस्किट लेने पहुंचा वहां पर उसने दुकानदार को $20 देकर बिस्किट खरीदा। उस दुकानदार ने जॉर्ज को बिस्किट दे दिया परंतु बाद में उसे लगा कि जॉर्ज द्वारा दिए गए $20 नकली हैं जिसके चलते उन्होंने जोर से कहा कि अपने पैसे वापस ले और मुझे बिस्किट का पैकेट वापस दे दे। लेकिन जॉर्ज बिस्किट का पैकेट लेकर वहां से चला गया और बगल की दुकान में जाकर बैठ कर बिस्किट खाने लगा। वह अपने दोस्तों के साथ वहां पर बैठा हुआ था तभी दुकानदार ने पुलिस को फोन करके जानकारी दी कि यहां पर एक आदमी है जिसने नकली डॉलर देकर मुझसे बिस्किट ले लिया है।

अमेरिका की पुलिस के बारे में तो आप जानते ही हैं कि वे एक छोटी सी बात को लेकर कितनी जल्दी तीव्रता से उस स्थान पर पहुंच जाते हैं और अपराधी को पकड़ लेते हैं। ठीक ऐसा ही जॉर्ज को गिरफ्तार करते समय हुआ, तुरंत अमेरिकन पुलिस वहां पर पहुंच गई और उन्होंने जॉर्ज को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस जॉर्ज को पुलिस गाड़ी में बैठ आने लगी परंतु खींचातानी में जॉर्ज जमीन पर गिर गया। उसने पुलिस अधिकारियों से कहा कि बंद कमरे में मेरा दम घुटता है कृपा करके मुझे गाड़ी में ना बिठाए। परंतु पुलिस अधिकारियों ने नहीं सुना तभी वहां पर तीसरा पुलिस अधिकारी आया और उसने जॉर्ज को अपने घुटने के नीचे दबा लिया।

 प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रम्प की जीवनी : इनके जीवन से जुड़े रोचक बातो को जाने

लगभग nine मिनट तक उस पुलिस अधिकारियों ने जॉर्ज की गर्दन को अपने घुटने के नीचे दबाए रखा। यह पूरी वारदात लोग कैमरे में कैप्चर कर रहे थे। nine मिनट बाद जब पुलिस ने अपना पैर जॉर्ज की गर्दन से हटाया तो देखा जॉर्ज मर चुका था क्योंकि उसका दम घुट गया था और वह वहीं पर मर गया। यह दुर्घटना सोशल मीडिया पर धीरे-धीरे वायरल होने लगी और अमेरिका के लोगों ने इस दुर्घटना के विरोध में प्रदर्शन करना भी प्रारंभ कर दिया। धीरे-धीरे यह प्रदर्शन अमेरिका के पूरे हिस्से में फैल गया और अमेरिका से होता हुआ यह दुनिया के बहुत सारे देशों में पहुंच गया।

लोगों का कहना है कि गोरे काले के रंगभेद की वजह से पुलिस अधिकारियों ने ऐसा किया और यह सदियों से होता आया है और अब भी अधिकारी ऐसा ही करते हैं। इसी विरोध के प्रदर्शन के चलते सोशल मीडिया पर ब्लैक लाइव्स मैटर आंदोलन चल रहा है।

अन्य पढ़ें

Vibhuti

Vibhuti

विभूति अग्रवाल मध्यप्रदेश के छोटे से शहर से है. ये पोस्ट ग्रेजुएट है, जिनको डांस, कुकिंग, घुमने एवम लिखने का शौक है. लिखने की कला को इन्होने अपना प्रोफेशन बनाया और घर बैठे काम करना शुरू किया. ये ज्यादातर कुकिंग, मोटिवेशनल कहानी, करंट अफेयर्स, फेमस लोगों के बारे में लिखती है.

Vibhuti

Newest posts by means of Vibhuti (see all)

Leave a Comment