प्लॉटर क्या है और इसके प्रकार

0
3


क्या आप जानते हैं की Plotter क्या है? छोटे मोटे Footage को print करने के लिए हम Printers का इस्तमाल करते हैं. जिन्हें की आप सभी ने अपने घरों में, workplaces में यहाँ तक की दुकानों में जरुर से देखा होगा.

लेकिन जब बात बड़े measurement की print की होती है, जैसे की किसी Development का construction, किसी bridge या dam का blue print का तब आप इन जगहों में customary printer का इस्तमाल नहीं कर सकते हैं. यहाँ पर जिस software का इस्तमाल किया जाता है उसे Plotter कहते हैं.

ये प्लॉटर एक प्रकार के particular output software होते हैं जिनका इस्तमाल बड़े graphs, huge designs के arduous replica प्रिंट करने के लिए इस्तमाल किया जाता है. जैसे की development maps, engineering drawings, architectural plans और trade charts.

इन प्लॉटर मशीन को या तो आप एक peripheral part के हिसाब से अपने laptop machine में upload कर सकते हैं या एक standalone software के तोर पर उनकी अपनी ही interior processor के साथ run कर सकते हैं.

इसलिए यदि आपको Plotter के विषय में पूरी जानकारी प्राप्त करनी है तब आपको यह article प्लॉटर मशीन क्या है की पूरी तरह से पढना होगा. तो बिना देरी किये चलिए आगे बढ़ते हैं.

प्लॉटर क्या है (What’s Plotter in Hindi)

Plotter Kya Hai Hindi
प्लॉटर का चित्र

एक प्लॉटर असल में एक printer ही होता है जिसे की design किया गया होता है vector graphics को print करने के लिए. ये paper में person dots को print करने के जगह में, plotter steady traces draw करते हैं. यही plotter को best बनाते है architectural blueprints, engineering designs, और दुसरे CAD drawings को करने के लिए.

ये plotter एक प्रकार के graphics printer होते हैं जो की ink pens का इस्तमाल करते हैं photographs को draw करने के लिए. इसमें pens अक्सर paper के floor में transfer करते हैं. वहीँ इन Plotters का इस्तमाल vector graphics layout के लिए भी होता है.

प्लॉटर का अविष्कार किसने किया?

सबसे पहला plotter का invention Remington-Rand के द्वारा सन 1953 में हुआ था. ये असल में एक conjunction था UNIVAC laptop के साथ, जिसका इस्तमाल technical drawings create करने के लिए किया जा रहा था.

प्लॉटर कैसे काम करता है?

यदि आपको समझना है की प्लॉटर मशीन कैसे काम करते हैं, तब आपको इसके दो मुख्य varieties के विषय में जानना होगा, जो की हैं : flatbed plotters और drum plotters.

Flatbed plotters में एक ऐसा machine का इस्तमाल होता है जहाँ की paper को repair रखा जाता है, और plotter pen को ऊपर और नीचे transfer करता है और वहीँ left और proper भी, ये ऐसा paper पर required marks draw करने के लिए करता है.

Drum plotters में pen को up और down transfer किया जाता है, और साथ में paper को left और proper करने के लिए drum को rotate किया जाता है. यह allow करता है drum plotters को एक footprint छोटा होने के लिए ultimate paper measurement की तुलना में.

Plotters में एक से ज्यादा pen का भी इस्तमाल किया जा सकता है, जिससे ये इसे अलग अलग colors को draw करने के लिए permit करता है.

प्लॉटर की परिभाषा

एक plotter ऐसा laptop {hardware} software जो की बहुत ही ज्यादा printer के जैसे ही होआ है और इसका इस्तमाल vector graphics को print करने के लिए होता है.

यहाँ पर toner के जगह में, plotters इस्तमाल करते हैं एक pen, pencil, marker, या कोई दूसरा writing device जिससे की वो draw कर सकें a couple of, steady traces paper के ऊपर, न की एक collection of dots जैसे की एक conventional printer में होता है.

एक समय था जब इसका बहुत ज्यादा इस्तमाल हुआ करता था computer-aided design (CAD) के तोर पर, लेकिन अब इन gadgets का इस्तमाल थोडा कम हो गया है क्यूंकि इनके स्थान पर wide-format printers का इस्तमाल होने लगा है.

Plotters का इस्तमाल schematics के arduous replica बनाने के लिए होता है और साथ में दुसरे an identical packages के लिए भी.

प्लॉटर के प्रकार (Varieties of Plotter in Hindi)

प्लाटर कितने प्रकार के होते है? वैसे तो प्लॉटर प्रिंटर के बहुत सारे प्रकार होते हैं, लेकिन यहाँ पर हम कुछ महत्वपूर्ण Plotter varieties in hindi के विषय में भी बात करने वाले हैं.

Drum Plotter

इस प्रकार के plotter में एक drum होता है. जिस Paper के ऊपर design करना होता है उसे drum में रखा जाता है. यहाँ ये drum दोनों ही दिशाओं में rotate करने में सक्षम होता है. Plotters में एक से ज्यादा pen और penholders होते हैं. वहीँ ये holders को mount किया जाता है drum floor के perpendicular course में.

Holder में स्थित pens बड़ी ही आसानी से left से proper और proper से left transfer कर सकते हैं. ये graph plotting program regulate करती है pen और drum के motion को.

Drum plotters (जिन्हें की curler plotters भी कहा जाता है) वो spin करते हैं paper को again और forth एक cylindrical drum में, वहीँ ink pens transfer करती है left और proper.

इन दोनों instructions को mix कर लेने से, traces को किसी भी course में draw किया जा सकता है.

Flatbed Plotter

इन Plotters का इस्तमाल complicated design,graphs, charts करने के लिए होता है. इन Flatbed plotter को desk के ऊपर भी रखा जा सकता है. इस plotter में एक pen और एक holder होता है.

इसमें pen आसानी से बहुत से अलग अलग sizes के characters draw कर सकती हैं. इनमें एक से ज्यादा pens और pen retaining mechanism भी हो सकती हैं. प्रत्येक pen की ink एक अलग ही रंग की होती है. अलग अलग colours के होने से ये मदद करती हैं multicolor design की file produce करने में.

इसमें plotting की space भी variable होती हैं. जैसे की ये range करता है A4 से 21’*52′ तक.
Flatbed plotters में एक बड़ी horizontal floor होती है जहाँ की paper को position किया जाता है. यहाँ पर एक touring bar traces draw करता है paper के ऊपर जैसे जैसे ये floor के throughout transfer करता है. Flatbed plotters में pen transfer करता है web page के x और y axes के throughout.

ये आसानी से बहुत से designs draw कर सकता है जैसे की Vehicles, Ships, Airplanes, Footwear और Get dressed designs, Highway और Freeway design इत्यादि.

Curler Plotter

यहाँ एक curler plotter में, paper transfer होता है plotter के माध्यम से वहीँ system drawing को print करता है.

Inkjet Plotter

यहाँ इस inkjet plotter में, यह symbol को create करने के लिए छोटे droplets की ink को paper में spray करता है. यह एक बहुत ही well-liked selection होती है promoting businesses और graphic designers के लिए, क्यूंकि inkjet plotters का इस्तमाल in most cases बड़े outputs के लिए होता है, जैसे की banners और billboards, roadside के बड़े indicators इत्यादि.

ये दोनों thermal या piezoelectric fashions में उपलब्ध होते हैं.

जहाँ Thermal inkjet plotters warmth का इस्तमाल करती हैं ink के droplets को spray करने के लिए, वहीँ piezoelectric plotters इस्तमाल करता है charged crystals का ink को follow करने के लिए. Inkjet plotters in most cases बेहतर high quality के graphics print करते हैं दुसरे किसी plotter varieties की तुलना में.

Chopping Plotter

ये chopping plotter एक huge scale chopping software होता है जो की produce करता है ready-cut mylar या vinyl lettering और graphics. इसमें Computerized plotter knives subject matter के sheet को reduce करती है जो की plotter के flat floor space में होते हैं, साथ में ये कुछ इसप्रकार से design बनाते हैं जो की पास के laptop में connected होती हैं.

इनका इस्तमाल signal making, billboard promoting और automobile graphics में ज्यादातर होता है. ये gadgets बहुत ही ज्यादा velocity और precision प्रदान करती हैं, जिसे की conventional manner से प्राप्त करना बहुत ही कठिन होता है.

Plotter की Printing Measurement कितनी होती है?

ज्यादातर drum और flatbed plotters की output sizes बहुत ही बड़ी होती है same old inkjet और laser printers की तुलना में.

उदाहरण के लिए, एक standard inkjet printer create करती हैं paperwork जो की 8.Five inches तक की huge होती हैं. वहीँ एक drum plotter paperwork produce करते हैं जो की करीब 44 inches तक huge होती हैं.

वहीँ एक Drum Plotter के द्वारा print किया गया file की duration केवल paper के measurement तक की ही होती है. वहीँ वो Paperwork जो की flatbed plotters के द्वारा print किये गए होते हैं उनकी duration और width constrained होते हैं printing floor तक ही.

NOTE जहाँ pen plotters का अब भी इस्तमाल होता है, वहीँ ज्यादातर fashions के स्थान पर wide-format inkjet printers का इस्तमाल होने लगा है.

Printer vs Plotter

हम में ज्यादातर लोगों को ये पता ही है की Plotter असल में एक प्रकार के printers ही होते हैं. जहाँ printers का इस्तमाल हम computer systems से printout या arduous replica लेने के लिए करते हैं.

वहीँ Plotter का इस्तमाल हम बड़े measurement के graphics को बनाने के लिए करते हैं जिसमें की एक pen और pen holder का इस्तमाल होता है paper में vector graphics को print करने के लिए.

Printer और Plotter में क्या अंतर है?

1. Plotters असल में एक sub class होता है printers का.

2. सभी plotters को हम printers मान सकते हैं, लेकिन सभी printers को हम plotters नहीं कह सकते हैं.

3. Plotters का इस्तमाल line photographs draw करने के लिए होता है, वहीँ printers का इस्तमाल dots के द्वारा photographs draw करने के लिए होता है.

4. एक plotter grasp करता है pen और draw करते हैं traces, वहीँ printers laser generation का इस्तमाल करते हैं.

5. एक plotter का इस्तमाल हम बहुत ही बड़े photographs को draw करने के लिए कर सकते हैं जैसे की structure में, वहीँ printers का इस्तमाल हम ज्यादा बड़े photographs के लिए नहीं कर सकते हैं.

प्लॉटर का उपयोग

अब चलिए Plotters के packages के विषय में जानते हैं. आखिर प्लॉटर का क्या उपयोग है?

1. इनका इस्तमाल construction के Architectural plan बनाने के लिए होता है.

2. इन्हें CAD packages में भी बहुत इस्तमाल किया जाता है, जिससे plane के mechanical parts को आसानी से design कर सकें.

3. साथ में इन्हें बहुत से engineering packages में भी इस्तमाल किया जाता है.

Plotters के Benefits क्या हैं?

अब चलिए जानते हैं की Plotters के benefits क्या हैं.

1. Plotters आसनी से huge sheets के paper में काम कर सकते हैं, वहीँ ये अपने prime answer को take care of भी करते हैं.

2. इन बहुत से selection के flat fabrics में print किया जा सकता है जिसमें plywood, aluminum, sheet metal, cardboard, और plastic शामिल हैं.

3. Plotters permit करते हैं वहीँ identical trend को draw करने के लिए हज़ार बार वो भी बिना किसी symbol degradation के.

Plotters के Disadvantages क्या हैं?

अब चलिए जानते हैं की Plotters के disadvantages क्या हैं.

1. Plotters की measurement बहुत ही बड़ी होती है अगर हम इसकी तुलना एक conventional printer से करें तब.

2. Plotters बहुत ही ज्यादा dear होते हैं एक conventional printer की तुलना में.

Fashionable Plotter Generation क्या है?

Pen plotters, उनके sluggish speeds और complicated mechanisms के वजह से वो redundant बन गए हैं printing applied sciences के developments के वजह से.

Inkjet generation ऐसे में एक best substitute है, इसकी एक small self-contained print head के वजह से ये आसानी से paper के throughout strikes कर सकती है, जिससे ये permit करती हैं producers को huge layout plotters produce करने के लिए जो की बड़े paper measurement में print कर सकते हैं.

Microchip और reminiscence advances से ये allow करती हैं plotters को carry out करने के लिए, ज्यादा processing onboard, साथ में sooner printing करने के लिए वो भी prime resolutions के साथ, और prime ranges की accuracy के साथ.

वहीँ pen plotters में जहाँ केवल line artwork ही print किया जा सकता था, वहीँ एक बड़ी merit है inkjet generation की ये बेहतरीन photograph high quality graphics print कर सकती है, साथ में plotter की versatility को बढ़ा भी सकती हैं.

प्लॉटर हिंदी में

मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख प्लॉटर क्या है (What’s Plotter in Hindi) जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को प्लॉटर के प्रकार के विषय में पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे websites या web में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी knowledge भी मिल जायेंगे.

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए तब इसके लिए आप नीच feedback लिख सकते हैं.

यदि आपको यह put up Plotter क्या होता है हिंदी में पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Fb, Twitter इत्यादि पर percentage कीजिये.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here