पैनी स्टॉक्स क्या होते है? (Defined Penny Shares In Hindi)

[ad_1]

भारतीय अर्थव्यवस्था में लोगों की बढ़ती Source of revenue के साथ Speedy Web Connectivity शेयर मार्केट में भेड़-चाल को बढ़ा रही है और किसी एक निवेशक की कमाई को देखकर दूसरे लोग भी इस फील्ड में आ रहे हैं।

जबकि कुछ ऐसे इन्वेस्टर भी है जो हाई रिस्क लेकर छोटी प्राइस वाले शेयर्स यानी पैनी स्टॉक्स में पैसा लगाकर अच्छे रिटर्न कमा रहे है| लेकिन क्या Penny Shares में इन्वेस्ट करना हर किसी के लिए एक फायदेमंद सौदा है| आज इस पोस्ट में हम जानेंगे की पैनी स्टॉक्स क्या होते है और क्या आपको इसमें निवेश करना चाहिये?

Penny Shares क्या होते है?

“Penny” शब्द का अर्थ होता है सिक्का यानी जिससे कम मूल्य की चीजे ख़रीद जा सके| इसी आधार पर यह नाम रखा गया है जिसका मतलब है वे Small & Micro Cap कम्पनियाँ जिनके स्टॉक की प्राइस बहुत ही कम होती है और जिन्हें छोटे राशि के साथ भी ख़रीदा जा सकता है ऐसे शेयर्स को Penny Shares कहा जाता है|

असल में इसकी कोई Transparent Defination तो नहीं है लेकिन अमेरिका में जो भी शेयर $five डॉलर से नीचे होता है उसे पैनी स्टॉक माना जाता है| जबकि भारत में ₹50 रुपयें से नीचे के स्टॉक्स को इस श्रेणी में शामिल किया जाता और यह NSE & BSE या अन्य छोटे Inventory Change में सबसे निचले पायदान पर पाये जाते है|

Penny Shares इतने पॉपुलर क्यों है?

कई सारी वजह है जिनके कारण भारत में पैनी स्टॉक्स काफी पॉपुलर है और कई जगह तो इन्हें Multibagger भी कहाँ जाता है|

1 छोटी राशि से किया जा सकता है अधिक मुनाफा

कम Liquidity और कंपनी का Low Marketplace Cap होने की वजह से शेयर में उतार-चढाव बहुत ही ज्यादा होता है| जिसके कारण इस प्रकार के स्टॉक्स में निवेश करने वाले निवेशक बहुत ही कम समय में बड़ा नुकसान करवा सकते हैं या बहुत अधिक मुनाफा भी कमा सकते हैं|

2 स्माल कंपनियों के लिए होते है लाभकारी

बड़ी कम्पनियों में तो निवेश करने के लिए बड़े निवेशक मिल जाते है पर छोटी कम्पनियों को Public Investment जुटाने और अपने Industry को बड़ा करने में इस प्रकार के Shares का बहुत योगदान होता है|

three कम कीमत के कारण अधिक संभावनाएँ

कीमत कम होने के कारण प्राइस ऊपर जाने के चांसेस भी काफी हाई रहते है| कई बार यह पैनी स्टॉक्स Multibagger भी साबित हुए है जहाँ इनकी कीमत 2 से five गुना भी हुई है|

four होते है बहुत ही ज्यादा रिस्की और रिवॉर्ड

किसी भी अन्य पॉपुलर शेयर्स की तुलना में इन पैनी स्टॉक्स पर भरोषा नहीं किया जा सकता| उसका कारण है इनका छोटा Marketplace Capitalization, Low Benefit और Week Long term Plan जो कंपनी के फ्यूचर पोटेंसिअल के बारे में नहीं बताता|

five इन्हें खोजना होता है आसान

स्टॉक मार्केट में करीब 2200+ स्टॉक ऐसे है जिनकी कीमत 50 रुपये से नीचे है और पैनी स्टॉक माने जाते है| आप Screener पर जाकर उन्हें आसानी से खोज सकते है|

भारत के टॉप 10 पैनी स्टॉक्स

नीचे इंडिया के Most sensible Penny Shares की लिस्ट दी गई है, जिनकी परफॉरमेंस देखकर आप एक अंदाजा लगा सकते है _

Corporate Sector Marketplace Cap (CR.)
DISH TV INDIA Broadcasting and Cable Television 1897
GMR INFRASTRUCTURE Airport Carrier 15090
HFCL Cable Community 3391
VODAFONE IDEA LTD. Telecom Carrier 28735
INDIAN OVERSEAS BANK Banking 27861
NBCC LTD. Development and Construction 8631
RAIL VIKAS NIGAM Development 6182
TV18 LTD Broadcasting 5006
TRIDENT LTD. Textile 7236
NHPC LTD. Digital transmission 24761

[Note – ऊपर दी गई लिस्ट केवल एजुकेशन के उद्देश्य से है हम किसी को भी पैनी स्टॉक्स में निवेश करने की सलाह नहीं देते|]

Penny Shares और Blue Chip में फर्क?

Penny Shares शेयर मार्केट में Low Marketplace Cap वाली कंपनी के द्वारा जारी किए जाते हैं साथ ही छोटे और अधिक रिस्क लेने वाले निवेशक इस प्रकार के Inventory को ज्यादा Favor करते हैं| कभी कम रिटर्न तथा कभी ज्यादा रिटर्न के साथ इस प्रकार के निवेश में नुकसान भी झेलना पड़ता है, रिटेल इन्वेस्टर मुख्यतया Penny Shares को खरीदने में ही रुचि रखते हैं|

जबकि Blue Chip Shares बहुत ही भरोसेमंद, पॉपुलर, हाई मार्केट कैप वाली कम्पनियाँ होती है जो Monetary Stage पर मजबूत होती है| यह सेक्टर और मार्केट लीडर्स होती है जो कई बड़े उतार-चढाव में भी टिकी रहती है और लॉन्ग रन में इन्वेस्टर्स को काफी अच्छे रिटर्न प्रदान करती है| उदाहरण है – HDFC Financial institution, TATA Metal, Reliance and so on.

क्या पैनी स्टॉक में इन्वेस्ट करना चाहियें?

मेरी राय में एक समझदार और वेल्थ क्रिएट करने वाला Investor हमेशा ही ऐसे स्टॉक से दूर रहता है क्योकि उनका मानना है की अच्छे रिटर्न के लिए अच्छी और फाइनेंसियली स्ट्रोंग कम्पनियों को चुनना ही सबसे जरुरी काम है|

लेकिन फिर भी ऐसी कई कम्पनियाँ होती है जिनकी Long term Expansion Chance हाई रहती है लेकिन उनकी शेयर की कीमत वास्तव कीमत से कम चल रही होती है| ऐसे में उन पैनी स्टॉक में किया गया निवेश काफी फायदे का सौदा माना जा सकता है|

लेकिन अब सवाल आता है की उन Penny Shares को कैसे सेलेक्ट किया जाये|

इसके जवाब के लिए आप नीचे दी गई बातों को ध्यान में रखे

1 शेयर की कीमत और वैल्यूएशन

Valuation को जानने के लिए इस उदाहरण को समझें –

◆ Corporate A

General Remarkable Stocks: 10000

In step with Proportion Value: 10 Rupees

Marketplace Cap: 10×10000 = One Lakh Rupees

◆ Corporate B

General Remarkable Proportion: 1000

In step with Proportion Value: 100 Rupees

Marketplace Cap: 1000×100 = One Lakh Rupees

Notice – दो कंपनियों की एक समान मार्केट कैप होने की स्थिति में कम स्टॉक प्राइस वाली कम्पनी के Penny Shares को ज्यादा वरीयता देवें, इससे मुनाफा कमाने की अधिक संभावना होती है|

2 मार्केट कैप का ध्यान रखे

आप Small Cap कंपनियों के शेयर को चुनने की बजायें, ऐसे Penny Shares को भी सेलेक्ट कर सकते है जो Mid Cap हो,  क्योकि ऐसे में अच्छे रिटर्न मिलने के चांसेस ज्यादा होते है|

three Bubble Burst से बचें

कई बार Penny Inventory जारी करने वाली कंपनियां, मार्केट में झूठी खबर फैलाकर अपनी कंपनी के निवेश को बढ़ाने की कोशिश करती है| इस तरह की खबरों के पीछे सत्यता की जांच करें और Bubble Burst से बचकर Actual Marketplace Worth को पहचानने की कोशिश करें|

four फाइनेंसियल डाटा देखे

Maximum Importantly पैसा निवेश करने से पहले कम्पनी के बैलेंस शीट को जरुर चेक करे और Examine करे की वह कम्पनी अपनी ही तरह की अन्य कम्पनियों की तुलना में कैसा परफॉर्म कर रही है और साथ ही पिछले वर्षो में किस तरह के रिटर्न दिए है|

Penny Shares में निवेश कैसे करे?

  1. In the beginning आपके पास एक डीमेट और ट्रेडिंग अकाउंट होना चाहिये|
  2. जो की आप भारत के टॉप ब्रोकर Zerodha में खोल सकते है|
  3. उसके बाद आपको Kite App डाउनलोड करनी है और लॉग इन कर लेना है|
  4. जिसके बाद आप अपने सेलेक्ट किये गये स्टॉक पर अपना निवेश कर सकते है|
  5. शेयर खरीदने के लिए पहले स्टॉक को सर्च करे, फिर उस पर क्लिक करे और अपनी Amount एंटर करके ऑडर प्लेस कर ले|
  6. जिसके बाद कुछ ही दिनों में आपके अकाउंट में शेयर क्रेडिट कर दिए जायेंगे|

Notice –  आप इसके लिए SIP भी Create कर सकते है और अपने Per 30 days Price range के Funding शुरू कर सकते है|]

निष्कर्ष (Abstract)

In Conclusion: इस प्रकार हमने जाना Penny Shares क्या होते हैं और किस प्रकार की विशेषताओं के कारण Retail Buyers के द्वारा इन्हें अधिक प्राथमिकता दी जाती है| हमें आशा है कि इस पोस्ट से आपको Penny Shares तथा इन Shares को Outstand करने वाली कंपनियों को समझने में मदद मिली होगी|

और जानने के लिए या हमसे कोई भी सवाल पूछने के लिए Remark जरुर करे|

Leave a Comment