पावर बैंक क्या है और कैसे काम करता है

[ad_1]

अगर आप SmartPhone का इस्तमाल कर रहे हों तब आप सभी ने Energy Financial institution क्या है और किस काम में इस्तमाल होता है के विषय में जरुर सुना होगा. अक्सर होता है की हमें यदि कहीं जाना होता है और ऐसे ही मौके में हमारा mobile phone या smartphone का battery कभी कबार useless हो जाता है, जिससे की हम इसका सही समय में इस्तमाल नहीं कर पाते हैं. सच में ये बहुत ही irritating काम होता है.

अगर ये बात आपके साथ कभी हुआ हो तब आप समझ सकते हैं मेरे कहने के क्या मतलब है.

ऐसी ही जगहों में एक moveable energy financial institution charger सच में एक बहुत ही बड़ा अंतर पैदा कर सकता है और हमारी इस परेशनी हो चुटकियों में दूर कर सकता है.

अभी के समय में इतने ज्यादा technological advances होने के कारण, हमारे units हमें comfort और साथ में lightening velocity communique प्रदान करते हैं.

आप भी ये मेहसूस कर रहे होंगे की हमारे good telephones अब ज्यादा हलके, छोटे और सस्ते हो गए हैं जिससे की ज्यादातर लोग इन्हें अपने साथ अपने pocket, handbag इत्यादि में सहजता के साथ ले जा सकते हैं.

अगर मैं पिछले 25 वर्षों की बात करूँ तब moveable units की वृद्धि कई गुना बढ़ गयी है और जिससे हमारे जीवन की high quality भी बढ़ गयी है. वहीँ cellphones की dimension में भी काफी अंतर देखा गया है.

जहाँ पहले वो बड़े और भारी हुआ करते थे वहीँ अब वो छोटे और हलके बन गए हैं. ऐसे में इन cell phones और good telephones के भारी इस्तमाल के कारण इन्हें बार बार payment करने की जरुरत पड़ती है. यही कारण है की आजकल आप marketplace में बहुत से manufacturers के Energy Banks देखने को मिल जाते हैं. वहीँ इसलिए आज मैंने सोचा की क्यूँ न आप लोगों को इनके बारे में और पावर बैंक बनाने की विधि के विषय में पूरी जानकारी प्रदान की जाये.

यदि आप भी Energy Financial institution in Hindi से सम्बंधित सभी जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तब आज का यह article पूर्ण रूप से पढ़ें क्यूंकि आपको बहुत सी ऐसी जानकरी भी प्राप्त होंगी जिन्हें शायद आप पहले से न जानते हों. तो फिर चलिए शुरू करते हैं.

Table of Contents

पावर बैंक क्या है (What’s Energy Financial institution in Hindi)

Power Bank Kya Hai Hindi
पावर बैंक

Energy banks को हम moveable batteries भी कह सकते हैं जो की कुछ circuitry के मदद से energy in और energy out को keep watch over करते हैं. इन Energy Banks को एक USB chargers के मदद से payment किया जाता है जब energy to be had हो. फिर उसी charged battery (energy banks) की मदद से हम बहुत से units जैसे की cellphones, digital camera इत्यादि को उस समय payment कर सकते हैं जब electrical energy की कमी हो.

Energy Banks से उन units को payment किया जाता है जिनमें USB charger का इस्तमाल होता है. एक energy financial institution ऐसा moveable charger होता है जिसका इस्तमाल सबसे ज्यादा यात्री ही करते हैं, जिन्हें ज्यादातर एक जगह से दुसरे जगह तक जाना होता है.

इसे पावर बैंक क्यूँ कहा जाता है?

इसे Energy Financial institution इसलिए कहा जाता है क्यूंकि जैसे की एक Financial institution में हम Budget को deposit करते हैं, retailer करते हैं और जरूरत पड़ने पर withdraw भी करते हैं, ठीक उसी तरह से Energy Financial institution में भी payment को retailer किया जाता है और जरुरत पड़ने पर उसका इस्तमाल कर अपने units को recharge किया जाता है.

इन्हें moveable chargers भी कहा जाता है क्यूंकि इनका इस्तमाल हम cellphones को payment करने के लिए कर सकते हैं बिना उन्हें mains connection के साथ attach किये ही. वैसे उन्हें payment होने के लिए major energy provide की तो जरुरत होती है.

हमेशा अपने Cellular Telephones के लिए batteries को खरीदना और अपने साथ लेना मुमकिन नहीं है इसलिए Energy Financial institution की जरुरत बहुत ही बढ़ जाती है.

पावर बैंक के प्रकार (Sorts of Energy Financial institution in Hindi)

वैसे तो Energy Banks के बहुत से प्रकार marketplace में उपलब्ध हैं लेकिन चलिए उनमें से सबसे महत्वपूर्ण प्रकार के विषय में जानते हैं.

1. Common or Usual Energy Financial institution

ये वही standard energy financial institution moveable chargers होते हैं जो की प्राय सभी On-line और Offline Shops में to be had होते हैं. इन्हें payment करने के लिए standard USB assets जैसे की USB chargers की जरुरत होती है.

2. Sun Energy Financial institution

जैसे की नाम से पता चलता है, इन solar energy banks को payment करने के लिए daylight का इस्तमाल किया जाता है. इसे करने के लिए उनमें photovoltaic panels होते हैं. इनका इस्तमाल inner battery को trickle-charge करने के लिए होता है जब उन्हें daylight में रखा जाता है क्यूंकि ये बहुत ही छोटे होते हैं लेकिन फिर भी ये बहुत काम के चीज़ होते हैं.

चूँकि sun charging बहुत ही gradual होता है, इसलिए उन्हें payment करने के लिए एक USB charger का भी इस्तमाल किया जा सकता है. वहीँ उसके साथ में sun charging भी एक helpful back-up हो सकता है, खासकर उन स्थनों में जहाँ की mains energy की बिलकुल भी सुविधा न हो.

पावर बैंक की lifetime क्या है?

देखा जाये तो दो मुख्य प्रकार के paperwork होते हैं lifetime के जो की related होते हैं energy banks के साथ.

1. Fee Discharge Cycles

कोई भी rechargeable battery धीरे धीरे ख़राब होगी ही. Generally किसी भी battery की lifetime को परखने के लिए उसके choice of payment discharge cycles को देखा जाता है की वो कितने cycles तक सही तरीके से अपनी efficiency प्रदान करता है. कुछ सस्ते energy banks के existence cycle केवल 500 तक ही होते है वहीँ कुछ बेहतरीन वाले के उससे भी ज्यादा payment discharge cycles होते हैं.

2. Self Discharge Time

सभी battery cells, चाहे वो rechargeable हो या फिर number one उनकी एक positive stage की self discharge होती है. अभी के rechargeable batteries के अपनी ही keep watch over circuitry होती है, एक बहुत ही छोटी मात्र की energy की जरुरत होती है इन circuits को alive रखने के लिए. जिसके कारण एक finite time ही होता है एक battery का जब तक की वो charged रहता है.

जहाँ एक बेहतर energy financial institution करीब 6 months तक payment को preserve कर सकता है बिना कोई loss के वहीँ ख़राब high quality वाले ज्यादा दिन तक payment को discharge होने से रोक नहीं सकते हैं.

Energy Financial institution की Battery Generation क्या है?

सभी energy banks की rechargeable batteries में lithium generation का ही इस्तमाल होता है. Lithium-Ion और Lithium-Polymer batteries ही सबसे ज्यादा इस्तमाल में आते हैं energy banks में.
इन दोनों ही applied sciences में बहुत ही थोडा सा ही अलग अलग houses होता है.

1. Lithium-ion

Lithium-Ion batteries की upper power density होती है, i.e. वो ज्यादा मात्रा की electric payment को retailer कर सकते हैं एक given dimension या quantity में, साथ ही इन्हें manufacture करने का price भी less expensive होता है, लेकिन उनकी factor होती है getting old के साथ. ये top energy density भी be offering करते हैं. ये reminiscence impact भी show off नहीं करती है (मतलब की जब batteries onerous बन जाती है जैसे जैसे उसे payment किया जाता है). इनकी कीमत कम होती है.

2. Lithium-Polymer

Lithium-polymer energy banks ज्यादा endure नहीं करते हैं getting old से वही समान extent में इसलिए ये एक बेहतर selection होता है. लेकिन वहीँ उन्हें manufacture करना expensive होता है और जिसके कारण वो सबके funds में सही नहीं बैठता है.

ये batteries ज्यादा tough और versatile होते है जब बात इनकी dimension और form की आती है. वहीँ ये ज्यादा समय तक भी टिकते हैं. इनकी light-weight और low profile होने के साथ साथ ये elecrolyte leakage से भी बहुत ही कम प्रभावित होते हैं.

दोनों ही paperwork की energy financial institution बढ़िया काम करती है, लेकिन वहीँ यह एक stability होता है price और efficiency के बीच में.

Energy Financial institution में Lithium Batteries का इस्तमाल क्यूँ किया जाता है?

Lithium Batteries इतने ज्यादा in style और standard इसलिए हैं क्यूंकि इनकी top weight to energy ratio होती है, जिसका मतलब की Lithium batteries बड़ी ही आसानी से 300W in step with kg energy retailer कर सकता है वहीँ दुसरे in style lead acid केवल 180W in step with kg ही retailer कर सकते हैं. इसलिए ज्यादा energy, much less weight यही तो चाहिए एक moveable instrument में.

एक बेहतर Energy Financial institution खरीदने के लिए किन पहलूवों में ध्यान देना चाहिए?

अब चलिए जानते हैं की एक बेहतर Energy Financial institution खरीदने से पहले किन पहलुओं पर ध्यान देने की आवश्यकता है.

1. Output Potency कैसी है

यदि आप सोच रहे हैं की एक 20,000 mAh powerbank की output करीब 20,000mAh ही होगी तब ये सोचना बिलकुल ही गलत है.

किसी भी powerbank की output potency कभी भी उसकी unique capability के तरह नहीं होती है. हमेशा कुछ न कुछ energy loss जरुर से होता है circuit warmth से, voltage conversions से battery में, charging cable में या जो instrument जिसे ये payment कर रहा हो.

इससे ये पता चलता है की करीब 30-40% energy की loss तो इन्ही चीज़ों में हो जाती है. इसलिए यदि किसी powerbank में 30 से 40 % की energy loss होती है तब ये ठीक है लेकिन यदि इससे भी ज्यादा हो तब उन energy banks को नहीं खरीदना चाहिए. If it loses extra energy, then you definitely must steer clear of buying that powerbank.
वहीँ अगर किसी powerbank की पॉवर लोस 30% से भी कम हो तब इसकी output potency सबसे बेहतर होती है.

2. Energy Financial institution में कितने Ports मेह्जुद हैं

जब आप एक powerbank खरीद रहे हैं तब यदि आपको एक port के बदले में दो पोर्ट्स मिले तब इसमें आपको और भी सुविधा हो जाती है. खासकर तब जब आपके पास एक से ज्यादा units मेह्जुद हों. एक further port हमेशा आपके काम आ सकता है. इसलिए कोशिश करें की दो ports वाले Energy Financial institution लेने के लिए.

3. Rapid charging है या नहीं

चाहे आपके PowerBank में कितने में ports हो, यदि उसमें rapid charging वाला port नहीं है तब व किस काम का. जैसे अभी के mobiles को payment करना वो भी gradual charging ports से तब ये बहुत ही ज्यादा समय लगाने वाला कार्य हो सकता है.

वहीँ यदि एक rapid charging port हैं तब इससे काम बहुत ही जल्द हो जाता है. यदि आप थोडा funds बढ़ा सकते हैं तब आपको Rapid charging वाले moveable charger को चुनना चाहिए.

4. Portability कैसी है

कोई भी अपने bag में एक पत्थर जैसे energy financial institution को elevate करना नहीं चाहेगा. इसलिए खरीदते समय powerbank की portability को जरुर से ध्यान दें.
ऐसी powerbank का चुनाव करें जो की आपके energy want को पूर्ण कर रहा हो. साथ में उसे कहीं पर भी उठा कर ले जाया जा रहा हो. इससे आपको उसे इधर उधर ले जाने में सुविधा होगी.

5. Guaranty Duration कितनी है

सभी producers उनके powerbanks में समान guaranty be offering नहीं करते हैं. जहाँ कुछ केवल 6 months ही प्रदान करते हैं वहीँ कुछ 24 months तक प्रदान करते हैं. इसलिए खरीदते समय इन चीज़ों का ख़ास ख़याल रखें.

पावर बैंक कैसे काम करता है?

Energy banks एक easy battery जैसे नहीं होती है. बल्कि इसमें refined electronics circuitry का इस्तमाल किया जाता है उन्हें organize करने के लिए जब वो खुद payment ही रहे हों और जब वो किसी दुसरे instrument को payment कर रहे हों.

साथ में battery में कितनी payment retailer हो सकती है उसे पहले पता किया जाता है जिससे की powerbank overcharge न हो. वहीँ इसके payment fee को ठीक रखा जाता है, इसके लिए particularly designed built-in circuits का इस्तमाल किया जाता है जिससे की ये modules को सभी जरुरत की intelligence प्रदान कर सकें.

यदि आप एक energy financial institution के काम करने के ढंग को जानना चाहते हैं, तब ये necessarily एक battery ही होती है जो की energy होती है एक mains powered USB charger से. वहीँ इसमें payment को retailer किया जाता है और फिर उसे move किया जाता है किसी जरुरत के instrument में जिसकी payment कम होती है.

इन सभी operation को करने के लिए, energy financial institution में केवल battery ही नहीं होती है बल्कि उसके साथ कुछ refined electronics भी होती हैं पूरी तरह से से programmed जो की पुरे operations को organize करते हैं.

पावर बैंक को चार्ज कैसे करे?

Energy financial institution को payment करने के लिए उन्हें उसके corporate के द्वारा प्रदान किया गया cable से ही payment करें. इसमें आपको उस cable को mains provide के साथ attach करना होता है.

आप जरुर से उस powerbank के reader’s guide को एक बार जरुर पढ़ लें क्यूंकि उसें energy financial institution को कितने समय तक payment करना है और साथ में अलग अलग जानकारी भी प्रदान की गयी होती है.

Energy Financial institution को कैसे इस्तमाल करें?

Energy Financial institution को इस्तमाल करना बहुत ही आसान होता है. इसमें बस आपको USB Cable को अपने cellular instrument में insert कर उसके दुसरे finish को powerbank में लगाना होता है.

आपको ये भी देखना होता है की Energy Financial institution में payment मेह्जुद है भी या नहीं. यदि न हो तब आपको अपने Energy financial institution को जल्द से जल्द payment करना चाहिए. कभी भी Energy Financial institution को complete payment होने के बाद भी payment नहीं कराना चाहिए इससे उसका battery injury हो सकता है.

नकली Energy Financial institution कैसे पहचानें?

यहाँ पर मैं आपको कुछ ऐसे guidelines के बारे में बताऊंगा जिससे की आप नकली powerbank को पहचान सकते हैं.

1. अगर आपके पावर बैंक पर ब्रैंड का नाम नहीं लिखा है तो नकली है. अगर आप जो पावर बैंक खरीद रहे हैं उस पर किसी कंपनी का नाम की जगह पावर बैंक लिखा है तो समझ लीजिए आप नकली पावर बैंक खरीद रहे हैं.

2. ध्यान रहे कि अक्सर नकली पावर बैंक का वज़न हल्का होता है. इसलिए वजन से ही असली और नकली में अंतर आप जान सकते हैं. इसलिए पावर बैंक खरीदते समय उसके वज़न का ध्यान रखें.

3. Faux powerbank में ज्यादा options नहीं होते हैं, इसलिए options से भी आप नकली को पहचान सकते हैं.

4. आपका पावर बैंक कितना बढ़िया है और कितने अच्छे से आपके फ़ोन को चार्ज करता है, इसका पता लगाने के लिए आप एक माइक्रो यूएसबी चार्जिंग किट ख़रीद सकते हैं जो आपके मोबाइल या पावर बैंक के बीच कनेक्ट हो जाता है. इससे आप इस बात पर नज़र रख सकते हैं कि आपका फ़ोन जल्दी चार्ज होगा या नहीं.

पावर बैंक के फायेदे क्या हैं?

चलिए Energy Financial institution के फायेदे के विषय में जानते हैं.

1. ये बहुत ही helpful होते हैं जब आपके house में energy minimize हो या आपके घर में electrical energy न हो.

2. Sooner charging प्रदान करती है क्यूंकि ये extremely powered units होती हैं.

3. इन्हें आसानी से recharged किया जा सकता है बस कोई भी USB port में इन्हें connect कर.

4. Energy banks आपको हमेशा freedom प्रदान करती है जब आप smartphone इस्तमाल कर रहे हों वो भी बिना battery के ख़त्म होने के pressure के.

5. कोई भी कार्य करने से समय में आपको battery की चिंता करने की जरुरत ही नहीं होती है.
आप कहीं भी Go back and forth कर सकते हैं बिना कोई pressure के, जहाँ पहले आपको इसके लिए pressure होना पड़ता था.

पावर बैंक का ध्यान कैसे रखे?

यदि आप अपने energy financial institution का सबसे ज्यादा फायेदा उठाना चाहते हैं तब आपको कुछ guidelines और pointers माननी होगी जिससे की powerbank की potency और efficiency को ज्यादा देर तक बजाय रखा जा सके.

1. इन्हें room temperature में रखें

कोशिश करें की हमेशा energy financial institution को room temperature में ही रखें. मतलब की न तो ज्यादा ठण्ड और न ही ज्यादा गरम temperature में. इसके लिए आप कोशिश करें की उन्हें अपने automobiles या jeep में खुला न छोड़ें. क्यूंकि automobiles दिन में गरम हो जाते हैं और रात में ठण्ड. इससे उनकी efficiency में ख़राब असर पड़ता है.

2. इन्हें Fee करें first use से पहले

Producers हमेशा यही counsel करते हैं की एक नए energy financial institution को हमेशा complete payment करें इस्तमाल करने से पहले. इनकी inner circuits extra payment को minimize out कर देती है, इसलिए आपको एक जरूरत की payment तक इन्हें payment करनी चाहिए.

3. इनकी battery को charged रखें

सुनने में ये बहुत ही obtrusive लगेगा की, आपको अपनी energy financial institution को जरुर से payment करनी चाहिए क्यूंकि अगर ये charged न हो तब ये किस काम का. इसलिए इसके payment ख़त्म होने पर आपको इसे payment कर लेनी चाहिए.

4. Fee कर लें energy financial institution को जब आप इन्हें लम्बे समय तक इस्तमाल नहीं करने वाले हैं

Lithium ion और lithium polymer rechargeable batteries को discharged situation में नहीं रखनी चहिये लम्बे समय के लिए. क्यूंकि batteries में थोडा payment का loss जरुर से होता है अगर उसे कुछ समय तक छोड़ दिया जाये तब.

इसलिए अगर आप लम्बे समय तक इस्तमाल नहीं करने वाले हैं तब अपने energy financial institution को complete payment कर लें.

5. Energy financial institution का इस्तमाल सही तरीके से करें

Energy Banks का इस्तमाल उन units को payment करने के लिए करना चाहिए जिन्हें की ये payment कर सकें. यदि आप बड़े units को इससे payment करेंगे तब आपका payment जल्द ही fritter away हो जायेगा. सही units का चयन करें payment करने के लिए.

6. इन्हें Moisture से दूर रखें

Energy banks चूँकि digital units होते हैं, इसलिए उनका इस्तमाल ऐसे जगहों में न करें जहाँ की पानी और moisture हो. इसलिए कोशिश करें की इन्हें dry puts में रखने के लिए, जिससे इन्हें कोई injury नहीं होगी.

7. इन्हें ऐसे baggage में न रखें जहाँ की कोई steel items मेह्जुद हो

इन्हें ऐसे जगहों में न रखें जहाँ की कोई steel items हों क्यूंकि इससे इसमें quick circuit होने के ज्यादा possibilities होते हैं. इसलिए इन्हें खुले जगहों में रखें या इसके pouch में.

8. इन्हें Drop न करें

Energy banks में circuit forums होते है battery के साथ. इसलिए अगर आप इसे drop करते हैं तब हो सकता है की इसका कोई बुरा असर पड़े इसके circuitary पर. इसलिए इन्हें आराम से maintain करें.

क्या एयरपोर्ट और फ्लाइट में पावर बैंक उस पर ले जा सकते है?

यह एक बहुत ही ज्यादा पूछे जाने वाला सवाल है के क्या पावर बैंक अपने साथ कैरी बैग में घरेलू उड़ान पर ले जा सकता हूं? जी हाँ, आप फ्लाइट में पॉवर बैंक को अपने बैग में ले जा सकते है. चेक इन करते समय इसका जांच होता है.

पावर बैंक का स्विच ऑफ कैसे करें?

ज्यादातर पॉवर बैंक्स में स्विच ऑफ का आप्शन नहीं रहता. आप जब भी अपने क़िस्त गैजेट्स को पॉवर बैंक के साथ कनेक्ट करते है वोह आटोमेटिक ऑन हो जाता है और जब डिसकनेक्ट करते है वोह आटोमेटिक ऑफ हो जाता है. कुछ कुछ पॉवर बैंक्स में ऑफ का स्विच रहता है, पर इसकी कोई जरुरत नहीं है. इसी लिए ज्यादातर आपको यह स्विच देखनेको नहीं मिलता.

Conclusion

मुझे उम्मीद है की आपको मेरी यह लेख पावर बैंक क्या है (What’s Energy Financial institution in Hindi) जरुर पसंद आई होगी. मेरी हमेशा से यही कोशिश रहती है की readers को पावर बैंक कैसे बनाएं के विषय में पूरी जानकारी प्रदान की जाये जिससे उन्हें किसी दुसरे websites या web में उस article के सन्दर्भ में खोजने की जरुरत ही नहीं है. इससे उनकी समय की बचत भी होगी और एक ही जगह में उन्हें सभी data भी मिल जायेंगे.

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए तब इसके लिए आप नीच feedback लिख सकते हैं.

यदि आपको यह publish Energy Financial institution क्या होता है हिंदी में पसंद आया या कुछ सीखने को मिला तब कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Fb, Google+ और Twitter इत्यादि पर percentage कीजिये.

Leave a Comment