डीवीडी क्या है और कैसे चलाएं

[ad_1]

क्या आप जानते हैं की ये डीवीडी क्या है? यदि नहीं तब ये article DVD क्या होता है आपको जरुर से पढना चाहिए. अभी जहाँ देखो Video-streaming products and services का ही बोलबाला है, Youtube ने तो Web में Leisure का पूरा साम्राज्य अकेले ही हासिल कर लिया है. लेकिन एक समय था जब CD, DVD में ही offline leisure बसता था.

कहीं कहीं तो अभी भी DVD और CD का इस्तमाल होता है. वैसे ये बिलकुल ही दुनिया से गायब नहीं हुआ है बल्कि इसकी recognition में जरुर ही कमी देखने को मिली है. लेकिन अभी भी हम सभी के घरों में DVDs की बहुत सी collections आपको जरुर देखने में मिल सकती हैं.

जहाँ CD में कम garage होता है वहीँ DVDs में इसके तुलना में Three से Four गुना तक Garage होता है. आजकल के Laptops और Laptop में ये DVD pressure पहले से आती है, जिसका इस्तमाल कर हम कोई भी DVD या CD को play कर सकते हैं. वहीँ DVDs एक exterior tool के हिसाब से ही आता है जिन्हें हम अपने Tv के साथ attach कर सकते हैं.

बहुत से लोगों के मन में DVD को लेकर काफी सवाल हैं इसलिए आज मैंने सोचा की क्यूँ न आप लोगों के सभी सवालों के जवाब यह लेख DVD का अर्थ क्या है के माध्यम से दे दिया जाये. तो फिर बिना देरी किये चलिए शुरू करते हैं.

डीवीडी क्या है (What’s DVD in Hindi)

DVD Kya Hai Hindi

DVD एक प्रकार का optical media होता है जिसका इस्तमाल virtual dataDVD को retailer करने के लिए किया जाता है.

DVD का complete shape होता है “Virtual Video Disc” या “Virtual Flexible Disc,” ये rely करता है आप किस्से पूछ रहे हैं या क्या पढ़ रहे हैं. DVDs की dimension पूरी तरह से समान होती है CDs के dimension के तरह और अगर disc में कोई label न हो तब इन दोनों में अंतर बता पाना बहुत ही कठिन हो सकता है.

Laptops जिसमें Home windows चलता है वो आसानी से DVDs को play कर सकते हैं; वहीँ tool और permissions जो की जरुरी होते हैं उसे चलाने के लिए range करते हैं एक working machine के variations से दुसरे में.

उदाहरण के लिए Home windows 7 में integrated DVD compatibility होती है, वहीँ उसके बाद के दुसरे home windows model में further tool का इस्तमाल करना होता है चलाने के लिए और कहीं कहीं तो pay भी करना होता है उसे improve करने के लिए.

DVD का complete shape क्या है ?

DVD का complete shape होता है Virtual Video Disc या Virtual Flexible Disc.

डीवीडी राइटर क्या है और इसके प्रकार

CDs और DVDs को play करने के लिए optical disc drives का इस्तमाल किया जाता है जो की laptop के साथ built in ही आते हैं. मुख्य रूप से drives के दो प्रकार होते हैं :

  • Readers – ये केवल information को learn करते हैं discs से.
  • Writers – इन्हें recorders या burners भी कहा जाता है – ये information को discs में replica करने के लिए मदद करते हैं.

ज्यादातर drives केवल reader-only ही होते हैं, लेकिन writers भी readers के साथ mixture में to be had होते हैं. इसलिए अगर आपको कोई CD या DVD खरीदना होता है तब इसके विषय में जानकारी रखना बहुत ही जरुरी होता है.

CD और DVD में कितना Area होती हैं?

CD में करीब 700 megabytes तक की information या 80 mins की tune retailer कर सकते हैं. वहीँ एक usual, unmarried layer clean DVD में करीब 4.7 gigabytes तक की information को retailer कर सकते हैं, करीब 7 occasions ज्यादा data ये retailer कर सकते हैं जो की 2 घंटे की high-resolution video होती है.

DVDs के दोनों paperwork: Unmarried और double-layer paperwork

Double layer discs को twin layer भी कहा जाता है. इसका इस्तमाल प्राय सभी DVD film discs के लिए किया जाता है. वो करीब 8.Five gigabytes की information dangle करते हैं और बाकि के more room में supplemental data जैसे की multi-language soundtracks, additional scenes और दुसरे “bonus” subject material upload किया जाता है.

इसके अलावा great amount of cupboard space होने के कारन ये DVDs को permit करती है upper high quality audio और video content material retailer करने के लिए, पहले की older video garage media जैसे की VHS tapes की तुलना में. इसके अलवा DVDs ज्यादा flexible होते हैं VHS tapes की तुलना में, क्यूंकि इसमें ज्यादा rewind करने की जरुरत नहीं होती.

डीवीडी के सभी Codecs क्या है?

Other codecs जैसे की DVD-R, DVD+R, DVD-RW, DVD+RW, DVD-ROM, और DVD-RAM क्या है –

ये सभी Codecs एक दुसरे ने similar होती हैं, लेकिन फिर भी ये कुछ कुछ अलग होती हैं एक दुसरे से. जैसे DVD-R (जिसे की pronounced किया जाता है “DVD minus R” या “DVD sprint R“) और वहीँ DVD+R (जिसे की pronounced किया जाता है “DVD Plus R“), इन्हें एक बार ही write किया जा सकता है, recordable codecs होते हैं – जिसका मतलब है की इनका इस्तमाल एक बार ही information listing करने के लिए किया जाता है और वो information completely retailer हो जाता है disc में.

ये codecs identical manner में ही काम करते हैं लेकिन हमेशा एक दुसरे के साथ suitable नहीं होते हैं. उदाहरण के लिए DVD-R discs Apple Mac computer systems में काम करते हैं, लेकिन DVD+R discs काम नहीं करते हैं.

ये समान होती है कुछ fresh DVD recorders में, जो की corporations जैसे की Panasonic, Pioneer, और Toshiba के द्वारा बनाया गया है और जो की playback कर सकती हैं DVD+R और DVD-R discs को, लेकिन वहीँ ये केवल एक ही varieties की नयी contents को listing कर सकते हैं जो की एक explicit structure में होती है, both DVD-R या DVD+R, लेकिन दोनों नहीं.

DVD-RW और DVD+RW का मतलब होता है आप उन discs में re-record कर सकते हो. Recordable CDs के तरह ही. “RW” का complete shape होता है “Re-writable.

DVD-RAM एक ऐसा structure होता है जो की केवल कुछ corporations के द्वारा give a boost to किया जाता है जिनमें Panasonic और Toshiba मुख्य हैं, और ये re-writable DVDs भी होते हैं जिन्हें की most commonly इस्तमाल किया जाता है computer systems में listing करने के लिए और कुछ house DVD recorders में भी.

ये structure universally supported नहीं होती हैं, जिसका मतलब है की ज्यादातर DVD avid gamers और computer systems में ये आप चला नहीं सकते हैं.

DVD-ROM एक ऐसा Structure होता है जिसका इस्तमाल ज्यादातर बड़े tool programs को retailer करने के लिए किया जाता है. यह एक CD ROM के जैसे ही होता है लेकिन इसकी capability बहुत ज्यादा होती है. इस DVD ROM में डाटा को एक बार ही लिखा जा सकता है और उसके ऊपर re-write नहीं किया जा सकता है.

CD Author और DVD creator में क्या अंतर है?

इसका बिलकुल ही easy सा जवाब है की इन दोनों में दो अलग प्रकार के lasers heads का इस्तमाल होता है; एक DVD के लिए तो दूसरा CDROM के लिए, जहाँ CDROM laser की extensive beam होती है और उसकी most garage करीब 700MB तक होती है, वहीँ DVD की बहुत ही ज्यादा capability होती है slender beam में ही.

कंप्यूटर में डीवीडी कैसे चलाएं?

यदि आप अपने Laptop में DVD चलाना चाहते हैं लेकिन आपको ये नहीं पता है की इसे कैसे चलायें तब आपको निचे दिए गए steps को जरुर से पढना चाहिए.

चलिए जानते हैं की कैसे step by step directions को पालन कर अपने CD या DVD को laptop में कैसे चलायें.

Step 1: पहले आपको ये देखना है की आपके पास कौन से प्रकार का disc pressure(s) मेह्जुद हैं.

PC में अक्सर दो drives होते हैं : एक DVD reader होता है जो की most sensible में होता है, और एक mixed DVD/CD reader/creator होता है जो की निचे स्तिथ होता है. ये दोनों precise में drawer-like trays होते हैं, जिसके अन्दर एक DVD या CD को भरा जाता है और उसके बाद tray को बंद कर दिया जाता है.

वहीँ Computer में एक mixed DVD/CD reader/creator होता है जो की keyboard के aspect में स्तिथ होता है. वहीँ All-in-one और touch-screen computer systems में एक pressure होता है एक aspect में, जो की in an instant display के पीछे होता है.

Step 2 : अभी आपको ये ढूंडना होगा की कैसे disc pressure को open किया जाये. इसे generally button को push करके किया जाता है.

PC में ‘open’ (या ‘eject’) buttons tray के नीचे होता है.

वहीँ pc में ये button tray में ही होता है.

आपको button press करना होता है खोलने के लिए. अगर वो tray motorized हो, तब वो पूरी तरह से खुल जायेगा. वहीँ अगर ऐसा न हो तब ये reasonably खुलेगा और फिर आपको उसे gently बाहर खींचना होता है.

Step 3: इसके बाद आपको disc को laptop के disc pressure में भरना होता है :

ये tray ‘indented’ होता है जिससे वो disc आसानी से बैठ जाती है.

जिसे aspect में चमक होती है उसे निचे के तरफ रखा जाता है, क्यूंकि इसमें ही information होती है. उसके बाद उसे धीरे से push करना होता है.

Step 4: अगर वो tray motorized हो तब उस eject button को दुबारा press करते ही वो अपने आप ही बंद हो जायेगा. नहीं तो थोडा सा push करते ही वो भीतर चला जायेगा.

Step 5: इसके बाद एक icon दिखेगा CD/DVD का जो की laptop desktop में seem होगा. उसी समय ही आपको एक menu भी दिखेगी की आप उस disc का क्या करना चाहते हो. आप चाहें तो information को play कर सकते हैं.

Step 6: यदि आपको disc eject करना है, तब आपको पहले tool बंद करना होता है जिसे आप CD/DVD को चलाने के लिए इस्तमाल कर रहे हैं. फिर CD/DVD icon के ऊपर proper click on करना होता है जिससे उसे eject करने का possibility नज़र आता है. इसे click on करने से आपका CD eject हो जायेगा.

Warning :कभी भी CD/DVD चलते वक़्त उसे tray से immediately न निकालें इससे CD/DVD के साथ साथ आपका laptop भी injury हो सकता है.

DVD Author के Possible choices क्या है

यदि आपके पास कोई भी DVD creator नहीं हैं तब आप चाहें ओत दुसरे choices का इस्तमाल कर सकते हैं. अगर आप कोई again up या recordsdata switch करना चाहते हैं, तब आप cloud-based machine, जैसे की Google Power, Dropbox या Microsoft OneDrive का इस्तमाल कर सकते हैं. अगर आपके recordsdata छोटे हैं, तब आप उन्हें merely e mail भी कर सकते हैं.

वहीँ अगर आपके laptop में USB पोर्ट हो तब आप USB reminiscence stick का इस्तमाल कर सकते हैं Information को switch या save करने के लिए.

Conclusion

मुझे आशा है की मैंने आप लोगों को डीवीडी क्या है (What’s DVD in Hindi) के बारे में पूरी जानकारी दी और में आशा करता हूँ आप लोगों को डीवीडी क्या होता है के बारे में समझ आ गया होगा.

यदि आपके मन में इस article को लेकर कोई भी doubts हैं या आप चाहते हैं की इसमें कुछ सुधार होनी चाहिए तब इसके लिए आप नीच feedback लिख सकते हैं. आपके इन्ही विचारों से हमें कुछ सीखने और कुछ सुधारने का मोका मिलेगा.

यदि आपको मेरी यह publish डीवीडी राइटर क्या है हिंदी में अच्छा लगा हो या इससे आपको कुछ सिखने को मिला हो तब अपनी प्रसन्नता और उत्सुकता को दर्शाने के लिए कृपया इस पोस्ट को Social Networks जैसे कि Fb, Twitter इत्यादि पर proportion कीजिये.

Closing Up to date on November 8, 2020

Leave a Comment