क्लाउड कम्प्यूटिंग क्या है – What’s Cloud Computing in Hindi

0
22


क्लाउड कम्प्यूटिंग क्या है (What’s Cloud Computing in Hindi)? ये शब्द शायद आपने बहुत बार सुना भी होगा पर क्या आपको पता है की ये आखिर ये Cloud Computing क्या है क्यूँ ये आजकल इतना ज्यादा सुनने को मिल रह है. जैसे की हम जानते हैं की Pc community applied sciences पिछले कुछ 20 वर्षों में काफी तरक्की कर चुकी है.

जबसे Web (सबसे ज्यादा standard pc community) ने अपना अस्तित्व जाहिर की है तब से Pc community के box में बहुत development हुई है और खासकर Allotted Computing और Cloud Computing जैसे applied sciences के box में काफी analysis हुई है.

ये technical phrases Allotted Computing और Cloud Computing दोनों का thought प्राय सामान ही हैं बस दोनों में कुछ असमानतायें हैं. तो अगर आपको Cloud Computing के बारे में समझना है तो आपको Allotted Computing की भी समझ होना आवश्यक है.

International Business Analyst का बताना है की ये international cloud computing carrier marketplace 2020 तक $327 billion तक की trade बन जाएगी. करीब करीब सभी corporations आज के दोर में Cloud Computing carrier का इस्तमाल कर रही हैं वो at once हो या not directly.

उदहारण के तोर में अगर हम बात करें तो जब भी हम Amazon or Google की carrier का इस्तमाल करते हैं तब हम अपने सारे knowledge को cloud में retailer कर रहे होते हैं. अगर आप Twitter का इस्तमाल करते हैं तब तो आप not directly cloud computing carrier का इस्तमाल करते हैं.

Allotted Computing और Cloud Computing दोनों इतने standard इसलिए हैं क्यूंकि हमें बेहतर computing networks की जरुरत थी ताकि हमारे knowledge तेजी से procedure हो सके. तो आज हम क्लाउड कम्प्यूटिंग क्या होता है? के बारे में इस article में पूरी तरह से जानेंगे.

तो फिर देरी किस बात की चलिए शुरू करते हैं और जानते हैं की ये Cloud Computing क्या है? और ये इतना standard क्यूँ हो रहा है.

क्लाउड क्या है (What’s Cloud in Hindi)?

Cloud Computing Kya Hai in Hindi

Cloud की बात करें तो ये एक बड़ी interconnected networks of servers की design है जिसे की pc resourses को ship करने के लिए बनाया गया है. और इसमें कोई सठिक location का thought ही नहीं है की knowledge कहाँ से आ रहा है और कहाँ जा रहा है.

अगर में आसान भाषा में कहूँ तो अगर एक person इसे इस्तमाल करे तो उसे लगेगा की वो एक विशाल निराकार computing energy का इस्तमाल कर रहा है जिसमे की person अपनी e-mail से लेकर cell utility की मैपिंग तक सभी चीज़ें अपने जरुरत के हिसाब से कर सकता है.

Industry की भाषा में ऐसा कोई “The Cloud” बोलकर कुछ नहीं होता है. Cloud Computing एक licenced carrier की assortment है जो की अलग अलग distributors के द्वारा supply किया जाता है. Cloud Carrier era control और era acquisition के जगह उन्हें other merchandise से exchange कर देता है और ये merchandise को किसी दूसरी जगह से arrange किया जाता है और एक बात ये केवल तभी lively रहती हैं जब इसकी जरुरत रहती है.

क्लाउड कम्प्यूटिंग क्या है (What’s Cloud Computing in Hindi)

यदि कोई Web के माध्यम से कोई carrier प्रदान करता है तो उसे Cloud Computing कहते हैं. ये carrier कुछ भी हो सकती है जैसे की Off Website online Garage या computing assets. या यूँ कहे तो Cloud Computing एक computing की ऐसी taste है जिससे की vastly scalable और versatile IT-related functions को carrier के रूप में प्रदान किया जाता है Web Applied sciences के मदद से.

इन products and services में infrastructure, platform, utility और space for storing जैसी सुविधायें उपलब्ध हैं. इसमें customers अपने जरुरत के हिसाब से products and services का इस्तमाल करते हैं और उन्ही products and services के पैसे देते हैं जिनकी वो इस्तमाल करते हैं. इसके लिए उन्हें खुद के infrastructure बनाने के जरुरत नहीं है.

आजकल दुनिया में pageant बहुत है और ऐसे में लोगों को Web पर carrier हर वक़्त चाहिए वो भी बिना किसी देरी के. अगर कोई utility कभी freeze हो जाये तो लोगों में बहु असंतोष दिखाई देता है. लोगों को उनकी जरुरत की carrier 24/7 चाहिए.

इन्ही requirement को पूरा करने के लिए हम पुराने mainframe computing के ऊपर जोर नहीं डाल सकते उसिलिये इसी समस्या को हल करने के लिए Clould disbursed computing era का इस्तमाल लोगों ने किया. जिससे की बड़े trade अपने सारे काम बड़ी आसानी से करने लग गए.

उदहारण के तोर पे Fb जिसके की 757 million lively customers हैं और जो करीब 2 million pictures day by day देखते हैं, Three billion के करीब Footage हर महीने में add किये जाते हैं, 1 million web pages fb का इस्तमाल कर 50 million operations प्रति 2nd करती हैं.

ऐसे में conventional computing device इन समस्याओं का हल नहीं निकल सकती बल्कि हमें कुछ बेहतर की जरुरत है जो यह काम कर सके. इसलिए ऐसे Computing को करने के लिए Cloud Distibuted Computing ही इस समय की जरुरत है.

Cloud Computing के उदहारण

  •  YouTube एक बेहतरीन उदहारण है Cloud garage का जो की करोडों customers के video recordsdata को Host करता है.
  •  Picasa and Flickr जो की करोडों customers के virtual pictures को host करती हैं अपने server में.
  •  Google Medical doctors जो की और एक बेहतरीन उदहारण है cloud computing का जो की customers को अपने Shows, phrase paperwork और Spreadsheets को अपने knowledge servers में add करने को permit करता है. इसके साथ उन paperwork को edit और post करने का भी choice देता है.

Cloud Computing के Traits और Advantages

देखा जाये तो Cloud Computing की ऐसे बहुत से आकर्षक advantages हैं जो की companies और लोगों के बहुत काम आने वाले हैं. ऐसे five मुख्य advantages जो की cloud computing के हैं :

  • Self-service provisioning : Finish customers अपने जरुरत के हिसाब से कोई भी काम कर सकते हैं जिसकी उन्हें सबसे ज्यादा जरुरत हो. इससे conventional जरुरत जो की हैं IT directors, जो पहले आपके compute assets को arrange और provision करते थे उनकी और जरुरत नहीं है.
  • Elasticity : Corporations अपने जरुरत की computing के हिसाब से उसे बढ़ा और कमा भी सकते हैं. इससे ये फ़ायदा है की पहले जैसे native infrastructure के ऊपर काफी funding लगता था वो अब बिलकुल ही बंद हो गया, इससे corporations को बहुत फ़ायदा होता है.
  • Pay in line with use : Compute assets को granular degree में measure किया जाता है. जिससे की customers को सिर्फ उन्ही assets और workloads के पैसे देने होते है जिनकी वो इस्तमाल करते हैं.
  • Workload resilience : Cloud Carrier supplier अक्सर redundant assets का इस्तमाल करते हैं ताकि वो resilient garage प्राप्त कर सकें और इसके साथ वो customers के essential काम को चालू रख सकें जो की multi international areas में मेह्जुद हैं.
  • Migration Flexibility : Group अपने जरूरत के हिसाब से कुछ workload को एक cloud platform से दुसरे में switch कर सकते हैं वो भी बिना किसी तकलीफ के और routinely जिससे पैसों की भी बचत होती है.

Cloud computing का इतिहास

अगर हम Cloud computing in hindi की बात करें तो इसका जन्म करीब सन 1960 के दसकों में हुआ था. जब pc trade ने computing को उसके attainable advantages के आधार पर एक carrier आय application के हिसाब से ग्रहण किया था. लेकिन पहले के computing, connectivity और banwidth दोनों में lack थी जिसके चलते computing को एक application के हिसाब से impliment कर पाना संभव नहीं था.

ये तब तक मुमकिन नहीं था जब तक की एक बड़े पैमाने में Web bandwidth की availability न हो गयी सन 1990 तक. जिसके बाद हो computing को एक carrier के रूप सोच पाना मुमकिन हुआ.

सन 1990 में Salesforce पहली बार commercially undertaking SaaS का सफलतापूर्वक implementation किया. जिसके बाद सन 2002 में AWS ने किया, जो की बहुत से products and services जैसे on-line garage, gadget finding out, computation supply करवाती थी.

आज Microsoft Azure, Google Cloud Platform जैसे कई छोटे बड़े suppliers मेह्जुद हैं जो की AWS के साथ मिलकर cloud-based carrier दुसरे folks, small trade और international undertaking को supply कर रहे हैं.

Cloud Computing vs. Allotted Computing

1) Targets

अगर में Allotted Computing की बात करूँ तो ये collaborative useful resource sharing supply करता है दुसरे customers और assets के साथ attach होकर. Allotted Computing हमेशा चेष्टा करता है की वो administrative scalability (selection of the area in registration), dimension scalability (selection of processes and customers), और geographical scalability (most distance between the nodes within the disbursed device) supply कर सके.

वहीँ Cloud Computing की बात करूँ तो ये on-demand atmosphere में carrier ship करने में विस्वास रखता है जिससे की centered objective succeed in हो सके. इसके साथ ये ज्यादा scalability and transparency, safety, tracking, and control supply करने में भी विस्वास रखता है.

Cloud Computing में products and services transparency के साथ ship किया जाता है बिना bodily implementation के Cloud में.

2) Sorts

Allotted Computing को तीन प्रकारों में विभाजित किया गया है

Allotted Data Programs
इन programs का मुख्य उद्देश्य है की ये data distribute करें विभिन्न server के throughout quite a lot of verbal exchange fashions जैसे की RMI और RPC के द्वारा.

Allotted Pervasive Programs
ये Programs मुख्यतः embedded pc software जैसे की transportable ECG displays, wi-fi digicam, PDA’s और cell gadgets से बने होते हैं. इन programs को establish उनके instability किसी conventional disbursed programs के evaluate में किया जा सकता है.

Allotted Computing Programs
इन प्रकार के programs में computer systems जो की community में hooked up हुए होते हैं आपस में बातचीत message के द्वारा होते हैं अपने motion को monitor करने के लिए.

Cloud Computing को चार प्रकार में विभाजित किया गया है

1. Personal Cloud
ये एक ऐसा cloud infrastructure है जो की dedicatedly किसी एक explicit IT group के सारे utility को host करता है जिससे की इसका whole regulate knowledge के ऊपर होता है जिससे की safety breach होने की आशंका नहीं के बराबर होती है.

2. Public Cloud
इस प्रकार के cloud infrastructure को दुसरे Carrier supplier host करते हैं और जिन्हें बाद में public कर दिया जाता है. ऐसे cloud में customers का कुछ भी regulate नहीं होता है और न ही वो infrastructure को देख सकते हैं.

उदहारण के तोर पे Google और Microsoft दोनों खुद ही अपना cloud infrastructure personal करते हैं और बाद में get admission to public को दे देते हैं.

3. Group Cloud
ये एल multi-tenant cloud infrastructure होता है जिसमे की cloud को दुसरे IT organizations के बिच proportion किया जाता है.

4. Hybrid Cloud
ये Aggregate होती हैं 2 या ज्यादा विभिन्न प्रकार के clouds (Personal, Public and Group) तभी जाकर कहीं Hybrid cloud infrastructure बनता है जहाँ हरेक cloud एक unmarried entity बनकर रहता है लेकिन सभी clouds mix होकर more than one deployment fashions तैयार करते हैं जो की फायेदे मंद हैं.

3) Traits

Allotted Computing में process को distribute कर दिया जाता है विभिन्न computer systems के बिच ताकि computational purposes को carry out किया जा सके एक ही समय में Faraway Manner Invocations की मदद से वहीँ Cloud Computing Programs में on-demand community fashion का इस्तमाल होता है जो get admission to supply करती है shared pool of computing assets को.

Varieties of Cloud Computing

Cloud computing को मुख्यत तीन हिस्सों में विभाजित किया जा सकता है जो की हैं: IaaS, PaaS, and SaaS.

1) Infrastructure as a carrier (IaaS)

ये carrier self-service fashions के होते हैं जिससे की tracking, gaining access to और infrastructure को arrange करने के लिए इस्तमाल किया जाता है किसी faraway location से.

Examples – Servers, Firewalls, Routers, CDN

2) Platform as a carrier (PaaS)

यह Centralized IT operations से computing infrastructure को प्रबंधित करने के लिए device builders की एक self-service module की पंक्ति प्रदान करता है ।

Examples – E-mail products and services: Gmail, Outlook.com

3) Instrument as a carrier (SaaS)

SaaS वेब को get admission to करता है वो utility को ship करने के लिए जो की third-party distributors के द्वारा arrange किया जाता है और जिसकी person interface केवल consumer के और से get admission to किया जा सकता है.

Software Construction: Google App Engine, SAP Hana, Cloud Foundry

Cloud Computing ने पूरा computing trade को बदल कर रख दिया है. इसने पुर तरह से Companies का glance ही बदल दिया है और IT infrastructure को भी. ये बहुत सारे Advantages supply करता है {Hardware} और Instrument के लिए जो की कुछ वर्षों पहले बिलकुल नामुमकिन प्रतीत होता था.

अब एक digital gadget को चलने के लिए बस कुछ mins की जरुरत होता है. Cloud Computing ने corporations और Companies का नज़रिया ही बदल कर रख दिया है. ये अब सभी का पहला पसंद बन चूका है क्यूंकि अगर कोई ठीक तरह से पुरे making plans, technique और ठीक price range से trade करे तो उसे जरुर सफलता मिलेगी.

और scientist ज्यादा से ज्याद analysis कर रहे हैं इसे और ज्यादा बेहतर बनाने के लिए.

नोट Cloud Computing का असल funda है की “आप दुनिया के किसी भी कोने में रहकर आपके किसी भी knowledge को get admission to कर सकते है” उदहारण स्वरुप G-Mail, Google Power इत्यादि.

मुझे पूर्ण आशा है की मैंने आप लोगों को क्लाउड कम्प्यूटिंग क्या है (What’s Cloud Computing in Hindi) के बारे में पूरी जानकारी दी और में आशा करता हूँ आप लोगों को Cloud Computing के बारे में समझ आ गया होगा.

मेरा आप सभी पाठकों से गुजारिस है की आप लोग भी इस जानकारी को अपने आस-पड़ोस, रिश्तेदारों, अपने मित्रों में Proportion करें, जिससे की हमारे बिच जागरूकता होगी और इससे सबको बहुत लाभ होगा. मुझे आप लोगों की सहयोग की आवश्यकता है जिससे मैं और भी नयी जानकारी आप लोगों तक पहुंचा सकूँ.

मेरा हमेशा से यही कोशिश रहा है की मैं हमेशा अपने readers या पाठकों का हर तरफ से हेल्प करूँ, यदि आप लोगों को किसी भी तरह की कोई भी doubt है तो आप मुझे बेझिजक पूछ सकते हैं. मैं जरुर उन Doubts का हल निकलने की कोशिश करूँगा.

आपको यह लेख Cloud Computing क्या है इन हिंदी कैसा लगा हमें remark लिखकर जरूर बताएं ताकि हमें भी आपके विचारों से कुछ सीखने और कुछ सुधारने का मोका मिले.

“ मेरा देश बदल रहा है आगे बढ़ रहा है ”

आइये आप भी इस मुहीम में हमारा साथ दें और देश को बदलने में अपना योगदान दें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here