कोरोना वायरस लहर क्या है, पहली, दूसरी एवं तीसरी | Corona Wave India in Hindi

[ad_1]

कोरोना वायरस लहर क्या है, पहली, दूसरी, तीसरी, भारत, लक्षण, नई लहर (Corona Wave India in Hindi) (Signs, 1, 2, 3, 2d, 3rd, Remedy)

देश में कोरोना महामारी से हर तरफ
हाहाकार मचा हुआ है। कोरोना देश में ही नहीं दुनिया में भी यह अपना कहर बरपा रहा
है। इस महामारी के चलते देश में आर्थिक तंगी के हालात बन रहे है इतना ही नहीं लोग
इससे काफी डर गये है की वो खुद अपने शब्दों में बयां नही कर पाते है। कोरोना की
बात करते ही हम ही एक बात सुनते है की कोरोना की दूसरी लहर, कोरोना की पहली लहर
से भी ज्यादा खतरनाक है। क्या आप जानते है की कोरोना ही पहली लहर क्या है ?
कोरोना ही दूसरी लहर क्या है ? इस लेख में
आपको इस के संदर्भ में पूरी जानकारी दी जाएगी। 

corona waves india in hindi

कोरोना वायरस लहर

वर्तमान में कोरोना जिस तरह से कहर
मचा रहा है ऐसे में हमें इस बात को समझना चाहिए की कोरोना केवल एक बीमारी ही नहीं
है बल्कि यह एक जानलेवा महामारी है। वर्तमान में कोरोना से मृत्यु दर में काफी
इजाफा देखने को मिला है जो काफी भयानक है। भारत मे वर्तमान में दूसरी लहर काफी
सक्रिय है जिससे लोगों की मृत्यु दर में काफी इजाफा हुआ है. साथ ही देश जिस तरह से
प्राणवायु ऑक्सीजन के लिए प्रयत्न कर रहा है, वही देश में आर्थिक तंगी के कारण कई
समस्याएं जैसे बेरोजगारी और भुखमरी जैसी समस्याएं भी उत्पत्र हो रही है। कोरोना ने जब से
दुनिया में दस्तक दी है, तब से अभी तक में कोरोना की Three लहरों
ने तबाही मचा दी है. कोरोना के सभी लहरों एवं कोरोना
के लक्षण
की जानकारी हम यहाँ प्रदर्शित कर रहे है.

कोरोना पहली लहर

दुनिया में जब कोरोना की शुरुआत हुई
थी तो उसे कोरोना की पहली लहर कहा जा सकता है। इसकी शुरुआत दिसम्बर 2019 से मानी जाती है
जब कोरोना दुनिया के कई हिस्सों में अपने पैर पसार चुका था। यह दुनिया में अलग –
अलग हिस्सों के साथ भारत में भी आ चुका था, भारत में पहला
केस केरल राज्य में मिला था।

कोरोना पहली लहर लक्षण

कोरोना की पहली लहर में मरीजों को
कुछ इस प्रकार की समस्याएं होती थी। 

  • कोरोना मरीजों को सर्दी व जुकाम के साथ – साथ तेज खांसी की
    समस्या होती थी। 
  • तेज बुखार और बदन का टूटना। 
  • गले में खराश का होना साथ ही खाने के स्वाद में बदलाव का आना। 
  • कोरोना संदिग्धों के गले में दर्द व सूखापन की समस्या भी होती
    थी। 

कोरोना की पहली लहर में मरीजों में इस प्रकार के लक्षण देखे गये है।
भारत में अगस्त माह के बाद कोरोना के मरीजों में कमी देखी गई थी साथ ही मरीजों की
रिक्वरी भी तेजी की दर से होने लगी थी।

कोरोना दूसरी लहर

देश कोरोना की पहली लहर से उभर ही रहा था की देश में कोरोना की दूसरी
लहर की शुरुआत हो चुकी थी. विशेषज्ञों का मानना था कि यह दूसरी लहर पहली लहर से भी
खतरनाक हो सकती है। डॉक्टर की मानें तो इस लहर में लोगों को काफी ज्यादा खतरा है, अगर लोग लापरवाही करने से भी नही मानते है, तो आने वाला समय काफी खतरनाक
साबित हो सकता है।

कोरोना दूसरी लहर लक्षण

कोरोना की इस दूसरी लहर में मरीजों को कुछ इस प्रकार की समस्या का
सामना कर पड़ सकता है।

  • मरीज के शरीर में दर्द एवं पीड़ा।
  • गले में सूखी खराश।
  • तेज दस्त लगना।
  • आँख आना या आंखों में तकलीफ होना।
  • तेज सिरदर्द।
  • स्वाद या गंध का चला जाना।
  • त्वचा पर दाने या उंगलियों या पैर की उंगलियों का काटना, चुभना या लाल
    होना।
  • मरीज जो इस समस्या से जूझ रहे है उनमे ऐसा देखा गया है की उनके
    शरीर में ऑक्सीजन का स्तर एकदम से गिर जाता है, जिससे उन्हें सांस लेने
    में परेशानी हो रही है.
  • मरीज के सीने में दर्द व सीने में कफ की समस्या का उत्पत्र होना।
  • शरीर में थकान का होना व शरीर का टूटना। 

साल 2020
के दिसंबर माह में कोरोना का कहर एकदम खत्म होता दिखाई दे रहा था की
अचानक कोरोना एक नया स्ट्रेन सामने आ गया, जिसमें मरीजों को सांस की समस्या ज्यादा
होने लगी. काफी गम की बात है की इस नये लहर में लोगों ने अपने भी काफी खोये है। 

कोरोना तीसरी लहर

महाराष्ट्र व दिल्ली के हालात देखे तो ऐसा लग रहा है की दोनों जगहों पर कोरोना की तीसरी लहर आ चुकी है। कोरोना की दूसरी लहर के लक्षण ही तीसरी लहर में देखने को मिलते है.

कोरोना तीसरी लहर लक्षण

फर्क सिर्फ इतना ही है कि इस तीसरी लहर में या इस नये स्ट्रेन में मरीज के शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता झट से कम हो जाती है, एवं मरीज की सांस भी अचानक से कम हो जाती है। यह एक बहुत बड़ा कारण है जिससे यह कहा जा सकता है कि कोरोना की तीसरी लहर ने भारत में दस्तक दे दी है.

कोरोना कैसे फ़ैल रहा है

कोरोना से बचने के उपाय जानने से
पहले हमें इसके संक्रमण की जानकारी होनी चाहिए। कोरोना किसी कोरोना संक्रमित के
संपर्क में आने से फैलता है। किन्तु अगर कोई कोरोना संक्रमित आपके सम्पर्क में आता
है तो आपको उसके बाद क्या करना चाहिए, यह जानना भी काफी जरूरी है। 

  • अगर आपको लगता है की आप कोरोना संक्रमित मरीज के संपर्क में आये
    है तो सबसे पहले अपने हाथों को सेनेटाइज करें। 
  • यह कोशिश करें की आपके हाथ आपके मुंह तक न जाय न ही आपके हाथ आपके
    नाक को स्पर्श करे। क्योंकि कोई भी वायरस हमारे शरीर में मुंह या नाक के
    जरिये ही प्रवेश करता है। 

कोरोना से बचने के उपाय

कोरोना
से बचने के उपाय
आपको हम नीचे बता रहे हैं –

  • नीम के पेड़ के पत्तों का सेवन करें साथ ही नीम गिलोय की टहनी का सेवन, यह दोनों आपके शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में मदद करते है। 
  • भीड भाड के इलाके में जाने से बचें साथ ही बाहर जाते समय 2 मास्क या अच्छी क्वालिटी के मास्क का प्रयोग करें। 
  • दूसरों से सामाजिक दूरी बनाए रखें।
  • अगर आपको ऐसा महसूस होता है की आपके शरीर में तकलीफ है तो तुरंत डॉक्टर को दिखाएं।

हम उम्मीद करते है की इस लेख में
कोरोना वायरस से संबंधित बताई गई रोचक जानकारी आपको पसंद आई होगी। अतः कोरोना की
गाइडलाइन का पालन करे और अपना एवं अपनों का बचाव करें।  

FAQ

Q : कोरोना क्या है ?

Ans : कोरोना संक्रमण से फैलने वाली एक बीमारी है। 

Q : वर्तमान में भारत में कोरोना की कौन सी लहर तबाही मचा रही है ? 

Ans : दूसरी एवं तीसरी 

Q : कोरोना का सबसे बडा उपचार क्या है ?

Ans : कोरोना से बचाव ही उपचार है। 

Q : कोरोना की शुरूआत कब हुई थी ? 

Ans : विश्वव्यापी महामारी की शुरुआत दिसम्बर 2019 से मानी जाती है। 

अन्य पढ़ें –

Leave a Comment