कंप्यूटर और कैलकुलेटर में अंतर क्या है?

[ad_1]

कंप्यूटर और कैलकुलेटर में क्या अंतर है? वैसे तो कंप्यूटर और कैलकुलेटर दोनों ही मशीन एक इंसान के काम को आसान बनाने के लिए बनाए गए हैं. लेकिन जब उपयोगिता की बात होती हैं, तब इन दोनों में बहुत अंतर देखने को मिलता है. कंप्यूटर और कैलकुलेटर में अंतर को हमने इस लेख में अलग-अलग पॉइंट्स के मदद से समझाया है. तो इसे पूरा जरूर पढ़े

कंप्यूटर और कैलकुलेटर के बीच के अंतर को जानने से पहले यह जाना जरूरी है कि कंप्यूटर क्या है? और कैलकुलेटर क्या है? इन दोनों मशीनों के जानने के बाद आप उनके बीच के अंतर को और भी अच्छे ढंग से समझ पाएंगे.

कंप्यूटर क्या है?

कंप्यूटर एक ऐसा इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है जिसके मदद से डाटा और इंफॉर्मेशन को स्टोर, अरेंज, व्यवस्थित करने के साथ-साथ इसे कैलकुलेट भी किया जाता है. डाटा को कंट्रोल करने के साथ-साथ कंप्यूटर दूसरे डिवाइस को भी कंट्रोल करता है. सरल शब्दों में कहें तो कंप्यूटर इनपुट डिवाइस द्वारा दिए गए डाटा को प्रोसेस करके उसका रिजल्ट यूजर तक पहुंचाने का कार्य करता है.

कैलकुलेटर क्या है?

कैलकुलेटर एक छोटा सा यांत्रिक मशीन है जिसके मदद से बड़ी-बड़ी कैलकुलेशन की जाती हैं. यह एक ऐसी मशीन है जो यूजर को बड़े-बड़े मैथ के ऑपरेशन आसानी से हल करने में मदद करता है. कैलकुलेटर को आसानी से सब खरीद सकते हैं.

आजकल तो मोबाइल और कंप्यूटर में भी कैलकुलेटर आने लगे हैं. यह कैलकुलेटर इतने छोटे होते हैं कि नहीं पॉकेट में भी लेकर घुमा जा सकता है. बड़े-बड़े संख्या को जोड़ने घटाने के लिए व उनका प्रतिशत निकालने के लिए भी कैलकुलेटर का इस्तेमाल किया जाता है.

कंप्यूटर और कैलकुलेटर के बीच अंतर

computer aur calculator me antar

वैसे तो कंप्यूटर और केलकुलेटर दोनों को ही मनुष्य के काम को आसान बनाने के लिए बनाया गया है और दोनों ही यूजर द्वारा दिए गए डाटा को प्रोसेस करके रिजल्ट निकालने का काम करते हैं लेकिन फिर भी इन दोनों में बहुत बड़ा अंतर है.

कंप्यूटर एक बड़ा डिवाइस होता है और कैलकुलेटर एक छोटा सा डिवाइस होता हैं. कंप्यूटर में नंबर के अलावा भी कई सारे कैलकुलेशन की जा सकती हैं और दूसरे तरीके के भी काम किए जा सकते हैं. लेकिन केलकुलेटर में केवल नंबर की गणना की जाती हैं.

यह कंप्यूटर और कंप्यूटर के बीच का सबसे प्राथमिक अंतर है.

इसके अलावा कंप्यूटर और कैलकुलेटर में कई दूसरे अंदर देखने को भी मिलते हैं जिसे आप अगले प्रश्नों को पढ़कर समझ जाएंगे.

तुलना करने का आधार CALCULATOR COMPUTER
Calculation करने की Complexity Reasonable Prime
Reminiscence Much less (काफ़ी कम) Extra (काफ़ी ज़्यादा)
दूसरे कार्य नहीं किया जा सकता है आसानी से किया जा सकता है
Programming language इसमें कोई भी programming language का कॉन्सेप्ट नहीं है इसमें ढेर सारे programming language मिलेंगे.

कंप्यूटर और कैलकुलेटर में क्या अंतर है?

कंप्यूटर और केलकुलेटर के बीच के अंतर को नीचे दिए गए पॉइंट्स में व्यक्त किया गया है.

कंप्यूटर quantity के ऊपर तो काम करता ही है साथ ही साथ कंप्यूटर alphabets पर भी काम करता है. लेकिन वही केलकुलेटर केवल quantity की गणना करता है.

कंप्यूटर के मदद से किसी भी चीज की गणना करने पर हो एक साथ अलग-अलग तरह के रिजल्ट शो कर सकता है. वही कैलकुलेटर में किसी भी चीज की गणना करने पर वह केवल एक ही रिजल्ट शो कर सकता है.

कंप्यूटर अलग-अलग प्रोग्राम के मदद से कार्य करता है वही कैलकुलेटर में किसी तरह का प्रोग्राम काम नहीं करता कैलकुलेटर बिना प्रोग्राम के अपना काम पूरा करता है.

कंप्यूटर की मेमोरी कैलकुलेटर की तुलना में बहुत बड़ी होती है, यही कारण है कि कंप्यूटर में प्रोसेस किया जाने वाला डाटा उसके मेमोरी में स्टोर रहता है. कैलकुलेटर के पास बहुत छोटी सी मेमोरी होती है इसीलिए गणना करने के बाद केलकुलेटर में उपस्थित डाटा अपने आप डिलीट हो जाता है.

कंप्यूटर में दो तरह की मेमोरी पाई जाती है पहला स्थाई और दूसरा अस्थाई लेकिन कैलकुलेटर में सिर्फ अस्थाई मेमोरी ही पाई जाती हैं.

कंप्यूटर का उपयोग कई सारे अलग-अलग कार्यों को करने में किया जाता है जैसे challenge बनाने, ईमेल करने, वीडियो बनाने व एडिट करने, वीडियो कॉल करने, एप्लीकेशन बनाने, सॉफ्टवेयर बनाने, ग्राफिक्स बनाने में किया जाता है. वही कैलकुलेटर के मदद से सिर्फ गणना की जा सकती हैं.

कंप्यूटर के मदद से अलग-अलग तरह के ग्राफिक्स बनाए जा सकते हैं. लेकिन कैलकुलेटर का उपयोग कर किसी भी तरह का ग्राफिक नहीं बनाया जा सकता है.

कंप्यूटर के मदद से दूसरे डिवाइस को भी आसानी से कंट्रोल किया जा सकता है जैसे पेनड्राइव, प्रोजेक्टर, प्रिंटर, स्पीकर, माइक्रोफोन आदि. लेकिन कैलकुलेटर के जरिए किसी भी डिवाइस को कंट्रोल नहीं किया जा सकता है.

कंप्यूटर में प्रोसेस किए जाने वाला डाटा को सॉफ्ट कॉपी से हार्ड कॉपी में बदला जा सकता है. लेकिन केलकुलेटर में जाने वाले कैलकुलेशन को सीधे हार्ड कॉपी में नहीं बदला जा सकता है.

कंप्यूटर की स्क्रीन अलग-अलग साइज में पाई जाती हैं लेकिन कैलकुलेटर की स्क्रीन एक छोटी पट्टी जितनी होती हैं.

कंप्यूटर की स्क्रीन में नंबर्स कैलकुलेशन के अलावा इमेज, वीडियो, ग्राफिक्स भी देखा जा सकता है. लेकिन कैलकुलेटर की स्क्रीन में सिर्फ नंबर्स को ही देखा जा सकता हैं. वहीं कैलकुलेटर की स्क्रीन में किसी भी तरह की इमेज और वीडियो नहीं देखी जा सकती हैं.

कंप्यूटर में जिस स्क्रीन का उपयोग किया जाता है उसे मॉनिटर कहते हैं. डेस्कटॉप कंप्यूटर में मॉनिटर और कीबोर्ड अलग-अलग होते हैं और लैपटॉप कंप्यूटर में स्क्रीन कीबोर्ड के साथ अटैच होती हैं लेकिन डेस्कटॉप कंप्यूटर के तरह ही सभी कार्य करती हैं. कैलकुलेटर में भी स्क्रीन उसमे पहले से ही connect होती हैं.

कंप्यूटर एक ऐसा उपकरण है जिसका उपयोग सूचनाओं को संग्रहित करने के लिए किया जाता है और फिर यूजर द्वारा दिए जाने वाले निर्देशों के आधार पर कंप्यूटर उन सूचनाओं को प्रोसेस करता हैं. कैलकुलेटर का उपयोग गणित और बीजगणित के समस्याओं का हल करने के लिए किया जाता है.

कंप्यूटर के अंदर अपना एक कैलकुलेटर का प्रोग्राम काम करता है लेकिन वही कैलकुलेटर में कंप्यूटर की एक भी विशेषता नहीं होती हैं.

क्या एक कैलकुलेटर एक कंप्यूटर होता है?

एक कैल्क्युलेटर को हम एक मिनी कम्प्यूटर कह सकते हैं. क्यूँकि एक calculator एक ऐसा छोटा सा डिवाइस होता है जो की केवल mathematical calculations के लिए ही उपयोग किया जाता है. वहीं एक कम्प्यूटर की मदद से हम कॉम्प्लेक्स चीजें कर सकते हैं. 

कौन ज़्यादा तेज होता है कैलकुलेटर या कंप्यूटर?

कम्प्यूटर बहुत ज़्यादा तेज होता है कैल्क्युलेटर की तुलना में.

क्या दुनिया का पहला कम्प्यूटर एक कैलकुलेटर था?

जी हाँ, दुनिया का पहला कम्प्यूटर एक calculator ही था. इसका नाम था Pascaline. इसे एक Mathematics Device भी कहा जाता था. वहीं इसे डिज़ाइन और बनाया गया था एक French mathematician-philosopher Blaise Pascal जी के द्वारा सन 1642 और 1644 के बीच में.

दुनिया का पहला कैलकुलेटर कौन सा है?

दुनिया का पहला calculator था Pascaline. ये वो पहला ऐसा मशीन था जो की आसानी से mathematics operation करने में सक्षम था.

क्यूँ एक कैलकुलेटर को हम एक कम्प्यूटर नहीं कह सकते हैं?

एक laptop वो सभी चीजें करसकता है जो की एक calculator कर सकता है. लेकिन वहीं एक कैल्क्युलेटर वो सभी चीजें नहीं कर सकता है जो की एक कम्प्यूटर करने में सक्षम होता है. यानी की ये logical और extremely complicated issues को करने में असक्षम होता है. वहीं एक कम्प्यूटर को प्रोग्राम किया गया होता है जिससे वो खुद से निर्णय ले सकता है, वहीं कैल्क्युलेटर ये नहीं कर सकता है. 

दुनिया में पहले क्या आया कैलकुलेटर या कम्प्यूटर?

दुनिया में पहले एक calculator ही आया. बाद में इसे विकाशित किया गया ज़्यादा से ज़्यादा ऑपरेशन कर सकने के लिए.

आज आपने क्या सीखा?

मुझे आशा है कि आपको हमारा यह काम पसंद आया होगा. “कंप्यूटर और कैलकुलेटर में अंतर” यह लेख आपको कैसा लगा नीचे कमेंट करके जरूर बताइए. अगर आपको यह लेख पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ सोशल मीडिया में जरूर शेयर कीजिए.

हम आपके लिए इस तरह के जानकारियों से भरी पोस्ट लेकर आते रहते हैं तो हमारे ब्लॉग से जुड़े रहे हैं और हमारे दूसरे पोस्ट भी जरूर पढ़े. हमारा दावा है कि आपको उन लेख से जरूर फायदा होगा तो आप पढ़ कर खुद ही देख लीजिए.

Leave a Comment